Up Election 2022

Uttarakhand Election 2022 : दो-दो घोषणा पत्र के सहारे उत्तराखण्ड को रिझाएगी आम आदमी पार्टी

Janjwar Desk
10 Jan 2022 12:50 PM GMT
Uttarakhand Election 2022 : दो-दो घोषणा पत्र के सहारे उत्तराखण्ड को रिझाएगी आम आदमी पार्टी
x
Uttarakhand Election 2022 : राय ने कहा कि भाजपा व कांग्रेस ने बारी-बारी से जिस प्रकार राज्य की जनता के साथ झूठे वायदे करके धोखाधड़ी की है, उससे जनता आम आदमी पार्टी की ओर उम्मीद से देख रही है.....

Uttarakhand Election 2022 : विधानसभा चुनाव में भाजपा-कांग्रेस का विकल्प बनने को आतुर आम आदमी पार्टी उत्तराखण्ड (Uttarakhand) में दो-दो घोषणा पत्र के साथ चुनावी दंगल में कूदेगी। दिल्ली सरकार के पर्यावरण मंत्री व आम आदमी पार्टी (AAP) नेता गोपाल राय (Gopal Rai) ने यह जानकारी साझा करते हुए कहा कि आम आदमी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव के लिए दो घोषणा पत्र तैयार करेगी। एक घोषणा पत्र समूचे राज्य के समग्र विकास की रूपरेखा लिए होगा। इस घोषणा पत्र में पूरे राज्य के विकास के लिए पार्टी के वायदे, नीति व पूरा कार्यक्रम होगा।

'वहीं दूसरा घोषणा पत्र प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र स्तर का होगा। जिसे सम्बंधित विधानसभा के प्रत्याशी अपने क्षेत्र की जनता के लिए जारी करेंगे। इस घोषणा पत्र में विधानसभा क्षेत्र स्तर की समस्याओं का समावेश कर उनके समाधान का ब्लू प्रिंट दिया जाएगा। आम आदमी पार्टी का प्रत्येक प्रत्याशी जनता के बीच स्पष्ट तौर पर बताएगा कि विजयी होने के बाद क्षेत्र के विकास के लिए उसकी प्राथमिकताएं क्या होंगी। किस तरह काम किया जाएगा।'

आम आदमी पार्टी के रामनगर विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशी शिशुपाल सिंह रावत के साथ सोमवार को पार्टी कार्यकर्ताओं की चुनावी समीक्षा बैठक लेने के बाद इस वार्ता में आप नेता राय ने दावा किया कि उत्तराखण्ड में आम आदमी पार्टी अंडर करंट पार्टी है। जिसे अभी भाजपा-कांग्रेस जैसी पार्टियां देख नहीं पा रहीं हैं। चुनाव के नतीजे आने पर इन दोनो दलों को अपनी वास्तविक स्थिति का अंदाज़ा होने वाला है।

राय ने कहा कि भाजपा व कांग्रेस ने बारी-बारी से जिस प्रकार राज्य की जनता के साथ झूठे वायदे करके धोखाधड़ी की है, उससे जनता आम आदमी पार्टी की ओर उम्मीद से देख रही है। उत्तराखण्ड के लोगों का दिल्ली से गहरा रिश्ता है। हर घर का कोई न कोई सदस्य या तो सीधे दिल्ली है या फिर उस घर की दिल्ली में रिश्तेदारी आदि है। इसलिए केजरीवाल के दिल्ली मॉडल से हर उत्तराखण्डी अच्छी तरह परिचित है। लोगों को दिल्ली के विकास मॉडल के बारे में हम जितना बता पा रहे हैं, उससे अधिक वह उस मॉडल को यथार्थ रूप में देख चुका है। उनके लिए यही विकास का मॉडल अब उम्मीद जगा रहा है। राज्य की जनता कांग्रेस-भाजपा के बरक्स एक नए विकल्प की तलाश में पहले से ही थी। लेकिन कोई भी दल लोगों के इस भरोसे पर खरा नहीं उतर पा रहा था। अब दिल्ली मॉडल ने राज्य की जनता को आशा दिखाई है कि यह मॉडल ही राज्य का विकास कर सकता है।

राय के मुताबिक कोविड महामारी के दौरान अपने चुनावी कार्यक्रम को धार देने के लिए आम आदमी पार्टी वर्चुअल के साथ-साथ फील्ड में अपने कार्यकर्ताओं की फील्डिंग सजाए रखेगी। पार्टी नेतृत्व जहां आम जनता से वर्चुअल माध्यम से रूबरू रहेगा तो पार्टी कार्यकर्ता पार्टी की नीति व कार्यक्रम को लोगों तक पहुंचाने के लिए घर-घर दस्तक देंगे।

Next Story

विविध