Top
पंजाब

पंजाब पुलिस की बर्बरता आई सामने, रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकार को पीट-पीटकर किया अधमरा

Prema Negi
24 May 2020 1:56 PM GMT
पंजाब पुलिस की बर्बरता आई सामने, रिपोर्टिंग कर रहे पत्रकार को पीट-पीटकर किया अधमरा
x

बर्थडे पर केक पहुंचा कर सॉफ्ट छवि बनाने की कोशिश करने वाली पंजाब पुलिस के कर्मचारी कितने बर्बर हैं वह पत्रकार पर की गयी ज्यादती के मामले में हो गया है साफ....

जनज्वार ब्यूरो, चंडीगढ़। मोहाली में पंजाब पुलिस ने पंजाबी समाचार पत्र के रिपोर्टर मेजर सिंह को दो पुलिसकर्मियों ने बुरी तरह से पीटा। मेजर सिंह एक गुरुद्वारा में आयोजित एक बैठक को कवर करने गए थे।

रोजाना पहरेदार पंजाबी समाचार पत्र के रिपोर्टर मेजर सिंह ने बताया कि जब बैठक चल रही थी तो मौके पर मोहाली पुलिस थाना फेज -1 के दो असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (एएसआई) ओम प्रकाश और अमर नाथ पहुंचे। उन्होंने बैठक में मौजूद जसपाल सिंह नाम के व्यक्ति को पकड़ लिया। पुलिसकर्मी उसे कमरे से बाहर ले जा रहे थे। मैंने इसे कवर करना शुरू कर दिया। मैंने जसपाल से बात करने की कोशिश की, इसी बीच मौका देख कर जसपाल पुलिसकर्मियों से छूट कर भाग निकला।

यह भी पढ़ें : लॉकडाउन में भूख से पीड़ित नेत्रहीन बुजुर्ग दंपति की खबर दिखाने पर UP में डीएम ने दर्ज कराया पत्रकार के खिलाफ मुकदमा

पीड़ित पत्रकार ने बताया कि इस पर पुलिसकर्मी मुझ पर भड़क गये। उन्होंने मुझे गाली देना शुरू कर दिया। पुलिसकर्मियों ने उसे पीटना शुरू कर दिया, उसने अपना परिचय दिया। इसके बाद भी पुलिसकर्मियों ने एक भी बात नहीं सुनी। उसे जबरदस्ती हरियाणा नंबर के एक वाहन में डाल कर पुलिस स्टेशन में ले गये।

के अनुसार उसे लॉकअप में डाल दिया और वहां मुझे न केवल मारा-पीटा गया, बल्कि पगड़ी भी नीचे गिरा दी गयी। उसने बताया कि मैंने पुलिसकर्मियों से बार-बार अपील की कि मेरी पगड़ी को न छुएं, उन्होंने मेरी प्रार्थना की ओर ध्यान नहीं दिया। मेरे पवित्र कंघे को भी उन्होंने फेंक दिया।

स दौरान पत्रकार को कई जगह चोट आयी है। अब वह सिविल अस्पताल में इलाज करा रहे हैं। पत्रकार ने बताया कि मेरी मेडिकल रिपोर्ट में बाएं पैर, दोनों हाथों और पीठ पर गंभीर चोटें आयी हैं।

यह भी पढ़ें : छह पत्रकारों ने उठाया था प्रवासी मजदूरों का मुद्दा, हिमाचल की भाजपा सरकार ने हरेक पर दर्ज किए 3 से 6 मुकदमे

स घटना पर की गई कार्रवाई के मामले में एसपी (सिटी) हरविंदर सिंह विर्क कहते हैं, पत्रकार पर हमला करने वाले दोनों एएसआई को निलंबित कर दिया गया है। उनके खिलाफ विभागीय जांच के भी आदेश दिए गए हैं।

हालांकि पीड़ित पत्रकार मेजर सिंह पुलिस की इस कार्यवाही से संतुष्ट नहीं है। उन्होंने कहा कि यह प्रेस पर हमला है। अगर एक पत्रकार सुरक्षित नहीं है, तो एक आम आदमी की स्थिति क्या होगी? इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है। पुलिस को इस मामले में आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच करनी चाहिए।

यह भी पढ़ें : न्यूज स्टोरी करने पहुंचे पत्रकार को दरोगा ने दी सरेआम धमकी- गोली मार दूंगा

हीं डिप्टी कमिश्नर मोहाली गिरीश दयालन ने बताया कि एसडीएम मोहाली जगदीप सहगल से मामले की जांच करायी जा रही है। चंडीगढ़ पंजाबी ट्रिब्यून के सीनियर पत्रकार बलविंदर सिंह जम्मू ने हमले की निंदा की । उन्होंने कहा कि आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ उचित कार्यवाही की जानी चाहिए।

ससे पहले 22 मई को पंजाबी जागरण समाचार के चंडीगढ़ स्थित संवाददाता जय सिंह छिब्बर के खिलाफ भी पुलिस ने मामला दर्ज किया था। जयसिंह पर आरोप है कि उसने कांग्रेस के मंत्री के खिलाफ समाचार प्रकाशित किया था। इसमें दावा किया था कि मंत्री ज्योतिषियों के सुझावों का पालन कर रहे हैं। पुलिस ने छिब्बर के खिलाफ आईपीसी की धारा 188 और 505 के तहत मामला दर्ज किया है।

Next Story

विविध

Share it