उत्तर प्रदेश

Agra News : ताजमहल परिसर में नमाज पढ़ रहे 4 पर्यटक गिरफ्तार, ये है बड़ी वजह

Janjwar Desk
26 May 2022 4:37 AM GMT
ताजमहल के साये में आजीविका चलाने वालों के सामने गहराया रोजी-रोटी का संकट, जानें कैसे
x

ताजमहल के साये में आजीविका चलाने वालों के सामने गहराया रोजी-रोटी का संकट, जानें कैसे

Agra News : ताजमहल परिसर में नमाज पढ़ रहे 4 पर्यटक गिरफ्तार।

Agra News : उत्तर प्रदेश के आगरा ( Agra ) के ताजमहल परिसर से पुलिस ने 4 लोगों को गिरफ्तार किया है। ताजा जानकारी के मुताबिक चारों पर्यटकों ( four tourists arrested )को नियमों का उल्लंघन करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

शुक्रवार को सिर्फ स्थानीय लोगों को है नमाज पढ़ने की इजाजत

ताजमहल परिसर में स्थित मस्जिद में बुधवार को सीआईएसएफ ने चार युवकों को नमाज पढ़ते हुए पकड़ा था। चारों युवक परिसर में बनी मस्जिद में नमाज पढ़ रहे थे जबकि मस्जिद में केवल शुक्रवार को ही नमाज पढ़ने की इजाजत है। CISF ने चारों युवकों को ताजगंज पुलिस के हवाले कर दिया। चारों ही युवक ताजमहल देखने के लिए यहां आए थे। इसमें से तीन युवक हैदराबाद के हैं। एक आजमगढ़ का निवासी है। घटना शाम करीब पौने सात बजे की है। शुक्रवार को ताजमहल में सिर्फ स्थानीय लोगों को आईडी दिखाने के बाद नमाज के लिए प्रवेश दिया जाता है।

पूजा करने पर 1 साल पहले हिंदू महासभा के 3 कार्यकर्ता हुए थे गिरफ्तार

एक साल पहले यानि मार्च 2021 में हिंदू महासभा के तीन सदस्यों को ताजमहल परिसर के अंदर भगवान शिव की पूजा करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। उस समय ताजगंज थाने के निरीक्षक उमेश चंद्र त्रिपाठी ने बताया कि स्मारक पर तैनात केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल के जवानों द्वारा तीनों को पकड़कर पुलिस को सौंपे जाने के बाद एक महिला समेत तीनों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है।

2018 में सुप्रीम कोर्ट ने लगाई थी रोक

Agra News : जुलाई 2018 में सुप्रीम कोर्ट ने ताजमहल ( Taj Mahal ) में बाहरी मुस्लिमों के नमाज पढ़ने पर रोक लगा दी थी। इस मामले में ताजमहल मस्जिद प्रबंधन समिति के अध्यक्ष इब्राहीम हुसैन जैदी की ओर से दायर याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने दायर कर दिया था। उस समय इब्राहीम हुसैन जैदी ने बताया कि न्यायमूर्ति एके सिकरी और न्यायमूर्ति अशोक भूषण की पीठ ने कहा कि ताजमहल दुनिया के सात अजूबों में से एक है और लोग दूसरी मस्जिदों में भी नमाज पढ़ सकते हैं।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध