आर्थिक

खुदरा महंगाई दर 6.09 प्रतिशत पर पहुंची, पिछले साल इस अवधि में थी 3.18 प्रतिशत

Janjwar Desk
14 July 2020 2:30 AM GMT
खुदरा महंगाई दर 6.09 प्रतिशत पर पहुंची, पिछले साल इस अवधि में थी 3.18 प्रतिशत
x

File photo

लॉकडाउन के दौरान अप्रैल और मई माह में खुदरा महंगाई दर जारी नहीं किया गया था। मार्च माह में यह 5.91 प्रतिशत थी।

जनज्वार। देश मे महंगाई लगातार बढ़ रही है। जून माह में खुदरा महंगाई दर बढ़कर 6.09 प्रतिशत हो गई। यह सरकार द्वारा RBI को दिए गए लक्ष्य की अधिकतम सीमा से भी ज्यादा है। सरकार ने RBI को महंगाई दर 4 फीसदी के आसपास रखने को कहा था। लक्ष्य था कि 4 फीसद के 2 प्रतिशत औसतन कमी-बेसी के साथ इसे बनाए रखा जाय।

अब RBI के सामने सबसे बड़ी दुविधा यह है कि अगर वह ब्याज दर बढ़ाकर महंगाई कम करने की कोशिश करती है तो आर्थिक विकास दर प्रभावित होंगे। पिछले साल फरवरी से लेकर अबतक RBI रेपो रेट में 2.50 फीसदी कटौती कर चुका है।

13 जुलाई को मिनिस्ट्री ऑफ स्टेटिस्टिक्स एंड प्रोग्राम इंप्लीटेशन की ओर से महंगाई दर का यह आंकड़ा जारी किया गया है। जारी आंकड़े के अनुसार, जून माह में उपभोक्ता मूल्य सूचकांक यानि CPI पर आधारित खुदरा महंगाई दर 6.09 प्रतिशत रही, वहीं इसी अवधि में खुदरा खाद्य महंगाई दर 7.87 प्रतिशत रही। हालांकि खुदरा खाद्य महंगाई दर अपने 9 माह के न्यूनतम स्तर पर हैं। कोरोना लॉकडाउन के कारण ये आंकड़े सीमित बाजारों से ही लिए गए हैं। मार्च माह में खुदरा महंगाई दर 5.91 प्रतिशत थी।

कोरोना काल में लोगों के रोजगार और आमदनी दोनों प्रभावित हुए हैं। ऐसे में महंगाई दर को नियंत्रित करना जरूरी है। वहीं लंबे समय तक चले लॉकडाउन के कारण आर्थिक गतिविधियां भी प्रभावित हुईं हैं, ऐसे में आर्थिक विकास भी जरूरी है।

Next Story

विविध