पर्यावरण

फॉसिल फ्युएल से जुड़े 25,174 विज्ञापनों पर खर्च हुआ $9.6 मिलियन, 431 मिलियन बार लोगों ने देखा

Janjwar Desk
5 Aug 2021 2:29 PM GMT
फॉसिल फ्युएल से जुड़े 25,174 विज्ञापनों पर खर्च हुआ $9.6 मिलियन, 431 मिलियन बार लोगों ने देखा
x

(भले ही फेसबुक ने सार्वजनिक रूप से जलवायु कार्रवाई के लिए अपने समर्थन की घोषणा की है, लेकिन यह जीवाश्म ईंधन संदेशों को बढ़ावा देने के लिए तेल और गैस क्षेत्र से मिलियनों की रकम लेना जारी रखता है।)

2020 में 25 संस्थाओं के सभी फेसबुक विज्ञापनों का विश्लेषण करते हुए इन्फ्लुएंसमैप ने पाया कि ये 25 कंपनियों और उद्योग के प्रतिनिधियों कम से कम 431 मिलियन व्यूज़ प्राप्त करने के लिए 25,000 से अधिक भ्रामक विज्ञापन दिखाए....

जनज्वार। एक ताज़ा शोध से पता चलता है कि फेसबुक पर फॉसिल फ्युएल से जुड़े विज्ञापनों को ऐसे दिखाया जाता है जिससे उनके जलवायु समर्थन में होने की छवि बनती है और एक भ्रम की स्थिति सी बन जाती है जिसका फायदा सीधे तौर पर यह फॉसिल फ्युएल कम्पनियां उठाती हैं।

इन्फ्लुएंसमैप की "क्लाइमेट चेंज एंड डिजिटल एडवरटाइजिंग: द आयल एंड गैस सेक्टर्स स्ट्रेटेजी" ("जलवायु परिवर्तन और डिजिटल विज्ञापन: तेल और गैस क्षेत्र की रणनीति") से पता चलता है कि तेल और गैस उद्योग अब तेल और गैस की भूमिका को बढ़ावा देने के लिए और जलवायु विज्ञान के विपरीत होने के बावजूद खुद की जलवायु समर्थक छवि को बढ़ावा देने के लिए फेसबुक का उपयोग कर रहा है ।

तेल और गैस उद्योग के ग्रीन वाशिंग यानी कार्बन उत्सर्जित करने वाले जीवश ईंधन या फॉसिल फ्यूल को साफ़ बनाकर पेश करने वाले विज्ञापनों पर $9.6 मिलियन का खर्च हुआ है।

यह एक महत्वपूर्ण रिपोर्ट है जो दिखाती है कि कैसे फेसबुक अभी भी जलवायु परिवर्तन पर फ़िज़ा को प्रभावित करने के लिए मुख्य प्रदूषकों की रहें आसान कर रहा है। 2020 में 25 संस्थाओं के सभी फेसबुक विज्ञापनों का विश्लेषण करते हुए, इन्फ्लुएंसमैप ने पाया कि ये 25 कंपनियां और उद्योग के प्रतिनिधि तेल और गैस के भविष्य को लॉक इन करने में मदद करने के लिए और कम से कम 431 मिलियन व्यूज़ प्राप्त करने के लिए 25,000 से अधिक भ्रामक (गुमराह करने वाले) विज्ञापन दिखाते हैं।

इन्फ्लुएंसमैप के इस नए विश्लेषण से पता चलता है कि जीवाश्म ईंधन के उपयोग को और वक़्त तक खींचने के लिए डिज़ाइन किये गए तेल और गैस क्षेत्र के फेसबुक विज्ञापनों को 2020 के दौरान कम से कम 431 मिलियन बार देखा गया था।

यह शोध उन विज्ञापनों पर केंद्रित था, जो अमेरिकन पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट (API), एक्सॉनमोबिल, फिलिप्स 66, टेक्सास ऑयल एंड गैस एसोसिएशन और वन अलास्का सहित 25 तेल और गैस संगठनों या उनके एडवोकेसी समूहों द्वारा फेसबुक के यूनाइटेड स्टेट्स प्लेटफॉर्म पर चले थे।

इसमें 25,174 विज्ञापन मिले जिनमें तेल और गैस के भविष्य को लॉक इन करने में मदद करने के लिए डिज़ाइन किए गए संदेश शामिल थे। इन विज्ञापनों पर खर्च की गई रकम $9.6 मिलियन थी।

विश्लेषण ने क्षेत्र की अत्यधिक परिष्कृत मैसेजिंग प्लेबुक को चार प्रमुख विषयों में श्रेणीबद्ध किया: (1) तेल गैस उद्योग जलवायु समाधान का हिस्सा है, (2) तेल और गैस के व्यावहारिक लाभ, (3) तेल और गैस उद्योग स्थानीय समुदायों और अर्थव्यवस्था का समर्थन करता है, और (4) अमेरिकी ऊर्जा स्वतंत्रता के लिए तेल और गैस क्षेत्र देशभक्ति के दृष्टिकोण से महत्वपूर्ण है।

इन्फ्लुएंसमैप के शोध से पता चलता है:

विश्लेषण किए गए 25,174 विज्ञापनों में से 48% में यह कथन शामिल था कि जीवाश्म ईंधन क्षेत्र जलवायु संकट के 'समाधान का हिस्सा' था। इस श्रेणी के 12,140 विज्ञापनों को 122 मिलियन बार व्यू किया (देखा) गया, जिसमें युवा उपयोगकर्ताओं (25-34 वर्ष) के लक्षित दर्शकों में होने की अधिक संभावना है।

इस श्रेणी के भीतर ऐसे विज्ञापन थे जो गैस को 'साफ़ या ग्रीन (हरित)/निम्न कार्बन' ऊर्जा स्रोत के रूप में पेश कर रहे थे, IPCC की चेतावनी के बावजूद कि मीथेन का ग्रीनहाउस वार्मिंग प्रभाव 20 साल की अवधि में कार्बन डाइऑक्साइड से 87 गुना अधिक है। इन विज्ञापनों का सबसे बड़ा वितरक अमेरिकी पेट्रोलियम संस्थान था, जो अपने सदस्यों में एक्सॉनमोबिल, शेवरॉन, बीपी, शेल और अन्य को गिनता है।

'व्यावहारिक ऊर्जा मिश्रण' के हिस्से के रूप में तेल और गैस को हाइलाइट करने के लिए $4.4 मिलियन खर्च किए गए थे। इस श्रेणी के विज्ञापनों को 174 मिलियन बार व्यू किया गया, जिसमें दर्शकों का झुकाव उम्र दराज़ समूहों और पुरुषों की ओर था।

सबसे ज़्यादा रकम खर्च करने वाला एक्सॉनमोबिल ($5.04 मिलियन) था, और इसके बाद अमेरिकन पेट्रोलियम इंस्टीट्यूट (API) (2.97 मिलियन डॉलर) और वनअलास्का ($330,000)।

विज्ञापन इंप्रेशन के आधार पर शीर्ष राज्य टेक्सास (54 मिलियन) था, उसके बाद अलास्का (34 मिलियन) और कैलिफोर्निया (27 मिलियन)।

चुनाव प्रचार के दौरान, बाइडेन द्वारा उनकी $2 ट्रिलियन की जलवायु योजना की घोषणा करने के तुरंत बाद, इन विज्ञापनों को कब तैनात किया गया था, इसकी ट्रैकिंग में एक महत्वपूर्ण वृद्धि दिखाई देती है। यह गति नवंबर में अमेरिकी चुनाव तक कायम रही।

जीवाश्म ईंधन विज्ञापनों की सही संख्या - और इसलिए इन संदेशों की पहुंच - क्योंकि यह शोध फेसबुक के संयुक्त राज्य अमेरिका के प्लैटफॉर्म पर सिर्फ 25 संगठनों और उनके विज्ञापनों पर केंद्रित था इस को देखते हुए - काफी अधिक होने की संभावना है।

IPCC और अंतर्राष्ट्रीय ऊर्जा एजेंसी (IEA) दोनों ने चेतावनी दी है कि ग्लोबल वार्मिंग को 1.5C तक सीमित करने के लिए, जीवाश्म ईंधन से हटकर एक बड़े बदलाव की आवश्यकता है। तदनुसार, तेल और गैस के उपयोग को बढ़ाने के उद्देश्य से विज्ञापन विज्ञान के साथ नहीं जुड़े हुए हैं।

इन्फ्लुएंसमैप प्रोग्राम मैनेजर फेय होल्डर ने कहा: "इस शोध से जलवायु परिवर्तन पर तेल और गैस उद्योग की प्लेबुक के नवीनतम पुनरावृत्ति का पता चलता है।

"सीधे-सीधे जलवायु परिवर्तन से इनकार करने के बजाय, उद्योग अधिक बारीक संदेश भेज रहा है, इस विचार सहित कि यह जलवायु संकट के समाधान का हिस्सा है।

