समाज

पुलिस मुख्यालय में पत्रकार शुभम पांडेय के साथ बदसलूकी का आरोप, ट्वीटर पर ट्रेंड हुआ #हाथ_कैसे_लगाया

Janjwar Desk
9 Jan 2023 9:33 AM GMT
पुलिस मुख्यालय में पत्रकार  शुभम पांडेय के साथ बदसलूकी का आरोप, ट्वीटर पर ट्रेंड हुआ #हाथ_कैसे_लगाया
x
शुभम के साथ पुलिसिया बदसलूकी का एक वीडियो भी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और इसी के बाद #हाथ_कैसे_लगाया ट्रेंड कर रहा है। इसे ट्रेंड करवाने वालों में ज्यादातर पत्रकार शामिल हैं....

UP Police : यूपी पुलिस पर पुलिस मुख्यालय में एक पत्रकार पर बदसलूकी का आरोप लग रहा है, जिसके बाद ट्वीटर पर #हाथ_कैसे_लगाया ट्रेंड कर रहा है।

जानकारी के मुताबिक सपा सुप्रीमो अखिलेश यादव उनका टि्वटर हैंडल चलाने वाले मनीष जगन अग्रवाल की गिरफ्तारी के विरोध में यूपी के पुलिस मुख्यालय पहुंचे थे, जिसके बाद यहां इसी मुद्दे की कवरेज करने के लिए पत्रकार भी आये। आरोप है कि यहां ज़ी न्यूज के रिपोर्टर शुभम के साथ पुलिस ने बदसलूकी की। शुभम के साथ पुलिसिया बदसलूकी का एक वीडियो भी वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है और इसी के बाद #हाथ_कैसे_लगाया ट्रेंड कर रहा है। इसे ट्रेंड करवाने वालों में ज्यादातर पत्रकार शामिल हैं।

वायरल हो रहे वीडियो में देखा जा सकता है कि जी न्यूज के रिपोर्टर को रिपोर्टिंग करने से रोकने के लिए पुलिस कैमरामैन के कैमरे को छीनने की कोशिश कर रही है और उसके बाद रिपोर्टर के साथ पुलिस बदसलूकी पर उतर आती है। पुलिस ने जब कैमरा छीनने और बदसलूकी की कोशिश की तो रिपोर्टर शुभम भड़कते हुए सवाल किया कि हाथ कैसे लगाया? जो अब सोशल मीडिया ट्रेंड बना हुआ है। वीडियो में नजर आ रहा है कुछ पुलिस वाले रिपोर्टर को पीछे हटा रहे हैं, लेकिन रिपोर्टर चिल्लाते हुए कह रहा है कि आपने हाथ कैसे लगाया?

सोशल मीडिया पर यह वीडियो वायरल होने के बाद पेशे से पत्रकार रोहिणी सिंह ट्वीट करती हैं, 'नोएडा मीडिया को 'प्रोटोकॉल' देने वाली उत्तर प्रदेश पुलिस को समझना होगा कि स्थानीय पत्रकार भी जनता की ही सेवा कर रहे हैं। आज हम इस युवा पत्रकार शुभम के साथ खड़े नहीं हुए तो कल कोई पत्रकार पुलिसिया बदतमीज़ी का जवाब देने का साहस नहीं जुटा सकेगा।'

विनय कुमार वीडियो शेयर करते हुए लिखते हैं, 'इस वीडियो में पत्रकार शुभम ने बता दिया कि अगर खबर के लिए तन कर खड़े हो जाएं तो बड़े-बड़े कमिश्नर, मंत्री भागने पर मजबूर हो जाएंगे,मीडिया मालिकों को शुभम से सीखने की जरूरत है कि बिछे नहीं,बाकी थोड़ी तहज़ीब और तमीज़ तो ऐसे पुलिस वालों को सिखाने की जरूरत है।'

वहीं पेशे से पत्रकार सूरज शुक्ला ने ट्वीट किया है, 'IPS पीयूष मोर्डिया ने पत्रकार से बदसलूकी करने की पराकाष्ठा पार कर दी। अंदाज़ा लगाइए आम जनता से साहब का कैसा व्यवहार होगा। साहब ADG रैंक के हैं। पत्रकार से बदसलूकी की तो करारा जवाब मिलेगा। होमगार्ड्स को पकड़ने वाले IPS पीयूष मोर्डिया वर्दी की गर्मी में चूर हैं। पत्रकार पर रौब जमा रहे हैं। ये बर्दाश्त नहीं होगा, सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। पत्रकार संजय त्रिपाठी ने लिखा,"अपनी नाकामी छिपाने के लिए अफ़सर किस हद तक जा सकते हैं, ये उसकी बानगी है। लखनऊ के जेसीपी का एक ज़िम्मेदार पत्रकार के साथ इस तरह का शर्मनाक व्यवहार। अखिलेश यादव को मुख्यालय में दाखिल होने से रोक पाने में नाकाम मोर्डिया साहब पत्रकार पर खीझ निकालते हुए। शर्म करो।'

विनोद मिश्रा लिखते हैं, '#हाथ_कैसे_लगाया यूपी पुलिस जवाब दो। क्या अब पत्रकारों को उनके काम करने से रोकना ही आपका काम बचा है?'

रोहित कश्यप ने ट्वीट किया है, '#हाथ_कैसे_लगाया तेजी से ट्वीटर पर ट्रेंड कर रहा है और इसकी वजह है यूपी पुलिस जो बाबा योगी के निर्देशन में कार्य करती है और #yogi जी पीठ थपथपाते रहते हैं... #Lucknow में JCP पीयूष मोर्डिया ने सिग्नेचर बिल्डिंग से रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकार शुभम पांडे को धक्का दे दिया।'

समाजवाद छात्र सभा की नेहा यादव कहती हैं, 'पत्रकार शुभम पांडेय जी के साथ हम सभी हैं। दुर्व्यवहार बर्दाश्त नहीं किया जाएगा, चाहे वह किसी के भी साथ होगा हम मिलकर इसके ख़िलाफ़ आवाज उठाएंगे। उम्मीद करती हूँ पत्रकार भी निष्पक्ष होकर गंदगी फैलाने वाले बीजेपी के लोगों के ख़िलाफ़ कुछ तो बोलेंगे।'

आकर्ष शुक्ला कहते हैं, 'पत्रकार हैं साहेब, लेकिन साहेब वर्दी के रौब में भूल गए हैं खुद की नाकामियों को दबाने के लिए कैमरे का का लैंस और पत्रकारों का मुंह दबाने में लगे हैं। मैं पत्रकार होने के नाते पूछता हूं कि #हाथ_कैसे_लगाया। कैमरा माइक आई डी हमारा गुरूर है, उसे मत छेड़िए, समझौता नहीं कर पाएंगे हम।'

Next Story

विविध