Top
राजनीति

मोदी की रैली के लिए पटना पहुंचे देशभक्त 'भाजपाई दिग्गजों' ने क्यों नहीं दी शहीद पिंटू को श्रद्धांजलि

Prema Negi
3 March 2019 10:38 AM GMT
मोदी की रैली के लिए पटना पहुंचे देशभक्त भाजपाई दिग्गजों ने क्यों नहीं दी शहीद पिंटू को श्रद्धांजलि
x

मोदी के लिए आयोजित चुनावी संकल्प रैली के आगे CRPF इंस्पेक्टर की शहादत इतनी फीकी पड़ गई कि किसी भाजपा मंत्री तो छोड़िए छोटे-मोटे नेता तक को सुबह 8 बजे पटना एयरपोर्ट पहुंचे शहीद के पार्थिव शरीर को फूल चढ़ाना याद न रहा...

जनज्वार। प्रधानमंत्री की रैली के लिए पटना में आज मुख्मंत्री नीतीश कुमार समेत भाजपा के बड़े-बड़े नेता मौजूद रहे, मगर कोई भी बगल के जिले बेगूसराय में मौजूद शहीद पिंटू सिंह को श्रद्धांजलि देने नहीं पहुंचा, बेगूसराय तो ​छोड़िए पटना एयरपोर्ट पर जब शहीद का पार्थिव शरीर लाया गया तब भी वहां भाजपा का कोई नेता मौजूद नहीं था, दोहरे देशभक्ति के मापदंडों को देख लगता है देशभक्ति के दावे सिर्फ मंचों से ही करने के लिए होते हैं।

संकल्प रैली में हिस्सेदारी करने के लिए पटना में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा और केंद्रीय स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे समेत और भी कई बड़े नेता मौजूद थे। पटना एयरपोर्ट पर पिंटू सिंह का पार्थिव शरीर सुबह 8 बजकर 15 मिनट पर लाया गया था।

मोदी के लिए आयोजित चुनावी संकल्प रैली के आगे CRPF इंस्पेक्टर की शहादत इतनी फीकी पड़ गई कि किसी भाजपा मंत्री तो छोड़िए छोटे-मोटे नेता तक को फूल चढ़ाना याद न रहा।

प्रधानमंत्री मोदी खुद आज 3 मार्च की सुबह 10.05 बजे 'संकल्प' रैली में हिस्सेदारी करने के लिए दिल्ली एयरपोर्ट से विशेष विमान से पटना एयरपोर्ट के लिए रवाना हो 11.40 बजे पटना एयरपोर्ट पर पहुंचे, जहां मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने उनका स्‍वागत किया। फिर वहां से गांधी मैदान में 12 बजे के बाद पहुंचे और उन्‍होंने 12.45 बजे रैली को संबोधित किया। मोदी 1.55 बजे के बाद पटना एयरपोर्ट से दिल्ली के लिए वापस लौट गए।

रैली में बोलते हुए मोदी ने विपक्ष पर तंज कसने में कोई कसर नहीं छोड़ी, कहा देश के दुश्‍मनों से चुन-चुनकर हिसाब लेंगे, चौकीदार चौकन्‍ना है, मगर यही चौकीदार और उसकी पार्टी के तमाम दिग्गजों में से कोई भी पिंटू सिंह के परिवार के पास शोक व्यक्त करने तक नहीं जा पाया।

जो नीतीश प्रधानमंत्री मोदी के स्वागत में एयरपोर्ट पहुंच जाते हैं, वह एक शहीद को श्रद्धांजलि देना जरूरी नहीं समझते। हां, मंच से जरूर श्रद्धांजलि दे इतिश्री कर लेते हैं।

गौरतलब है कि आज ही जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा में एनकाउंटर में शहीद हुए 4 जवानों में से एक बेगूसराय बखरी के बगरस ध्यान चक्की गांव के सीआरपीएफ जवान पिंटू कुमार सिंह का पार्थिव शरीर पटना एयरपोर्ट पर लाया गया था। वहां उनको श्रद्धांजलि देने के लिए डीएम-एसएसपी और एक कांग्रेस के नेता के अलावा कोई नहीं पहुंचा था, जबकि इस दौरान भाजपा और उसके सहयोगी दलों के तमाम नेता पटना में मौजूद थे। पटना में आज प्रधानमंत्री मोदी की अगुवाई में संकल्प रैली आयोजित हुई थी।

जो नीतीश शहीद के पार्थिव शरीर को एयरपोर्ट तक पर श्रद्धांजलि नहीं दे पाए, रैली में गरजे कि पुलवामा हमले के बाद प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में भारत ने आतंकवाद का कड़ा जवाब दिया है। आतंकियों के खिलाफ प्रधानमंत्री ने जो पहले की, उसके बाद आतंकवाद के खिलाफ सब लोग एकजुट हुए। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बिहार साथ है। आतंकवाद से कोई समझौता नहीं होगा। आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में बिहार के भी कई जवान शहीद हुए हैं।'

शहीद पिंटू सिंह के परिजन सरकार के इस रवैये से खफा हैं कि न तो नीतीश सरकार और न ही केंद्र की मोदी सरकार का कोई मंत्री-नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने पहुंचा। पटना एयरपोर्ट पर जब शहीद का शव लाया गया तो मौके पर सिर्फ कांग्रेस नेता मदन मोहन झा मौजूद थे।

Next Story

विविध

Share it