"बड़े तेल और गैस उद्योग के खिलाड़ी जीवाश्म ईंधन के उपयोग को और वक़्त तक खींचने की कोशिश करने के लिए फेसबुक का उपयोग कर रहे हैं, जो कि वैज्ञानिकों के अनुसार जो जलवायु परिवर्तन से निपटने के लिए आवश्यक है, उसके विपरीत है।"

शोध का एक हिस्सा जीवाश्म ईंधन के निरंतर उपयोग को बढ़ावा देने के लिए अपने प्लैटफॉर्म का उपयोग करने की अनुमति देने में फेसबुक की भूमिका पर भी केंद्रित था।

इस सोशल मीडिया कंपनी ने इस क्षेत्र को राजनीतिक रूप से महत्वपूर्ण क्षणों में रणनीतिक रूप से महत्वपूर्ण जनसांख्यिकी पर अपनी मैसेजिंग प्लेबुक को लक्षित करने के लिए एक अभूतपूर्व उपकरण प्रदान किया है।

भले ही फेसबुक ने सार्वजनिक रूप से जलवायु कार्रवाई के लिए अपने समर्थन की घोषणा की है, लेकिन यह जीवाश्म ईंधन संदेशों को बढ़ावा देने के लिए तेल और गैस क्षेत्र से मिलियनों की रकम लेना जारी रखता है।

इस सबूत के मद्देनज़र कि फेसबुक लगातार खुद की विज्ञापन नीतियों को लागू नहीं कर रहा है, यह राजस्व धारा यह शोध जो माप सकता है उस की तुलना में कहीं अधिक महत्वपूर्ण होने की संभावना है।

विज्ञापन केवल फेसबुक की विज्ञापन लाइब्रेरी में संग्रहीत होते हैं - और इसलिए विश्लेषण के लिए उपलब्ध होते हैं - अगर उन्हें 'सामाजिक मुद्दे, चुनाव या राजनीतिक' के रूप में श्रेणीबद्ध किया जाता है। यह शोध ऐसे कई उदाहरणों की पहचान करता है जहां विज्ञापनों को ठीक से टैग नहीं किया गया।

इन्फ्लुएंसमैप ने फेसबुक को रिपोर्ट के निष्कर्षों की एक एडवांस कॉपी (अग्रिम प्रति) प्रदान की। अपने जवाब में, फेसबुक ने कहा कि उसने रिपोर्ट में पहचानी गई संस्थाओं से संबंधित कुछ पेजों के ऐडमिनिस्ट्रेटरों (प्रशासकों) के खिलाफ कार्रवाई की है।

क्लाइमेटवॉइस के संस्थापक और फेसबुक पर सस्टेनेबिलिटी के पूर्व निदेशक, बिल वीहल ने कहा: "जलवायु कार्रवाई के लिए फेसबुक के सार्वजनिक समर्थन के बावजूद, यह अपने प्लैटफॉर्म को जीवाश्म ईंधन प्रचार फैलाने के लिए उपयोग करने की अनुमति देता है।

"फेसबुक न केवल अपनी खुद की मौजूदा विज्ञापन नीतियों को अपर्याप्त रूप से लागू कर रहा है, यह स्पष्ट है कि यह नीतियां तत्काल जलवायु कार्रवाई की महत्वपूर्ण आवश्यकता के साथ तालमेल नहीं रखती हैं।

"अगर फेसबुक अपनी जलवायु प्रतिबद्धताओं के बारे में गंभीर है, तो उसे इसपर पुनर्विचार करने की जरूरत है कि क्या वह जीवाश्म ईंधन कंपनियों का पैसा लेने को तैयार है।"

इन्फ्लुएंसमैप के बारे में

इन्फ्लुएंसमैप एक लंदन स्थित थिंक टैंक है जो ऊर्जा और जलवायु परिवर्तन से संबंधित मुद्दों पर निवेशकों, निगमों और मीडिया को डाटा संचालित विश्लेषण प्रदान करता है। जलवायु नीति पर कॉर्पोरेट प्रभाव को मापने के लिए हमारे मेट्रिक्स वैश्विक क्लाइमेट एक्शन 100+ निवेशक इंगेजमेंट प्रक्रिया सहित निवेशकों द्वारा उपयोग में हैं। हमारे कॉन्टेंट को व्यापक रूप से वैश्विक मीडिया द्वारा कवर और कैंपेन समूहों द्वारा उपयोग किया जाता है।

साभार—Climate कहानी

Next Story

विविध

Share it