मध्य प्रदेश

Bhopal News: भाजपा नेता की गौशाला बनी गायों की कब्रगाह, 50 से ज़्यादा गायों के शव और कंकाल मिले, जानें पूरा मामला

Janjwar Desk
31 Jan 2022 5:31 AM GMT
Bhopal News: भाजपा नेता की गौशाला बनी गायों की कब्रगाह, 50 से ज़्यादा गायों के शव और कंकाल मिले, जानें पूरा मामला
x

Bhopal News: भाजपा नेता की गौशाला बनी गायों की कब्रगाह, 50 से ज़्यादा गायों के शव और कंकाल मिले, जानें पूरा मामला

Bhopal News: भाजपा नेता की गौशाला में बड़ी संख्या में गायों की मौत का मामला सामने आया है। गौशाला में बने कुएं में 20 गायों के शव मिले हैं. वहीं 80 से ज्यादा गायों के शव और कंकाल मैदान में पड़े मिले हैं।

Bhopal News: भाजपा नेता की गौशाला में बड़ी संख्या में गायों की मौत का मामला सामने आया है। गौशाला में बने कुएं में 20 गायों के शव मिले हैं. वहीं 80 से ज्यादा गायों के शव और कंकाल मैदान में पड़े मिले हैं। इससे क्षेत्र में हड़कंप मच गया है. इसकी जानकारी लगने के बाद मौके पर बड़ी संख्या में लोग जमा हो गए। यह मामला मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल का बताया जा रहा है। वहीं इसको लेकर क्षेत्र में बवाल खड़ा हो गया है। विरोध को देखते हुए बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात किया गया है। लोगों कि मांग है कि दोषियों पर तुरंत कार्रवाई की जाए। भाजपा नेता निर्मला देवी 20 साल से गौशाला का संचालन कर रही हैं। अभी गौशाला में 250 गाय हैं। कांग्रेस का आरोप है कि गौशाला का संचालन भाजपा नेता कई साल से कर रही हैं। निर्मला देवी खुद को भाजपा नेता बताती हैं।


रिपोर्ट्स के मुताबिक शनिवार को इस गौशाला में 8 गौवंशों की मौत की जानकारी मिली थी। इसके बाद रविवार को बड़ी संख्या में स्थानीय लोग वहां इकट्ठे हो गए। स्थानीय निवासी अक्षत मालवीय ने बताया कि वह सुबह करीब साढ़े 9.30 बजे बैरसिया के बसई तालाब के पास बनी गौ सेवा भारती गौशाला पहुंचे। वहां पर आसपास जगह-जगह मृत गौवंशों के शव पड़े हुए थे। एक कुआं भी मृत गायों से भरा हुआ था।

गौशाला में सैंकड़ों की संख्या में मरे गौवंशों को देख लोग आक्रोशित हो गए। मामला बढ़ता देख गौशाला में पुलिसबल को तैनात किया गया। बताया जा रहा है कि वहां मौजूद कुएं में दो दर्जन से अधिक गौवंशों का शव बरामद हुआ। वहीं खेतों में सैंकडों की संख्या में मृत गौवंशों के कंकाल पड़े हुए थे। शवों को देखकर प्रतीत हो रहा था कि इनमें कईयों की मौत महीनों पहले हुई थी।

इस गौशाला का संचालन बीजेपी नेतृ निर्मला शांडिल्य करती हैं। सरकार से गौसेवा के नाम पर वह लाखों रुपए अनुदान भी लेती रही हैं। स्थानीय लोगों का दावा है कि यहां हजारों की संख्या में गौवंशों की हत्या की गई है। गौवंशों की हत्या कर कई वर्षों से बड़े स्तर पर चमड़ा और हड्डियों का कारोबार किया जाता था। प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह ने इस प्रकरण में गोशाला के संचालक मंडल पर गौ हत्या का प्रकरण दर्ज करने की मांग की है।

ग्रामीणों का आक्रोश देखते हुए भोपाल कलेक्टर अविनाश लवानिया ने जांच के निर्देश दे दिए हैं। कलेक्टर ने कहा है कि गौशाला संचालन की जिम्मेदारी प्रशासन ने अपने हाथ में ले लिया है। लवानिया के मुताबिक मृत गाय की मौत के सही कारणों की पड़ताल के लिए तीन से चार शव का पोस्टमार्टम करने के निर्देश दिए गए है। वहीं, संचालक के खिलाफ धारा 133 के तहत प्रकरण दर्ज करने का निर्देश दिया है।

बीते दिनों एक आरटीआई से जानकारी मिली थी कि साल 2015 से 2021 तक इस गौशाला को 37 लाख रूपए से ज्यादा के अनुदान मिले हैं। वहीं गौशाला संचालकों द्वारा प्रतिवर्ष गौवंशों की मृत्यु का आंकड़ा भी गलत दिया जाता था। सीएम शिवराज के सत्ता में दुबारा वापसी के बाद इस गौशाला को 21 लाख रुपए मिले हैं।

Next Story

विविध