Top
राजनीति

बच्चा चोरी के शक में मध्यप्रदेश के धार जिले में 7 लोगों की मॉब लिंचिंग, एक व्यक्ति की मौत

Nirmal kant
6 Feb 2020 7:03 AM GMT
बच्चा चोरी के शक में मध्यप्रदेश के धार जिले में 7 लोगों की मॉब लिंचिंग, एक व्यक्ति की मौत
x

बच्चा चोरी के शक में भीड़ ने सात लोगों पर किया हमला, एक व्यक्ति की मौत, खेत के मालिक से अपनी मजदूरी का पैसा लेने के लिए आये थे लोग...

भोपाल से रोहित शिवहरे की रिपोर्ट

जनज्वार। मध्यप्रदेश के धार जिले में बुधवार को बच्चा चोरी की शक में भीड़ ने 7 लोगों को लात और पत्थरों से बेरहम पिटाई की। जब वे लोग जान बचाकर भागे तो दूसरे गांव में फोन करके अफवाह फैला दी है कि बच्चा चोरी करके भाग रहे हैं। जहां भीड़ ने उन्हें घेर लिया और बुरी तरह दौड़ा-दौड़ाकर पीटा। इस घटना में एक व्यक्ति की मौत हो गई जबकि बाकी पांच लोग की हालत गंभीर हैं।

ज्जैन जिले के लिंबा पिपरिया गांव के पास खेत मालिकों ने खगड़िया के अवतार सिंह, राजेश, राम सिंह, सुनील व महेश को मजदूरी के लिए रखा था। 50-50 हजार एडवांस भी दिए थे। कुछ दिन की मजदूरी के बाद यह लोग भाग गए। इसके बाद ये लोग जब बकाया राशि लेने के लिए खेत मालिक के पास दो कार में सवार होकर बुधवार सुबह खगड़िया पहुंचे तो यहां ग्रामीणों ने पत्थरों से उन पर हमला कर दिया।

संबंधित खबर : इलाहाबाद में एक हफ्ते के भीतर बच्चा चोरी के नाम पर मॉब लिंचिंग की 9 वारदातें, पुलिस जांच में सब अफवाह

ब वह जान बचाकर मनावर के बुलाए गांव पहुंचे तो फोन कर अफवाह फैला दी गई कि बच्चा चोरी कर भाग रहे हैं।बाजार का दिन होने की वजह से बोलाई में काफी भीड़ थी। लोगों ने किसानों की गाड़ियां देखते लात और पत्थरों से हमला कर दिया। वहां 500 से ज्यादा लोग मौजूद थे जिन्हें भीड़ में बदलते वक्त नहीं लगा और भीड़ ने दौड़ा दौड़ा कर इन लोगों की पिटाई की।

चालक गणेश की उपचार के दौरान उनकी मौत हो गई। इसके अलावा जगदीश राधेश्याम शर्मा, नरेंद्र सुंदरलाल शर्मा, विनोद तुलसीराम मुकाती, रवि पटेल व जगदीश पूनमचंद्र शर्मा को इंदौर लाया गया है।

गदीश शर्मा ने मीडिया से बातचीत में बताया कि 2 गाड़ियों में जैसे हम गांव पहुंचे लोगों ने पथराव शुरू कर दिया। जब हम गाड़ी घुमाकर भागे कुछ ही दूर चले थे कि भीड़ ने घेर लिया। लोग चिल्ला रहे थे कि बच्चा चोर को मारो, जिंदा मत छोड़ना। भीड़ हमें बाहर निकालकर बुरी तरह पीटने लगी। लग रहा था मैं नहीं बचूंगा। मुझे कुछ लोग अस्पताल लेकर आए।

ब बोरलाई में सामने से एक बस आ गई और क्रॉसिंग में बाहर निकल नहीं पाए। फिर भीड़ ने उन्हें घेर लिया। इनमें से दो व्यक्ति एक घर में घुस गए। पुलिस की मौजूदगी में बाहर निकाला। फिर भी भीड़ ने इनपर पेट्रोल डालकर आग लगाने की कोशिश की थी। इस पूरी घटना के बाद पुलिस ने लोगों पर अब तक धारा 307, 147, 435 के तहत मामला दर्ज किया है।

पूरी घटना के बाद धार कलेक्टर श्रीकांत भनोट ने कहा कि जिन लोगों ने मारपीट की है उन लोगों को चिन्हित कर लिया गया है।

संबंधित खबर : बैकफुट पर मुजफ्फरपुर पुलिस, मॉब लिंचिंग का विरोध करने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ नहीं चलेगा देशद्रोह का मुकदमा

विनोद मुकाती बताते हैं, 'मैंने और गांव के एक गरीब नरेंद्र जगदीश ने 13 तारीख को ब्लॉक के खिरकिया ग्राम के पांच मजदूरों अवतार, जम सिंह, महेश, राजेश, सुनील को खेत में मजदूरी के लिए 5 महीने पहले 50-50 हजार एडवांस दिए थे लेकिन ये सभी पैसा लेकर गुजरात चले गए। आज इन्होंने रुपए लेने के लिए हमें गांव बुलाया था। हमें इलाके का पता नहीं था तो खिरकिया के मुकेश को कार में बिठा लिया। बच्चा चोरी की अफवाह चलाकर लोगों ने हम पर हमला करवा दिया।

Next Story

विविध

Share it