Top
विमर्श

दुनिया के वो 16 देश जहां बहुसंख्यक हैं मुस्लिम, लेकिन उनका संविधान है सेकुलर

Prema Negi
18 March 2020 12:13 PM GMT
दुनिया के वो 16 देश जहां बहुसंख्यक हैं मुस्लिम, लेकिन उनका संविधान है सेकुलर
x

बिना परखे हुए नफ़रत फैलाना बंद होना चाहिए। किसी देश के धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक होने का देश के बहुसंख्यकों का किसी धर्म में विश्वास होने से कोई लेना-देना नहीं है...

वैज्ञानिक और शायर गौहर रजा की टिप्पणी

जनज्वार। मेरे दोस्त नीरज मित्तल जो अमेरिका में रहते हैं, काफ़ी दिन से 'भारत में इस्लामीकरण' (यानी मुसलमानो की तादाद बढ़ रही है और हिंदुओं से ज़्यादा हो जाएगी) से डरे हुए हैं। मगर अभी तक इस 'भारत के इस्लामीकरण' का उन्होंने एक भी प्रमाण नहीं दिया। वो मुझसे बेहतर कम्प्यूटर और मैथेमैटिक्स जानते हैं, मुझे अब भी किसी आंकड़े का इंतज़ार है। हद तब हो गयी जब उन्होंने आरएसएस की अफ़वाह फ़ैक्टरी की बात को बिना परखे हुए फैलाया।

न्होंने कहा कि विश्व में एक भी देश नहीं जहां मुसलमान बहुमत में हों और वह धर्मनिरपेक्ष या लोकतांत्रिक हो। मेरे यह कहने पर कि इंटरनेट पर चेक कर लो उन्होंने लिस्ट मांगी। नीचे लिस्ट मौजूद है। इस लिस्ट का मतलब मुसलमानों को धर्मनिरपेक्ष बताना हरगिज़ नहीं है, इसका मतलब सिर्फ़ इतना ही है कि बिना परखे हुए नफ़रत फैलाना बंद होना चाहिए। किसी देश के धर्मनिरपेक्ष और लोकतांत्रिक होने का देश के बहुसंख्यकों का किसी धर्म में विश्वास होने से कोई लेना-देना नहीं है।

संबंधित खबर : आरएसएस और मुस्लिम ब्रदरहुड की नौ समानताएं जो कर देंगी आपको चकित

नीचे दी गयी लिस्ट का मक़सद यह है दिखाना है कि चीख-चीख कर सौ बार झूठ फैलाने से नीरज जैसे पढ़े-लिखे लोगों पर भी असर पड़ता है। झूठ को सच मान लेते हैं और उसे फैलाते भी हैं। आंकड़े प्यू रिसर्च सेंटर (Pew Research Center) के हैं, मेरे नहीं। देश लोकतांत्रिक तब रहता है जब ज़्यादातर लोग लोकतांत्रिक हों, ना कि तब जब नीरज जैसे लोग धर्मनिरपेक्षता को गालियां देते रहें।

*अजरबैजान की कुल आबादी में 8,6,75,000 (92.2%) मुस्लिम है। अजरबैजान एक धर्मनिरपेक्ष (Secular State) देश है। संदर्भ के लिए उनके संविधान के अनुच्छेद 48 को देखें।

*अल्बानिया की कुल आबादी में 2,5,22,000 (79.9%) मुस्लिम हैं और वह आज एक सेक्युलर देश है। लोग अपने धार्मिक विश्वास करने या ना करने और अपने धार्मिक विश्वास को बदलने के लिए स्वतंत्र हैं।

*बुर्कीना फासो की कुल आबादी में 9,29,2000 (59.0%) मुस्लिम हैं। उनके संविधान के अनुच्छेद 31 में कहा गया है कि "बुर्किना फ़ासो एक लोकतांत्रिक, एकात्मक और धर्मनिरपेक्ष राज्य है।

* चाड की कुल आबादी में 6,25,7000 (55.8%) मुस्लिम हैं। उनके संविधान का अनुच्छेद 1 यह बताता है कि चाड एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है। संविधान धर्म और राज्य के अलग होने की पुष्टि करता है।

* कोमोरोस की कुल आबादी में 6,64,000 (98.3%) लोग मुस्लिम हैं। उन्होंने 2018 में संविधान संशोधन कर 2009 के संविधान में धर्म को हटा दिया है।

