दिल्ली

कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का कोरोना से निधन, पीएम मोदी, सोनिया, राहुल ने जताया शोक

Janjwar Desk
25 Nov 2020 2:34 AM GMT
कांग्रेस के दिग्गज नेता अहमद पटेल का कोरोना से निधन, पीएम मोदी, सोनिया, राहुल ने जताया शोक
x

photo : social media

कोरोना से संक्रमित होने के बाद अहमद पटेल की हालत लगातार बिगड़ती गई और उनके शरीर के विभिन्न अंगों ने काम करना बंद कर दिया। उन्हें इलाज के लिए गुरुग्राम के एक अस्पताल में भर्ती कराया गया था...

जनज्वार, नई दिल्ली। कांग्रेस के दिग्गज नेता व पार्टी के कोषाध्यक्ष अहमद पटेल (Ahmed Patel dies) का बुधवार 25 नवंबर 2020 तड़के गुरुग्राम के एक अस्पताल में निधन हो गया। अहमद पटेल कोविड-19 वायरस से संक्रमित होने के बाद अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराए गए थे। कोरोना संक्रमित होने के बाद उनके शरीर के विभिन्न अंगों ने काम करना बंद कर दिया था और उनकी हालत बिगड़ती जा रही थी। 71 वर्षीय राज्यसभा सांसद अहमद पटेल के निधन की पुष्टि उनके बेटे फैसल ने की।

फैसल ने एक ट्वीट कर बताया कि राज्यसभा सांसद अहमद पटेल का बुधवार अहले सुबह 3.30 बजे गुरुग्राम के एक अस्पताल में निधन हो गया।

अहमद पटेल एक अक्टूबर को कोरोना से संक्रमित पाए गए थे और उसके बाद 15 नवंबर को गुरुग्राम के अस्पताल के आइसीयू में इलाज के लिए भर्ती कराए गए थे। अहमद पटेल के निधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी सहित विभिन्न राजनीतिक हस्तियों ने दुःख व्यक्त किया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अहमद पटेल के निधन पर दुःख व्यक्त करते हुए ट्विटर पर लिखा : अहमद पटेल जी के निधन से दुःखी हूं। उन्होंने सार्वजनिक जीवन में कई साल बिताए और समाज की सेवा की। अपने तेज दिमाग के लिए जाने जाने वाले, कांग्रेस पार्टी को मजबूत करने में उनकी भूमिका हमेशा याद की जाएगी। उनके बेटे फैसल से बात की और संवेदना व्यक्त की। अहमद भाई की आत्मा को शांति मिले।

कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अहमद पटेल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा है : मैंने अपना एक सहयोगी खो दिया है, जिसका पूरा जीवन कांग्रेस को समर्पित था। मैं एक वफादार सहयोगी और दोस्त खो चुकी हूं, उनके परिवार के प्रति मेरी गहरी संवेदना है।


राहुल गांधी ने अहमद पटेल के निधन पर शोक व्यक्त करते हुए कहा कि यह एक दुःखद दिन है। अहमद पटेल कांग्रेस पार्टी के स्तंभ थे। वे कांग्रेस में ही जीते व सांस लेते थे। वे सबसे कठिन समय में कांग्रेस के साथ खड़े रहे। वे पार्टी की प्रभावी संपत्ति थे। हम उनकी कमी महसूस करेंगे।



Next Story

विविध

Share it