Top
समाज

राजस्थान में चोरी के शक में 3 लोगों को ग्रामीणों ने खंभे पर बांध बेरहमी से पीटा, एक की हालत गंभीर

Nirmal kant
27 Nov 2019 3:32 AM GMT
राजस्थान में चोरी के शक में 3 लोगों को ग्रामीणों ने खंभे पर बांध बेरहमी से पीटा, एक की हालत गंभीर
x

राजस्थान के बड़लियास के एक गांव में ग्रामीणों ने चोरी के शक में प्रेम घीसालला, कैलाश और मदन कंजर को बुरी तरह पीटा, इतने से भी मन नहीं भरा तो खम्भे से बांधकर किया लहुलूहान, एक की हालत बहुत गंभीर...

चोरी के शक में भीड़ ने तीन लोगों को बुरी तरह पीटा, फिर घर के सामने बंधक बनाया, पुलिस ने पीड़ितों को भीड़ से छुड़वाया, घायल अस्पताल में भर्ती, सात आरोपी गिरफ्तार...

जनज्वार, जयपुर। राजस्थान में भीड़ द्वारा हिंसा के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं। ताजा मामला राजस्थान के भीलवाड़ा जिले का है जहां चोरी के शक में भीड़ ने तीन लोगों की खेत में पहले तो बुरी तरह पिटाई की गई। फिर उनके घर के सामने ही उन्हें खम्भे से बांध दिया गया और फिर गांववालों के द्वारा पिटाई की गई। इस घटना में तीनों व्यक्ति बुरी तरह घायल हो गए हैं।

रअसल बड़लियास के मनकड़ी गांव में चोरों ने 22 नवंबर को एक घर से दस तोला सोना और ढाई किलो चांदी के गहने और नकदी की चोरी की थी। इसके बाद गांव के लोगों ने चोरी के शक में प्रेम घीसालला, कैलाश कंजर और मदन कंजर को खेत में बुरी तरह पीट डाला। भीड़ यहीं नहीं रुकी, बल्कि तीनों लोगों को गांव लाया गया, खम्भे से बांधा गया और फिर गांववालों ने पीटना शुरु कर दिया।

संबंधित खबर : एनसीआरबी मॉब लिंचिंग और पत्रकारों के साथ होने वाली हिंसा को नहीं मानता अपराध!

तीनों पीड़ितों को महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इसके बाद जैसे ही पुलिस को सूचना मिली तो वह मौके पर पहुंची, फिर तीनों पीड़ितों को बमुश्किल गांववालों से छुड़वाया गया।

चोरी के शक में पीटे गये तीनों लोग अस्पताल में भर्ती (Photo : Patrika)

स मामले को लेकर बड़लियास के थाना प्रभारी सुरजीत जाप्ते ने जनज्वार को बताया ‘शुक्रवार की रात आमी पंचायत के मनकड़ी में नारायण जाट के मकान में दो दिन पहले चार पांच चोरों ने घुसकर चोरी कर ली थी, जिसके बाद गांव के लोगों ने संदेह के आधार पर कंजर समुदाय के तीन लोगों की पिटाई कर दी। तीनों पीड़ित तब खेत में काम पर थे, जिसके बाद घर के बाहर में तीनों को बंधक बना लिया और उनके साथ मारपीट भी की गई।

संबंधित खबर : बैकफुट पर मुजफ्फरपुर पुलिस, मॉब लिंचिंग का विरोध करने वाली 49 हस्तियों के खिलाफ नहीं चलेगा देशद्रोह का मुकदमा

सुरजीत जाप्ते ने आगे बताया, 'इसके बाद पुलिस ने जाकर मामले को संभाला और तीनों बंधक बनाए लोगों को छुड़ाकर उन्हें महात्मा गांधी अस्पताल में भर्ती कराया। साथ ही पुलिस की कार्रवाई में 7 गांववालों की गिरफ्तारी की गई है। घायलों में से दो की सेहत अब ठीक है और एक की सेहत अब भी गंभीर बनी हुई है। गांववालों ने कुछ लोगों के खिलाफ चोरी की रिपोर्ट दर्ज करवाई है।

गौरतलब है कि राजस्थान विधानसभा ने मॉब लिंचिंग (भीड़ द्वारा हत्या) की घटनाओं पर रोकथाम के लिए एक विधेयक पास किया जा चुका है। इस विधेयक के तहत मॉब लिंचिंग की घटनाओं में पीड़ित की मौत पर दोषी को कठोर आजीवन कारावास और एक से पांच लाख रुपये तक के जुर्माने का प्रावधान है।

ब यह विधेयक पास हुआ था तब विधानसभा में विधेयक पर चर्चा के दौरान संसदीय कार्यमंत्री शांति कुमारी धारीवाल ने कहा था कि राजस्थान ऐसा पहला राज्य है, जहां माब लिंचिंग की घटनाओं को रोकने के लिए इस तरह का कानून बनाया जा रहा है। उन्होंने हाल के वर्षों में राज्य में मॉब लिंचिंग की कुछ घटनाओं से राजस्थान के हर नागरिक का सर शर्म से झुक गया, इसलिए यह कानून बनाना पड़ रहा है।

जिन लोगों को ग्रामीणों ने चोरी के आरोप में बुरी तरह पीटा वे तीनों कंजर समुदाय से ताल्लुक रखते हैं। इनमें से मदन कंजर और कैलाश कंजर दोनों सगे भाई हैं। कंजर समुदाय का आरोप है कि ग्रामीणों ने अन्य लोगों के घरों में भी घुसकर मारपीट की।

Next Story

विविध

Share it