* गुयाना की कुल आबादी में 8,50,2000 (84.4%) मुस्लिम हैं। गुयाना एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है जहां सभी धर्म के लोगों को कानून के समक्ष समानता का अधिकार है। संविधान व्यक्तियों को उनकी पसंद के धर्म को चुनने, बदलने और अभ्यास करने का अधिकार प्रदान करता है ।

* कज़ाख़िस्तान की कुल आबादी में 8,82,2000 (56.4%) मुस्लिम हैं। कज़ाख़िस्तान गणराज्य के संविधान का अनुच्छेद 22 कहता है कि 'सभी को अपनी अंतरात्मा की स्वतंत्रता का अधिकार है।'

* कोसोवा की कुल आबादी में 1,99,9000 (89.6%) मुस्लिम हैं। उनका संविधान कोसोवो को एक धर्मनिरपेक्ष राज्य के रूप में स्थापित करता है जो धार्मिक विश्वासों के मामलों में तटस्थ है और जहां कानून और स्वतंत्रता सभी के लिए समान है, विश्वास, विवेक और धर्म की गारंटी है।

* किर्गिज़स्तान की कुल आबादी में 4,73,4000 (86.3%) मुस्लिम हैं। किर्गिज़स्तान ने 30 दिसंबर, 2006 को नया संविधान अपनाया, जो देश कानून के शासन के आधार पर एक संप्रभु, एकात्मक, लोकतांत्रिक सामाजिक राज्य के रूप में परिभाषित करता है; पिछले संविधान ने भी देश को "धर्मनिरपेक्ष" के रूप में परिभाषित किया था।

* माली की कुल आबादी में 1,20,40,000 (92.5%) लोग मुसलमान हैं। उनका संविधान भी एक धर्मनिरपेक्ष राज्य स्थापित करता है और धर्म की स्वतंत्रता प्रदान करता है।

सेनेगल की कुल आबादी में 1,20,28,000 (96.0%) लोग मुसलमान हैं। सेनेगल एक मुख्य रूप से मुस्लिम आबादी वाला एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है और वहां एक उल्लेखनीय मजबूत नागरिक समाज के साथ एक लोकतांत्रिक शासन है।

* सिएरा लियोन की कुल आबादी में 40,59,000 (71.3%) लोग मुसलमान हैं। सेनेगल एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है जिसमें देश के लोगों को अपने पसंद के धर्म का चयन करने की स्वतंत्रता दी जाती है। यह अधिकार आमतौर पर देश की सरकार द्वारा सुरक्षित है। संविधान देश में किसी भी राज्य धर्म की स्थापना के लिए भी मना करता है।

* तजाकिस्तान की कुल आबादी में 58,48,000 (84.1%) लोग मुसलमान हैं। ताजिकिस्तान में लगभग सभी धर्मों के विरोधी हैं, इसने अरबी भाषा और हिजाब में किसी भी चीज को प्रकाशित करने पर प्रतिबंध लगा दिया है।

* तुर्की की कुल आबादी में 7,36,19,000 (98%) मुसलमान हैं। तुर्की एक धर्मनिरपेक्ष राज्य है जिसका कोई आधिकारिक राज्य धर्म नहीं है और धर्म का राज्य चलाने में कोई स्थान नहीं है।

संबंधित खबर : राष्ट्रवाद के उन्मादी और संकीर्ण रूप को 100 साल पहले भांप गए थे रवींद्र नाथ टैगोर

* तुर्कमेनिस्तान की कुल आबादी में 47,57,000 (93.1%) मुसलमान हैं। उनका 1992 का संविधान धर्म और राज्य के अलगाव की गारंटी देता है; यह इस्लाम के लिए राजनीतिक जीवन में एक भूमिका निभाने के लिए किसी भी कानूनी आधार को हटा देता है, जिसमें मुकदमा चलाने, 'अनौपचारिक' धार्मिक साहित्य का प्रसार, धर्म पर आधारित भेदभाव और धार्मिक राजनीतिक दलों का गठन शामिल है।

* उज्बेकिस्तान की कुल आबादी में 2,64,69,000 (96.3%) लोग मुसलमान हैं। इनके संविधान के अनुच्छेद 61 में कहा गया है कि धार्मिक संगठनों और संघों को राज्य से अलग किया जाएगा।

Next Story

विविध

Share it