Top
कोविड -19

चीन के वुहान लैब से कोरोना वायरस के लीक होने की जांच क्‍यों होनी चाहिए?

Janjwar Desk
5 Jun 2021 10:19 AM GMT
चीन के वुहान लैब से कोरोना वायरस के लीक होने की जांच क्‍यों होनी चाहिए?
x

(अपने निरंतर शोध के माध्यम से ड्रास्टिक ने पाया कि छह खननकर्ताओं को आरएटीजी13 नामक वायरस से संक्रमित किया गया था, जिसमें सार्स वायरस के समान आनुवंशिक बनावट है। बाद में तीन खननकर्ताओं की मौत हो गई)

वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने खतरनाक कोरोना वाइरस को इकट्ठा करने में वर्षों बिताए थे, जिनमें से कुछ को उसने दुनिया के सामने कभी नहीं उजागर किया....

जनज्वार डेस्क। कोरोना महामारी की आमद को डेढ़ साल गुजर जाने के बावजूद, हम आज भी ठीक से नहीं जानते हैं कि कोविड-19 के प्रसार का कारण बना सार्स-कोवी-2 वायरस, आखिर कहां से आया। अब तक प्रचलित दृष्टिकोण यह रहा है कि यह वायरस चमगादड़ों से मनुष्यों में 'फैल गया'। लेकिन इस आशंका की जांच के लिए मांग बढ़ रही हैं कि यह चीन के वुहान में एक प्रयोगशाला से निकला है, जहां कोविड पहली बार 2019 के अंत में दिखाई दिया था। तो अब सवाल यह है कि हम निश्चित रूप से क्या जानते हैं, और हमें अभी भी क्या पता लगाने की आवश्यकता है?

हम जानते हैं कि सार्स-कोवी-2 वायरस का क्रम चमगादड़ कोरोना वायरस के समान है। कई दशक पहले इसका 'पूर्वज' दक्षिणी एशिया में चमगादड़ों की आबादी में घूम रहा था। लेकिन कई सवालों के जवाब अभी मिलना बाकी हैं: हम नहीं जानते कि वायरस वुहान में कैसे पहुंचा, मानव तक संक्रमण फैलाने के लिए इसका क्रम कैसे विकसित हुआ, और किन परिस्थितियों में इसने इसके रास्ते में आने वाले पहले व्यक्ति को संक्रमित किया। और हम नहीं जानते कि इनमें से प्रत्येक चरण के लिए, कोई मानवीय योगदान था या नहीं।

हाल ही में इंटरनेट की दुनिया के एक समूह विकेंद्रीकृत रेडिकल ऑटोनॉमस सर्च टीम ड्रास्टिक) ने इस सिद्धांत का समर्थन करने वाले सबूतों को उजागर किया है कि कोविड -19 की उत्पत्ति चीन में वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (डब्ल्यूआईवी) से हुई थी। इन शौकिया अनुसंधानकर्ताओं की खोज की तरफ पूरी दुनिया का ध्यान आकर्षित हुआ है।

न्यूज़वीक की एक रिपोर्ट ने इस समूह के निष्कर्षों की पड़ताल की है, जिसमें बताया गया है कि कैसे इन "शौकिया जासूसों" ने प्रयोगशाला रिसाव सिद्धांत के पक्ष में वैज्ञानिक तर्क जुटाने के लिए सार्वजनिक डोमेन में उपलब्ध जानकारी को एक साथ जोड़ दिया है।

"ड्रास्टिक को धन्यवाद, अब हम जानते हैं कि वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी में कोरोना वाइरस का एक व्यापक संग्रह था, जो कई वर्षों से चमगादड़ों से इकट्ठा किया गया था, और उनमें से कई – महामारी वायरस, सार्स-कोवी-2 के निकटतम ज्ञात रिश्तेदार सहित एक खदान से आया था जहां 2012 में संदिग्ध सार्स जैसी बीमारी से तीन लोगों की मौत हो गई थी," न्यूजवीक की रिपोर्ट में कहा गया है।

ड्रास्टिक का परिचय देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है: "वह शौकिया खोजी लोगों का एक समूह हैं, जिनके पास जिज्ञासा के साथ कुछ संसाधन हैं और जो इंटरनेट पर खोजबीन करते रहने में दिलचस्पी रखते है। महामारी के दौरान ऐसे लगभग दो दर्जन संवाददाताओं (कई गुमनाम, कई अलग-अलग देशों से स्वतंत्र रूप से काम करने वाले) ने अस्पष्ट दस्तावेजों को उजागर किया है, सूचनाओं को एक साथ जोड़ा है, और इसे ट्विटर पर लंबे पोस्टों में समझाया है।"

