दुनिया

फिर स्कूल से बरामद हुईं 182 कब्रें, आदिवासी बच्चों के उत्पीड़न के बाद मौत की जतायी जा रही आशंका

Janjwar Desk
1 July 2021 10:08 AM GMT
फिर स्कूल से बरामद हुईं 182 कब्रें, आदिवासी बच्चों के उत्पीड़न के बाद मौत की जतायी जा रही आशंका
x

अब तक कनाडा के 3 स्कूलों से बरामद हो चुकी हैं 1000 से ज्यादा कब्रें

मई माह में कैमलूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल में 215 बच्चों की कब्र बरामद की गयी थीं, इसके अलावा पिछले सप्ताह ही एक और स्कूल में 750 से ज्यादा कब्रें मिली थीं....

जनज्वार। कनाडा के एक और स्कूल से 182 कब्रें मिलने की घटना ने देश में सनसनी फैलाने का काम किया है। इससे पहले भी यहां स्कूल से लाशें बरामद की जा चुकी हैं। जहां से 182 कब्रें बरामद की गयी हैं, वह तीसरा मूल निवासी समुदाय के लिए बना स्कूल था।

इतनी बड़ी संख्या में कब्रें मिलने के बाद आशंका जतायी जा रही है कि बच्चों का गंभीर उत्पीड़न किया गया होगा, जिससे उनकी मौत हुयी होगी।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, स्वदेशी स्कूल 1912 से 1970 के दशक की शुरूआत तक कैथोलिक चर्च द्वारा संचालित किया गया था। इमारत को एक निकटवर्ती गोल्फ कोर्स के साथ एक रेसॉर्ट और कैसीनो में परिवर्तित कर दिया गया है। बैंड ने बयान में कहा, 'ऐसा माना जाता है कि इन 182 शवों के अवशेष कतुनक्सा राष्ट्र के सदस्य बैंड, और अकुम समुदाय से संबंध रखते हैं।'

एएफपी की एक रिपोर्ट के मुताबिक इन कब्रों की जांच के लिए रडार मैपिंग का इस्तेमाल किया जा रहा है, जिससे यह पता लगाया गया है कि ये कब्रें 7 से 15 साल तक के बच्चों की हैं। जानकारी के मुताबिक ये कब्रें बंद पड़े मूल निवासी यानी आदिवासी समुदाय के लिए बने स्कूल से मिली हैं। इस स्कूल का नाम इयुगेने मिशन स्कूल है, जिसका संचालन 1912 से 1970 तक चर्च द्वारा किया गया था।

गौरतलब है कि इयुगेने मिशन स्कूल तीसरा ऐसा मामला है, जब किसी पुराने स्कूल में इतनी बड़ी संख्या में कब्रें बरामद की गयी हैं। इससे पहले मई माह में कैमलूप्स इंडियन रेजिडेंशियल स्कूल में 215 बच्चों की कब्र बरामद की गयी थीं। इसके अलावा पिछले सप्ताह ही एक और स्कूल में 750 से ज्यादा कब्रें मिली थीं।

एक के बाद एक सामने आये इन तीन मामलों ने कनाडा की जस्टिन ट्रूडो सरकार को सांसत में डाल दिया है। इन कब्रों के मिलने पर देश में राष्ट्रीय शोक का ऐलान किया गया है। गुरुवार 1 जुलाई को कनाडा में राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाकर रखने को कहा गया है। माना जा रहा है कि कनाडा के मूल निवासी कहे जाने वाले आदिवासी समुदाय के लोगों की ये कब्रें आने वाले दिनों में बड़ा राजनीतिक मुद्दा भी बन सकती हैं।

इन तीनों मामलों के बाद कनाडाई राष्ट्रपति ट्रूडो ने कहा, 'आज मिली कब्रों ने संख्या को और बढ़ा दिया है। कनाडा के रेजिडेंशियल स्कूलों में इतनी बड़ी संख्या में कब्रें मिलना चिंता की बात है। ऐसी घटनाओं पर हमेशा ही शब्द कम रह जाते हैं।' मैंने देश के 154वें स्थापना दिवस के मौके पर राष्ट्रीय ध्वज को आधा झुकाने के लिए कहा है। देशभर में लोग उन बच्चों के सम्मान में ऐसा कर रहे हैं, जिनकी जिंदगी को बहुत पहले ही उनसे छीन लिया गया।

Next Story