Top
शिक्षा

मीडिया और प्रसारण क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रसार भारती और IIT कानपुर के बीच हुआ समझौता

Janjwar Desk
21 July 2021 5:25 AM GMT
मीडिया और प्रसारण क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रसार भारती और IIT कानपुर के बीच हुआ समझौता
x

आईआईटी कानपुर और प्रसार भारती के बीच आत्मनिर्भर भारत बनाने को लेकर समझौता.

प्रसार भारती और IIT कानपुर इन उभरती प्रौद्योगिकियों को 5G के लिए वैश्विक मानकों के साथ संरेखित करने के उद्देश्य से मोबाइल प्रसारण क्षमताओं के लिए प्रत्यक्ष के विकास का पता लगाएंगे...

जनज्वार, कानपुर। भारत के लोक सेवा प्रसारक, प्रसार भारती (Prasar Bharti) और भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर (IIT Kanpur) के बीच हस्ताक्षरित समझौता हुआ है। इस समझौते के तहत IIT कानपुर में मीडिया और प्रसारण प्रौद्योगिकियों के लिए उत्कृष्टता केंद्र स्थापित किया जाएगा।

सहयोग समझौते के बाद, सेंटर ऑफ एक्सीलेंस के तत्वावधान में तीन क्षेत्रों की पहचान की गई है जिनमें डायरेक्ट टू मोबाइल ब्रॉडकास्टिंग एंड कन्वर्जेंस विद इमर्जिंग 5जी स्टैंडर्ड्स, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस सहित ऑडियो-विजुअल मीडिया के लिए एडवांस एल्गोरिदम शामिल हैं। प्रसार भारती द्वारा प्रदान की गई धनराशि का लाभ उठाते हुए इन तीनो क्षेत्रों में आईआईटी कानपुर द्वारा निम्नलिखित शोध परियोजनाएं शुरू की जाएंगी।


• नेक्स्ट जनरेशन ब्रॉडकास्ट टेक्नोलॉजी ट्रायल (डायरेक्ट टू मोबाइल ब्रॉडकास्टिंग, कन्वर्जेंस विद 5जी)

• वाक् उपशीर्षक के लिए स्वचालित वाक् पहचान (विभिन्न भारतीय भाषाओं में प्रसारण सामग्री को सुलभ बनाना)

• ऑडियो और टेक्स्ट क्वेरी के माध्यम से अभिलेखीय सामग्री पुनर्प्राप्ति

गौरतलब है कि भारत में सामग्री की खपत तेजी से स्मार्टफोन की ओर बढ़ रही है और वीडियो खपत भारत में मोबाइल डेटा वृद्धि का प्रमुख चालक बन गया है, मोबाइल फोन पर सीधे प्रसारण क्षमताओं को लाना अनिवार्य हो गया है। अनुमान है कि प्रसारण सक्षम स्मार्टफोन और मोबाइल फोन कई उच्च गुणवत्ता वाली वीडियो/ऑडियो सेवाओं को बेहतर ढंग से मूल्यवान स्पेक्ट्रम का उपयोग करने और सेलुलर नेटवर्क पर बोझ को कम करने में सक्षम होंगे।

प्रसार भारती और IIT कानपुर इन उभरती प्रौद्योगिकियों को 5G के लिए वैश्विक मानकों के साथ संरेखित करने के उद्देश्य से मोबाइल प्रसारण क्षमताओं के लिए प्रत्यक्ष के विकास का पता लगाएंगे। डिजिटल वीडियो सामग्री और स्मार्टफोन के लिए सबसे बड़े खुले बाजारों के रूप में भारत को प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा परिकल्पित एक आत्मानिर्भर भारत के लिए मार्ग प्रशस्त करने के लिए सीधे मोबाइल प्रसारण के लिए अभिसरण 5G मानकों के स्वदेशी विकास से अत्यधिक लाभ होगा।

भविष्य के परिदृश्य में जहां ऑडियो और वीडियो प्रसारण सामग्री दोनों को सीधे स्मार्टफोन और मोबाइल-फोन पर एक सामान्य प्रसारण बुनियादी ढांचे पर वितरित किया जा सकता है, भारत रेडियो और टेलीविजन प्रसारण के बीच अभिसरण में वैश्विक नेतृत्व स्थापित करने में भी सक्षम होगा।

प्रसार भारती के सीईओ शशि शेखर वेम्पति ने बताया कि 'दर्शकों के पारंपरिक प्रसारण से ओटीटी प्लेटफार्मों और मोबाइल डेटा पर ऑडियो-वीडियो सामग्री की खपत में तेजी से बदलाव के साथ, सार्वजनिक प्रसारणकर्ता के लिए अपने मोबाइल फोन, स्मार्टफोन और अन्य स्मार्ट उपकरणों पर सीधे दर्शकों तक पहुंचने में सक्षम होना महत्वपूर्ण है। हम आईआईटी कानपुर के साथ इस शोध सहयोग को डायरेक्ट टू मोबाइल ब्रॉडकास्टिंग के लिए एक स्वदेशी प्रौद्योगिकी पारिस्थितिकी तंत्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण मानते हैं।

सीईओ प्रसार भारती शशि शेखर व निदेशक IIT अभय करंदीकर

हम इस प्रौद्योगिकी परीक्षण से उभरने के लिए 5G प्रसारण के लिए भारत के विशिष्ट मानकों की भी आशा करते हैं। मैं इस उत्कृष्टता केंद्र को स्वीकृति प्रदान करने के लिए प्रसार भारती बोर्ड का आभारी हूं। प्रसार भारती को निरंतर समर्थन देने के लिए मैं सूचना और प्रसारण मंत्रालय का भी आभारी हूं क्योंकि हम अपने प्रसारण बुनियादी ढांचे का आधुनिकीकरण करते हैं और एक आत्मनिर्भर भारत के लिए प्रधान मंत्री के दृष्टिकोण को साकार करने की दिशा में प्रयास करते हैं।'

वहीं आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने कहा कि 'हम प्रसारण के लिए उभरती प्रौद्योगिकियों में प्रसार भारती के साथ काम करने के लिए उत्साहित हैं। डायरेक्ट टू मोबाइल कन्वर्ज्ड प्लेटफॉर्म ट्रायल अगली पीढ़ी के प्रौद्योगिकी परिनियोजन के लिए संक्रमण को सक्षम करेगा।

ऑडियो और टेक्स्ट क्वेरी के माध्यम से उपशीर्षक और अभिलेखीय सामग्री पुनर्प्राप्ति के लिए स्वचालित भाषण मान्यता जैसी प्रौद्योगिकियों के विकास में विभिन्न भारतीय भाषाओं में प्रसारण सामग्री उपलब्ध कराने की महत्वपूर्ण क्षमता है। स्वदेशी इको-सिस्टम विकसित करने के लिए सहयोगी अनुवाद अनुसंधान की दिशा में इन परियोजनाओं को वित्तपोषित करने के लिए हम प्रसार भारती के आभारी हैं।'

Next Story

विविध

Share it