ड्रास्टिक ने पाया कि डब्ल्यूआईवी सक्रिय रूप से बैट गुफा में पाए गए वायरस के साथ काम कर रहा था। अपर्याप्त सुरक्षा प्रोटोकॉल का उपयोग करके, उन तरीकों से जो महामारी को ट्रिगर कर सकते थे, और यह कि लैब और चीनी अधिकारियों ने इन गतिविधियों को छुपाने के लिए बहुत अधिक समय तक काम किया है। कोविड -19 का पहला मामला हुआनान वेट मार्केट में प्रकोप से कुछ हफ्ते पहले दिखाई दिया था, जिसे कभी ग्राउंड जीरो माना जाता था।

ड्रास्टिक की वेबसाइट में 24 "ट्विटर जासूस" सूचीबद्ध हैं, लेकिन इसमें "चीन विशेषज्ञ और वैज्ञानिक" भी शामिल हैं जो अपनी "गोपनीयता और सुरक्षा" सुनिश्चित करने के लिए गुमनाम रूप से काम कर रहे हैं।

न्यूज़वीक की रिपोर्ट ने उन सदस्यों में से एक को उजागर किया, जो एक भारतीय युवक है और जो देश के पूर्वी हिस्से में रहता है। वह 'द सीकर' के उपनाम के तहत काम करता रहा है।

टीम ने हजारों दस्तावेजों और चीनी वैज्ञानिक पत्रों के माध्यम से यह पता लगाया कि शोधकर्ताओं ने 2012 में युन्नान प्रांत के मोजियांग गांव में एक खदान में सार्स वायरस के एक स्वरूप की खोज की थी।

अपने निरंतर शोध के माध्यम से ड्रास्टिक ने पाया कि छह खननकर्ताओं को आरएटीजी13 नामक वायरस से संक्रमित किया गया था, जिसमें सार्स वायरस के समान आनुवंशिक बनावट है। बाद में तीन खननकर्ताओं की मौत हो गई।

ड्रास्टिक ने जिन सबूतों का खुलासा किया उनमें से प्रमुख कड़ी बैट वायरोलॉजिस्ट शी झेंगली है, जो डब्ल्यूआईवी की निदेशक भी हैं। समूह ने शी द्वारा प्रकाशित वैज्ञानिक पत्रों को ट्रैक किया और खदान में खोजे गए 2012 के वायरस के बारे में 2020 में मीडिया में किए गए शी के दावे का हवाला दिया। शी ने कहा था कि उस वाइरस को संभवतः सार्स-कोवी-2 का अग्रदूत माना जा सकता है, जो वायरस कोविड -19 महामारी को ट्रिगर करता है।

खननकर्ताओं के बारे में जानकारी मिलना मुश्किल था। हालांकि द सीकर ने अपने संपूर्ण शोध के माध्यम से खननकर्ताओं को दिए गए पूर्वानुमान और उपचार पर 2013 के अहम थीसिस का पता लगा लिया।

ड्रास्टिक ने उन दस्तावेजों को भी खोजा जो दिखाते हैं कि डब्ल्यूआईवी बड़े पैमाने पर वुहान लैब में कोरोना वाइरस के उस बैच का अध्ययन कर रहा था, जो कि उसके दावों के विपरीत, मोजियांग खदान में खोजा गया था।

न्यूज़वीक की रिपोर्ट में कहा गया है कि साक्ष्य निर्णायक रूप से यह साबित नहीं करता है कि कोविड -19 डब्ल्यूआईवी से लीक हुआ है, इसने सिद्धांत को मुख्यधारा के विमर्श में वापस लाकर अधिक मजबूत जांच पर जोर देने के लिए मजबूर किया है।

ड्रास्टिक की जांच में यह भी पता चला कि डब्ल्यूआईवी ने वर्षों से "खतरनाक कोरोनावायरस" का एक भंडार बनाया था, संभवतः एक वैक्सीन बनाने के अंतिम लक्ष्य के साथ। हालाँकि, इसने कभी भी वैश्विक वैज्ञानिक समुदाय के साथ विवरण साझा नहीं किया, ऐसी जानकारी जो महामारी को बहुत जल्द पहचानने में मदद कर सकती थी।

"वुहान इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी ने खतरनाक कोरोना वाइरस को इकट्ठा करने में वर्षों बिताए थे, जिनमें से कुछ को उसने दुनिया के सामने कभी नहीं उजागर किया। यह लोगों को संक्रमित करने की उनकी क्षमता निर्धारित करने के लिए सक्रिय रूप से इन वायरस का परीक्षण कर रहा था, साथ ही उस क्षमता को बढ़ाने के लिए कौन से उत्परिवर्तन आवश्यक हो सकते हैं - संभवतः एक टीका बनाने के अंतिम लक्ष्य के साथ जो उन सभी के खिलाफ सुरक्षा करेगा। और इसे कवर करने के चल रहे प्रयास का अर्थ है कि कुछ गलत हो सकता है," न्यूजवीक ने बताया।

Next Story

विविध

Share it