Top
राजनीति

आमजन आपदा में हलकान, अधिकारी फरमाते हैं आराम

Janjwar Team
6 Aug 2017 9:11 AM GMT
आमजन आपदा में हलकान,  अधिकारी फरमाते हैं आराम

लापरवाही पर डीएम ने सीएमओ का वेतन रोका

एंबुलेंस घटनास्थल पर भेजने के लिए आपातकालीन परिचालन केंद्र, आपदा प्रबंधन अधिकारी व अपर जिलाधिकारी द्वारा बार-बार सीएमओ व डिप्टी सीएमओ को फोन किया गया, मगर दोनों अधिकारियों ने कॉल रिसीव नहीं किया...

नैनीताल, उत्तराखण्ड। बारिश का मौसम पहाड़ के लिए हमेशा तबाही लेकर आता है और इस बार भी कुछ ऐसा ही है। राज्य में जगह—जगह बारिश से मचने वाली घटनाएं जैसे आम हो गई हैं। एक तरफ तबाही से आमजन परेशान हैं, उस पर से अगर शासन—प्रशासन की तरफ से उन्हें सहयोग नहीं मिलता बल्कि यूं कहें कि संबंधित स्वास्थ्य विभाग का रुख एकदम संवेदनाशून्य होता है। ऐसा ही कुछ नैनीताल जनपद में देखने को मिला, यहां एक तरफ जहां तबाही मची हुई है, वहीं स्वास्थ्य महकमा आराम फरमा रहा है।

लेकिन स्वास्थ्य महकमे को यह आराम करना भारी पड़ गया। आपदा राहत बचाव कार्यों में लापरवाही बरतने पर जिलाधिकारी/अध्यक्ष आपदा प्रबंधन प्राधिकरण दीपेंद्र कुमार चौधरी ने स्वास्थ्य विभाग को चेताते हुए मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. एचके जोशी का वेतन रोकने के निर्देश कोषाधिकारी को दिये।

डीएम ने कहा कि 31 जुलाई को राष्ट्रीय राजमार्ग में भौर्या बैंड के निकट हुई दुर्घटना में मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ. जोशी को चिकित्सा टीम भेजने के लिए बार-बार दूरभाष द्वारा सूचित किया गया, किंतु बार-बार सूचित किये जाने के उपरान्त भी उनकी संवेदनहीनता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्होंने चिकित्सा टीम समय पर नहीं भेजी।

ऐसे ही तीन अगस्त को नंधौर नदी में एक वृद्धा के दाह संस्कार दौरान लगभग 20 लोग नंधौर नदी चोरगलिया में नदी के बहाव बढ़ने के कारण फंस गये थे। चिकित्सकीय टीम मय एंबुलेंस घटनास्थल पर भेजने हेतु जिला आपातकालीन परिचालन केंद्र, आपदा प्रबंधन अधिकारी व अपर जिलाधिकारी द्वारा बार-बार सीएमओ व डिप्टी सीएमओ को फोन किया गया, लगातार फोन करने के बावजूद भी दोनों अधिकारियों ने कॉल रिसीव नहीं किया।

इसके उपरांत घटना की गंभीरता को देखते हुये थाना तल्लीताल से पुलिस कार्मिक को सीएमओ के रैमजे स्थित आवास पर भेजा गया, मगर वे आवास पर उपलब्ध नहीं थे। उनके कर्मचारी द्वारा अवगत कराया गया कि वे मुख्यालय पर न होकर हल्द्वानी गये है।

डीएम ने आपदा की स्थिति में लापरवाही बरतने पर गंभीरता से लेते हुये सीएमओ डॉ. एचके जोशी का माह अगस्त के वेतन आहरण पर तत्काल प्रभाव से रोक लगाने के निर्देश दिये, साथ ही तीन दिन में दोनों घटनाओं में लापरवाही बरतने के कारण स्पष्ट करने को कहा है।

Next Story

विविध

Share it