Top
राष्ट्रीय

62.5% लोग आर्थिक तंगी का शिकार, जरूरी चीजों को खरीदने के लिए बचे हैं बहुत कम पैसे

Janjwar Team
12 April 2020 8:58 AM GMT
62.5% लोग आर्थिक तंगी का शिकार, जरूरी चीजों को खरीदने के लिए बचे हैं बहुत कम पैसे
x

यह आंकड़ा इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि देश कोविड-19 महामारी से लड़ने के लिए लगे 21 दिवसीय लॉकडाउन के अंत के करीब जा रहा है, और राज्य सरकारों के बीच दो और हफ्तों के लिए लॉकडाउन का विस्तार करने के लिए एक आम सहमति बन रही है...

जनज्वारः विभिन्न समूहों-सामाजिक, आय, आयु, शिक्षा, धर्म और जेंडर के 62.5 प्रतिशत लोगों ने कहा कि उनके पास राशन/दवा आदि या इन जरूरी चीजों के लिए धन तीन सप्ताह से कम समय के लिए ही है। 'आईएएनएस सी-वोटर कोविड ट्रैकर्स इंडेक्स ऑफ पैनिक' सर्वे में इस बात का खुलासा हुआ है।

कुल 37.5 प्रतिशत लोगों ने कहा कि वे तीन सप्ताह से अधिक समय के लिए इन आवश्यक चीजों के लिए तैयार हैं। यह आंकड़ा इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि देश कोरोना वायरस महामारी से लड़ने के लिए लगे 21 दिवसीय लॉकडाउन के अंत के करीब जा रहा है, और राज्य सरकारों के बीच दो और हफ्तों के लिए लॉकडाउन का विस्तार करने के लिए एक आम सहमति बन रही है।

यह भी पढ़ें- CORONA अफवाहों के कारण सब्जी उगाने वाले मुस्लिम किसानों से दुकानदार नहीं कर रहे खरीददारी

सर्वे के अनुसार, कम आय और शिक्षा समूहों वाले लोगों की स्थिति सबसे कमजोर है, जहां 70:30 के हिस्से में अधिकांश लोगों के पास तीन सप्ताह से अधिक समय तक चलने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं हैं।

सर्वे के रुझान से संकेत मिलता है कि कम आय वर्ग और समाज के निचले तबके से जुड़े लोगों के पास अपने परिवारों की देखभाल करने के लिए पर्याप्त संसाधन नहीं है, जबकि मध्यम आय वाले तबके के पास तीन सप्ताह की अवधि के लिए संसाधन हैं। सिर्फ ज्यादा आय वर्ग वाले लोगों के पास तीन सप्ताह से अधिक समय तक के लिए पर्याप्त संसाधन हैं।

यह भी पढ़ें- कोरोना संकट : अब फेसबुक और यूट्यूब पर चलेंगी केंद्रीय विद्यालय की कक्षाएं

शहरी भारत में 55 प्रतिशत लोगों के पास पर्याप्त रूप से आवश्यक वस्तुएं हैं और उनके पास जरूरी चीजों के लिए तीन सप्ताह से कम समय तक के लिए पैसे हैं। ग्रामीण और अर्ध-नगरीय लोग (65 प्रतिशत से अधिक) का कहना है कि उनके पास तीन सप्ताह तक गुजर-बसर करने के लिए पर्याप्त संसाधन हैं।

Next Story

विविध

Share it