उत्तर प्रदेश

UP : फिरोजाबाद में माँ सहित दो बहनों की बंद मकान में लाशें मिलने से दहशत, बेटियों के खौफनाक कदम की जांच में जुटी पुलिस

Janjwar Desk
6 Jun 2021 8:47 AM GMT
UP : फिरोजाबाद में माँ सहित दो बहनों की बंद मकान में लाशें मिलने से दहशत, बेटियों के खौफनाक कदम की जांच में जुटी पुलिस
x

फिरोजाबाद के बंद पड़े मकान के अंदर माँ सहित दो बहनों की लाशें मिलने पर जांच करती पुलिस.

एसएसपी के मुताबिक रेनू और ममता अपने माता-पिता के साथ रहती थीं। चर्चा है कि रेनू और ममता एमएससी और बीएससी कर रही थी जो परीक्षा में फेल हो गई थी। इसके चलते दोनों बहनों ने मानसिक संतुलन भी खो दिया था...

जनज्वार, फिरोजाबाद। यूपी के फिरोजाबाद स्थित थाना नारखी के गांव नारखी धौकल में शनिवार शाम करीब 7 बजे एक मकान से निकलता खून और दुर्गंध महसूस होने पर ग्रामीणों को कुछ शंका हुई। मकान का दरवाजा अंदर से बंद था। सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने दरवाजा खोला तो मकान के अंदर का मंजर देखकर हर कोई सन्न रह गया।

अंदर एक कमरे में विमलेश उर्फ विमला और उनकी दो बेटियों रेनू व ममता के शव क्षत-विक्षत हालत में मिले। बेटियों के शव फंदे से लटके थे, मां का शव फर्श पर पड़ा था। प्राथमिक जांच के आधार पर पुलिस ने बताया कि दोनों बेटियों ने ही मां की हत्या कर आत्महत्या की है, लेकिन घटना को लेकर ग्रामीणों में कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं।

सबके जहन में एक ही सवाल था कि दोनों बेटियों ने इतना खौफनाक कदम क्यों उठाया? एसएसपी अशोक कुमार ने बताया कि वेदराम जाटव के तीन पुत्र और दो पुत्रियां ममता और रेनू हैं। तीनों पुत्र अलग-अलग रहते हैं। रेनू और ममता अपने माता-पिता के साथ रहती थीं। चर्चा है कि रेनू और ममता एमएससी और बीएससी कर रही थी जो परीक्षा में फेल हो गई थी। इसके चलते दोनों बहनों ने मानसिक संतुलन भी खो दिया था।

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक वेदराम के परिवार से ग्रामीणों की अधिक बातचीत भी नहीं होती थी। वेदराम बाहर रहता था जबकि तीनों पुत्र अलग-अलग रहते थे। एक पुत्र शैतान सिंह घर के पास ही रहता था, जबकि दो पुत्र शहर में परिवार के साथ रहते हैं। पिछले तीन-चार दिनों से ग्रामीणों ने वेदराम की दोनों पुत्रियों और उसकी पत्नी को नहीं देखा था।

शनिवार 5 मई को दुर्गंध आने के साथ ही दरवाजे से खून बहता हुआ दिखाई दिया, तब ग्रामीणों ने पुलिस को सूचना दी। एसएसपी अशोक कुमार ने बताया कि जब घटनास्थल का निरीक्षण किया गया तो घर के अंदर लोहे का मूसल रखा मिला था, जिसमें खून लगा हुआ था। आशंका है कि दोनों बहनों ने उसी लोहे की वस्तु से अपनी मां के सिर पर प्रहार कर हत्या की है। उसको कब्जे में ले लिया गया है। तीनों शवों का पोस्टमार्टम कराया गया है।

घटना की जानकारी पर पुलिस जब मौके पर पहुंची थी, तब दरवाजा अंदर से बंद था। पुलिसकर्मी को छत के रास्ते मकान के अंदर भेजा गया तो दरवाजे के अंदर ताला लगा हुआ था। पुलिस ने वीडियोग्राफी कराकर दरवाजा तोड़कर अंदर प्रवेश किया। ग्रामीणों के बीच इस तरह की चर्चा थी कि वेदराम के परिवार की माली हालत ठीक नहीं थी। दोनों बेटियां आगरा में रहकर पढ़ाई करती थीं। वहीं पढ़ाई का खर्चा पूरा करने के लिए वे नौकरी भी करती थीं।

घटनास्थल का निरीक्षण करने के साथ ही पुलिस ने अपनी जांच में कई बिंदु शामिल किए हैं। जांच में पहला बिंदु पुलिस ने मानसिक संतुलन शामिल किया है। तो वहीं पुलिस इस बिंदु पर भी जांच कर रही है कि जब दोनों बेटियों को आत्महत्या करनी थी तो उन्होंने अपनी मां का कत्ल क्यों किया?

Next Story

विविध