Top
समाज

पश्चिम बंगाल में अपने साथियों के साथ लुंगी टोपी पहनकर पत्थरबाजी करता पकड़ा गया बीजेपी कार्यकर्ता

Nirmal kant
21 Dec 2019 1:25 PM GMT
पश्चिम बंगाल में अपने साथियों के साथ लुंगी टोपी पहनकर पत्थरबाजी करता पकड़ा गया बीजेपी कार्यकर्ता
x

18 दिसंबर को भाजपा कार्यकर्ता मुर्शिदाबाद में ट्रेन के इंजन पर पत्थरबाजी और आगजनी करते हुए पकड़े गए, एक समुदाय विशेष को बदनाम करने के लिए इन सभी भाजपा कार्यकर्ताओ ने सिर पर टोपी और लुंगी पहने हुई थी..

जनज्वार। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने हाल ही में झारखंड में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए कहा था कि जो नागरिकता संशोधन अधिनियम का विरोध कर रहे हैं उन्हें कपड़ों से पहचानिये। उनका बयान साफ तौर पर धार्मिक विभाजन का इशारा कर रहा था। अब पश्चिम बंगाल के मुर्शिदाबाद में कपड़ों की आड़ में दंगा फैलाते एक भाजपा कार्यकर्ता और उसके पांच साथियों को गिरफ्तार किया गया है।

बुधवार 18 दिसंबर को गिरफ्तार किये गए सभी भाजपा कार्यकर्ता मुर्शिदाबाद में कथित तौर पर एक ट्रेन के इंजन पर पत्थरबाजी और आगजनी करते हुए पकड़ा गया था। एक समुदाय विशेष को बदनाम करने के लिए इन सभी भाजपा कार्यकर्ताओ ने सिर पर टोपी और लुंगी पहने हुई थी ताकि सभी को लगे की ये लोग मुस्लिम समुदाय से हैं।

संबंधित खबर : वीडियो में हुआ खुलासा, अमित शाह के रोड शो में बंगाल भाजपा नेता ने भड़काया था दंगा

मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने गुरुवार 19 दिसंबर को इस घटना का उल्लेख करते हुए उन्होंने कहा था की भारतीय जनता पार्टी अपने कार्यकर्ताओं के लिए टोपियां खरीद रही है और वह कार्यकर्ता तोड़फोड़ करके सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचा रहे हैं ताकि एक समुदाय विशेष को बदनाम किया का सके।

टेलीग्राफ में प्रकाशित खबर के मुताबिक ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल को कोलकाता में एक रैली के दौरान यह बयान दिया है। देशभर के कई शहरों में नागरिकता कानून को लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहा है और कई जगहों पर प्रदर्शन हिंसक हो रहा है। ममता ने कहा कि हम इस देश में दूसरों की दया पर नहीं रह रहे हैं। भाजपा की स्थापना 1980 में हुई थी और वह हमारे 1970 के नागरिकता दस्तावेज मांग रही है। वहीं बीजेपी संशोधित नागरिकता अधिनियम को हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच की एक लड़ाई बनाना चाहती है।

मता बनर्जी ने अपनी कोलकाता रैली में भाजपा निशाना साधते हुए कहा कि अगर बीजेपी में हिम्मत है, तो वह संशोधित नागरिकता अधिनियम और एनआरसी पर संयुक्त राष्ट्र की निगरानी में जनमत संग्रह कराए।

कड़े गए बीजेपी कार्यकर्ता के मामले पर मुर्शिदाबाद पुलिस के अधिकारियों ने कहा कि सियालदह-लालगोला लाइन पर यात्रा कर रहे सियालदाह-बाउंड ट्रायल इंजन में पत्थर फेंकते देख राधामाधतला गांव के निवासियों ने छह युवकों को गिरफ्तार किया है जिनमें से एक अभिषेक सरकार शामिल है, जो एक स्थानीय भाजपा कार्यकर्ता है। प्रदर्शन के दौरान उसने सर पर टोपी और लुंगी पहनी हुई थी।

संबंधित खबर : दावा-मोदी सरकार कराएगी चुनावों से पहले हिंदू —मुस्लिम दंगा

गिरफ्तार किये गए युवकों ने दावा किया कि उन्होंने अपने YouTube चैनल के लिए शूट किए गए वीडियो की खातिर लुंगी और सर पर टोपी पहनी रखी थी। लेकिन वे ऐसे किसी भी चैनल के अस्तित्व को साबित नहीं कर सके। जिला पुलिस प्रमुख मुकेश ने कहा की राधामाधबटला निवासियों ने कहा कि पड़ोसी श्रीसनगर में रहने वाले अभिषेक को भाजपा की सभी स्थानीय रैलियों में सबसे आगे देखा गया।

एक ग्रामीण ने गुरुवार को पुलिस को सुचना देते हुए कहा था की जब युवकों ने रेलवे लाइन के पास अपने कपड़े बदले, तो हमें शक हुआ। हम अभिषेक को जानते थे क्योंकि वह अपने विचारों के बारे में बहुत मुखर है। इसलिए हमने उनका पीछा करने का फैसला किया। और पुलिस को इसकी सुचना दी।

Next Story

विविध

Share it