आर्थिक

फिर पड़ी महंगाई की मार, आज से 50 रुपये महंगी हो गई घरेलू रसोई गैस, इस महीने में दूसरी बार बढोत्तरी

Janjwar Desk
15 Feb 2021 2:30 AM GMT
फिर पड़ी महंगाई की मार, आज से 50 रुपये महंगी हो गई घरेलू रसोई गैस, इस महीने में दूसरी बार बढोत्तरी
x

कोरोना महामारी में रोज कमाने-खाने वालों के हो गये हैं भुखमरी जैसे हालात, सुप्रीम कोर्ट ने मोदी सरकार को किया कठघरे में खड़ा

देखने वाली बात यह होगी कि आज से होने वाली बढ़ोतरी के बाद उपभोक्ताओं के खाते में आने वाली सब्सिडी की राशि पूर्ववत रहती है या उसे बढ़ाया जाता है..

जनज्वार। पेट्रोल की कीमत की शतकीय पारी के बाद अब घरेलू रसोई गैस की बारी है। पिछले काफी समय से पेट्रोलियम उत्पादों की कीमतें आसमान छूती जा रही है। राजस्थान में आज पेट्रोल की कीमत 100 रुपये प्रति लीटर तक पहुंच गई। इसी बीच घरेलू रसोई गैस की कीमत भी लगातार छलांग लगा रही है। आज यानि सोमवार 15 फरवरी से घरेलू गैस की कीमतों में 50 रुपया की बढ़ोतरी कर दी गयी है।

हालांकि व्यवसायिक उपयोग वाले गैस की कीमतों में 9.50 रुपया की कमी की गयी है। इस प्रकार फरवरी में घरेलू रसोई गैस की कीमत में दूसरी बार बढ़ोतरी कर दी गयी है। इसके पूर्व 04 फरवरी से घरेलू गैस की कीमत में 25 रुपये की बढ़ोतरी की गयी थी। हालांकि पिछली बढ़ोतरी के बाद सब्सिडी की राशि में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई थी।

देखना यह होगा कि आज से होने वाली बढ़ोतरी के बाद उपभोक्ताओं के खाते में आने वाली सब्सिडी की राशि पूर्ववत रहती है या उसे बढ़ायी जाती है।

हालांकि पिछले दिनों लोकसभा में केंद्रीय पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने बयान दिया था कि इस वित्तीय वर्ष में सब्सिडी की राशि इतनी पर्याप्त नहीं है कि सब्सिडी की राशि गैस की कीमत की बढ़ोतरी के हिसाब से बढ़ाया जाय। लेकिन उन्होंने संकेत दिया था कि अगले वित्तीय वर्ष से सब्सिडी की राशि में सुधार होगी।

बिहार में फरवरी माह की पहली तारीख को रसोई गैस की कीमत 793 रुपया थी, लेकिन 04 फरवरी से इसकी कीमत बढ़कर 818 रुपया हो गई। अब सोमवार से घरेलू एलपीजी की कीमत बढ़कर 867 रुपया हो जायेगी।

हालांकि इस होने वाले नये दर में व्यवसायिक गैस के उपभोक्ताओं को थोड़ी राहत मिली है। इसकी कीमत में प्रति सिलिंडर 9.50 रुपये की कमी की गयी है। निश्चित तौर पर घरेलू एलपीजी की कीमत बढ़ने से घर का रसोई प्रभावित होगा।

खासकर उज्जवला योजना जैसे महत्वपूर्ण योजनाओं से जुड़े उपभोक्ताओं को गैस की बढ़ी हुई कीमत परेशानी बढ़ायेगी। आम लोगों के लिए भी एलपीजी की बढ़ी हुई कीमत उनके बजट को प्रभावित करेगा।

सामान्य तौर पर सरकार ने जो तय किया था उसके अनुसार हर महीने की पहली तारीख को एलपीजी की नई कीमत प्रभावी होती थी, लेकिन पिछले तीन महीनों से अलग-अलग तिथियों में एलपीजी का कीमत बढ़ा है और फरवरी माह में तो एलपीजी की कीमतों में यह लगातार दूसरी बढ़ोतरी है।

बताया जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में पेट्रोलियम पदार्थों की कीमत आसमान छू रही है। डीजल और पेट्रोल के दाम रोज बढ़ रहा है। ऐसे में संभावना व्यक्त की जा रही थी कि एलपीजी की कीमत में भी अगले माह से बढ़ोतरी हो सकती है, लेकिन 15 फरवरी से ही एलपीजी की कीमतों में बदलाव लाने का निर्णय ले लिया गया है।

Next Story

विविध

Share it