Up Election 2022

UP First Phase Election Voting : 'साइकिल को वोट देना चाहता था बुजुर्ग, कमल पर डलवाया', समाजवादी पार्टी ने की निष्पक्ष चुनाव की मांग

Janjwar Desk
10 Feb 2022 7:22 AM GMT
UP First Phase Election Voting : साइकिल को वोट देना चाहता था बुजुर्ग, कमल पर डलवाया, समाजवादी पार्टी ने की निष्पक्ष चुनाव की मांग
x

(पहले चरण के लिए मतदान के बीच कई जगह गड़बड़ी की खबरें)

UP First Phase Election Voting : समाजवादी पार्टी ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को शिकायती पत्र लिखकर निष्पक्ष चुनाव की मांग की है, पार्टी ने आगरा में बुजुर्ग से जबरन भाजपा के पक्ष में वोट डलवाने का आरोप लगाया है...

UP First Phase Election Voting : उत्तर प्रदेश में गुरुवार को पहले चरण का मतदान (Voting) शुरु होते ही प्रशासन की तमाम तैयारियों की पोल खुलने लगी है। पहले चरण में 11 जिलों की 58 सीटों पर मतदान चल रहा है। इस बीच समाजवादी पार्टी ने आरोप लगाया है कि आगरा में एक बुजुर्ग से कर्मचारियों ने कमल (BJP) पर वोट डलवा दिया जबकि वह साइकिल (Samajwadi Party) को वोट देना चाहते थे। वोटिंग शुरू होने के बाद से सपा की ओर से लगातार अलग-अलग जगहों पर बूथों पर गड़बड़ी की शिकायत चुनाव आयोग से की जा रही है।

समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) ने मुख्य निर्वाचन आयुक्त को यह शिकायत भेजी है। पार्टी की ओर से भेजे गए शिकायती पत्र में कहा गया है कि आगरा जनपद के विधानसभा क्षेत्र 94 बाह के बूथ संख्या 126 पर 70 वर्षीय एक बुजुर्ग साइकिल को वोट देना चाहते थे लेकिन कर्मचारियों ने उनका वोट कमल पर डलवा दिया। पार्टी ने तुरंत इसका संज्ञान लेकर कार्रवाई की मांग की है ताकि निष्पक्ष चुनाव हो।

एक अन्य शिकायत में सपा ने कहा कि जनपद मेरठ के विधानसभा क्षेत्र के बूथ संख्या 26 पर मतदाता के पास पर्जी होने के बावजूद उसे मतदान नहीं करने दिया जा रहा है।

इसी तरह आज मथुरा में ईवीएम खराब होने की खबर भी सामने आयी। मथुरा के बलदेव विधानसभा क्षेत्र के फरह में ईवीएम मशीन निकली। बूथ संख्या 442 पर ईवीएम खराब होने की सूचना आयी। समय से पहले पोलिंग शुरू न होने के चलत मतदान केंद्र के बाहर लंबी लाइन लग गई। समाजवादी पार्टी ने इसकी शिकायत चुनाव आयोग से की है।

इसके अलवा सपा की ओर से गाजियाबाद में भी मतदान में गड़बड़ी का आरोप लगाया गया है। पार्टी ने कहा कि विधानसभा क्षेत्र लोनी की बूथ संख्या 450,461, 462, 463 पर मतदान अधिकारी द्वारा मतदान धीमा कर दिया गया है। भाजपा के एजेंट को छोड़कर अन्य विपक्षी पार्टियों के एजेंट को मतदान कक्ष के बाहर कर दिया गया है। पुलिस प्रशासन दबाव बनाकर मतदाताओं को बाद में आने के लिए कह रहा है जिससे मतदाताओं में कापी रोष है।

Next Story

विविध