Top
राजनीति

'सुनियोजित नरसंहार था दिल्ली दंगा, पूरे देश में गुजरात मॉडल लागू करना चाहती है भाजपा'

Prema Negi
2 March 2020 9:03 AM GMT
सुनियोजित नरसंहार था दिल्ली दंगा, पूरे देश में गुजरात मॉडल लागू करना चाहती है भाजपा
x

ममता बोलीं, मैं उन लोगों की निंदा करती हूं जिन्होंने कोलकाता की सड़कों पर 'देश के गद्दारों को, गोली मारो..' के लगाये नारे, यह दिल्ली नहीं है, कोलकाता में 'गोली मारो...' जैसे नारों को नहीं किया जाएगा बर्दाश्त...

जनज्वार। दंगों से दहली दिल्ली में अब तक तकरीबन 50 लोगों की मौत की पुष्टि हो चुकी है और अभी भी लाशों के मिलने का सिलसिला थमा नहीं है। 3 दिनों तक हुए भीषण नरसंहार और जान-माल की क्षति को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सुनियोजित करार दिया है। उनका कहना है कि मोदी-शाह की अगुवाई में भाजपा पूरे देशभर में गुजरात मॉडल लागू करना चाहती है और यह गुजरात दंगों का ही अगला रूप है।

क रैली में पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा है दिल्ली में हुआ दंगा पूरी तरह से सुनियोजित नरसंहार था। यह हमला ममता ने केंद्र की भाजपा सरकार पर तब किया है, जबकि केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने कोलकाता में रैली करते हुए ममता बनर्जी की सरकार पर हिंसा और गुंडई करने का आरोप लगाया था। उसी के बाद ममता बनर्जी ने दिल्ली हिंसा के बाद अमित शाह और केंद्र सरकार पर निशाना साधा है।

दिल्ली हिंसा के बाद ममता बनर्जी ने कहा कि 'दिल्ली में व्यापक पैमाने पर हुई हिंसा सुनियोजित नरसंहार थी, मासूम लोगों की हत्या से मैं अत्यंत दुखी हूं। भारतीय जनता पार्टी पश्चिम बंगाल समेत पूरे देश में दंगों का गुजरात मॉडल लागू करने की कोशिश कर रही है।

विवार 1 मार्च को अमित शाह की रैली में जा रहे भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा कोलकाता में 'गोली मारो...' के नारे लगने की खबर मीडिया में वायरल थी। ममता बनर्जी ने इस पर कहा, कि 'मैं उन लोगों की निंदा करती हूं जिन्होंने कोलकाता की सड़कों पर 'गोली मारो..' के नारे लगाए। इस बारे में कानून अपना काम करेगा। यह दिल्ली नहीं है, कोलकाता में 'गोली मारो...' जैसे नारों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा।

कोलकाता में आयोजित रैली में केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर दंगे भड़काने का आरोप लगाते हुए कहा था कि विपक्ष CAA-NRC का डर दिखाकर लोगों को डरा रहा है और दंगे भड़का रहा है। ममता बनर्जी भी जब विपक्ष में थीं तो उन्‍होंने शरणार्थियों के लिए नागरिकता का मुद्दा उठाया था। जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी CAA ले आए तो वह एक बार फिर से कांग्रेस और वामपंथियों के साथ विरोध में खड़ी हैं। ममता बनर्जी अल्‍पसंख्‍यकों में भय पैदा कर रही हैं कि वे अपनी नागरिकता खो देंगे।'

टीएमसी सांसद अभिषेक बनर्जी ने अमित शाह पर पर हमलावर होते हुए कहा था, 'बंगाल आकर उपदेश देने के बजाय अमित शाह को दिल्ली हिंसा पर स्पष्टीकरण देना चाहिए और माफी मांगनी चाहिए। आपकी नाक के नीचे हिंसा हुई और 50 से ज्यादा निर्दोष लोगों की जान चाहिए। अमित शाह जी, बीजेपी जो नफरत और कट्टरता बंगाल में फैलाना चाह रही है, बंगाल उसके बिना ही ठीक है।'

Next Story

विविध

Share it