Top
दुनिया

भारत में 40 करोड़ लोगों की हालत होगी खराब, महामारी के बाद बढ़ेगी भुखमरी और बेरोजगारी

Raghib Asim
8 April 2020 1:19 PM GMT
भारत में 40 करोड़ लोगों की हालत होगी खराब, महामारी के बाद बढ़ेगी भुखमरी और बेरोजगारी

भारत में करीब 40 करोड़ लोग कोरोना महामारी के चलते बेरोजगार हो सकते हैं, अंतराष्ट्रीय श्रम संगठन की रिपोर्ट के मुताबिक 2020 की दूसरी तिमाही में देशभर में करीब 19 करोड़ लोगों की नौकरियां जाएगी...

जनज्वार। कोरोना संक्रमण ने भले ही आज दुनिया को हिला रखा हो, लेकिन दुनिया को इसका असर कई सालों तक देखने को मिलेगा। खासतौर पर गरीब और मध्यम वर्ग पर कई सालों तक कोरोना की मार पड़ने वाली है।

ने वाले दिनों में कोरोना के मुकाबले दुनियाभर में गरीबी और भुखमरी से कहीं ज्यादा मौत होगी, क्योंकि भारत में असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले लोगों की संख्या कहीं ज्यादा है, ऐसे में भारत में बड़ी संख्या में भुखमरी की आशंका जताई गई है। अंतराष्ट्रीय श्रम संगठन के मुताबिक कोरोना संक्रमण की वजह से भारत में अंसगठित क्षेत्रों में काम करने वाले करीब 40 करोड़ लोग गरीबी और भुखमरी के शिकार होने की संभावना है। यही नहीं अंतरराष्ट्रीय श्रम संगठन के मुताबिक 2020 की दूसरी तिमाही में देशभर में करीब 19 करोड़ लोगों की नौकरियां जाएंगी।

यह भी पढ़ें : शहरों से लौट रहे मजदूरों को भुखमरी से बचा सकता है मनरेगा, लेकिन पेमेंट समय पर होने लगे तब

ईओएल ने अपनी रिपोर्ट में कहा है कि दूसरे विश्वयुद्ध के बाद कोरोना दुनिया के सामने सबसे बड़ी मुसीबत बनकर आई है। आईएलओ के डायरेक्टर गाय रायडर के मुताबिक मंदी का दौर विकसित और विकासशील दोनों देशों में एक समान देखने को मिलेगा।

न्होंने कहा कि वैश्विक महामंदी को रोकने के लिए वैश्विक स्तर पर प्रयासों की जरूरत है और अगर वो नहीं लिए गए तो दुनियाभर में महामंदी आएगी। रिपोर्ट में ये भी कहा गया है कि पूरी दुनिया में असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले करीब दो अरब लोग हैं जिनके सामने कोरोना के बाद जीविका की समस्या पैदा हो जाएगी।

यह भी पढ़ें : मोदी सरकार ने मनरेगा मजदूरों की 800 करोड़ बकाया मजदूरी में से चुकाए मात्र 171 करोड़

ईएलओ की रिपोर्ट में जिन देशों का नाम खास तौर पर लिया गया है उनमें भारत का भी नाम शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया है कोरोना के चलते लॉकडाउन की वजह से भारत, नाईजीरिया, ब्राजील जैसे देशों में असंगठित क्षेत्रों में काम करने वाले मजदूरों की हालत बेहद खराब और चिंताजनक होने वाली है।

यह भी पढ़ें- काम ना आई मोदी की अपील रिलायंस ने वेतन में 50 फीसदी तक कर दी कटौती, मुकेश अंबानी भी नहीं लेंगे साल भर सैलरी

स रिपोर्ट में भारत को लेकर कहा गया है कि भारत की 90 फीसदी आबादी अंसगठित क्षेत्र से जुड़ी हुई है और ऐसे में इनमें से करीब 40 करोड़ लोगों को महाकारी के बाद भयानक गरीबी और बेरोजगारी का सामना करना पड़ेगा।

Next Story

विविध

Share it