दुनिया

हामिद करजई का बड़ा खुलासा: काबुल पर कब्जा करने के लिए तालिबान को किया गया था आमंत्रित

Janjwar Desk
15 Dec 2021 3:58 PM GMT
हामिद करजई का बड़ा खुलासा: काबुल पर कब्जा करने के लिए तालिबान को किया गया था आमंत्रित
x
अफगानिस्ता (Afghanistan) के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई (Hamid Karzai) ने 4 महीने बाद एक बड़ा खुलासा किया और कहा कि काबुल पर नियंत्रण करने के लिए तालिबान को आमंत्रित किया गया था। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अशरफ गनी (President Ashraf Ghani) के अफगानिस्तान छोड़ने से ठीक पहले तालिबान को काबुल बुलाया गया था।

अफगानिस्ता (Afghanistan) के पूर्व राष्ट्रपति हामिद करजई (Hamid Karzai) ने 4 महीने बाद एक बड़ा खुलासा किया और कहा कि काबुल पर नियंत्रण करने के लिए तालिबान को आमंत्रित किया गया था। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति अशरफ गनी (President Ashraf Ghani) के अफगानिस्तान छोड़ने से ठीक पहले तालिबान को काबुल बुलाया गया था। काबुल की रक्षा के लिए तालिबान को काबुल बुलाया गया था ताकि देश में अराजकता न फैले। उन्होंने कहा कि मुझसे तत्कालीन रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह खान ने देश छोड़ने के बारे में पूछा था।

लेकिन उन्होंने देश छोड़ने से मना कर दिया था। हामिद करजई 9/11 के हमलों के बाद तालिबान को पहली बार बाहर करने के बाद 13 साल तक अफगानिस्तान के राष्ट्रपति रहे हैं। करजई ने कहा कि तालिबान के सत्ता में आने से एक दिन पहले 14 अगस्त को संभावित सौदे की उलटी गिनती शुरू हो गई थी। उन्होंने कहा कि अब्दुल्ला और मैं अशरफ गनी से मिले और वे इस बात पर सहमत हुए कि वे अगले दिन दोहा के लिए रवाना होंगे और सत्ता-साझाकरण समझौते पर हस्ताक्षर करेंगे।

बता दें कि करजई ने अअफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी के गुप्त और अचानक प्रस्थान का खुलासा किया। उन्होंने बताया कि कैसे उन्होंने तालिबान को लोगों की रक्षा के लिए शहर में आने के लिए आमंत्रित किया। ताकि देश और शहर में अराजकता न हो और देश को लूटने वाले अवांछित तत्व दुकानों को लूटना शुरू न करें। गनी जब देश छोड़कर गए, तो उनके सुरक्षा अधिकारी भी वहां से चले गए। जब करजई ने रक्षा मंत्री बिस्मिल्लाह खान से यह पता लगाने के लिए संपर्क किया कि क्या सरकार के अवशेष अभी भी बचे हैं, तो खान ने तब देश छोड़ने के बारे में पूछा था।

जानकारी के लिए बता दें कि तालिबान 15 अगस्त को काबुल पर कब्ज़ा कर लिया था। करजई और अब्दुल्ला ने गनी से मुलाकात की और सहमति व्यक्त की कि वे अगले दिन दोहा के लिए रवाना होंगे। करजई ने कहा कि उन्होंने 15 अगस्त की तड़के सूची तैयार होने का इंतजार किया। लेकिन शहर में बेचैनी थी और यह एक नाजुक क्षण था। तालिबान के कब्जे की अफवाहें फैल रही थीं। इसके बाद गनी देश छोड़ कर भाग गए।

Next Story

विविध