Top
आर्थिक

चीन ने नई FDI नीति पर कहा, 'मुक्त व्यापार और उदारीकरण के सिद्धांत का उल्लंघन कर रहा भारत'

Nirmal kant
21 April 2020 2:48 PM GMT
चीन ने नई FDI नीति पर कहा, मुक्त व्यापार और उदारीकरण के सिद्धांत का उल्लंघन कर रहा भारत
x

भारत में चीनी दूतावास ने कहा कि अतिरिक्त बाधाओं को लागू करने वाली नई नीति G20 समूह में निवेश के लिए एक स्वतंत्र, निष्पक्ष, गैर-भेदभावपूर्ण और पारदर्शी वातावरण के लिए बनी आम सहमति के खिलाफ भी है...

जनज्वार ब्यूरो। चीनी दूतावास के प्रवक्ता ने कहा कि विशिष्ट देशों से विदेशी प्रत्यक्ष निवेश के लिए भारत के नए मानदंड डब्ल्यूटीओ के गैर-भेदभाव के सिद्धांत का उल्लंघन करते हैं और मुक्त व्यापार की सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ हैं।

ता दें पिछले हफ्ते भारत ने चीन और अन्य पड़ोसी देशों से सीधे प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) पर पाबंदी लगा दी है। महामारी से अर्थव्यस्था में उथल-पुथल के बीच केंद्र सरकार ने घरेलू कंपनियों का अधिग्रहण रोकने के लिए यह फैसला लिया है।

संबंधित खबर : कोरोना संकट के दौरान क्या आर्थिक मामलों में मदद के लिए भारत आएंगे, रघुराम राजन ने दिया ये जवाब

चीनी दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग ने कहा कि अतिरिक्त बाधाओं को लागू करने वाली नई नीति G20 समूह में निवेश के लिए एक स्वतंत्र, निष्पक्ष, गैर-भेदभावपूर्ण और पारदर्शी वातावरण के लिए बनी आम सहमति के खिलाफ भी है।

रोंग ने एक बयान में कहा, 'भारतीय पक्ष द्वारा विशिष्ट देशों से निवेश के लिए लगाई गई अतिरिक्त बाधाएं डब्ल्यूटीओ के गैर-भेदभाव वाले सिद्धांन्त का उल्लंघन करती हैं, और उदारीकरण तथा व्यापार और निवेश को बढ़ावा देने की सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ हैं।'

संबंधित खबर : 62.5% लोग आर्थिक तंगी का शिकार, जरूरी चीजों को खरीदने के लिए बचे हैं बहुत कम पैसे

भारत के साथ सीमाएं साझा करने वाले देशों में चीन, बांग्लादेश, पाकिस्तान, भूटान, नेपाल, म्यांमार और अफगानिस्तान शामिल हैं। इन देशों के निकाय भारत सरकार की मंजूरी के बिना निवेश नहीं कर सकेंगे। सरकार ने हालांकि जारी किए गए नोटिफिकेशन में साफ-साफ चीन का नाम नहीं लिया है, बल्कि यह कहा गया है कि वो देश जिनकी सीमा भारत से लगती है, सभी के लिए निवेश से पहले मंजूरी जरूरी होगी।

Next Story

विविध

Share it