आर्थिक

Petrol Ka Dam: पेट्रोल डीजल के दामों को लेकर संशय बरकरार, जानिए कैसे जीएसटी के दायरे में आने से 30 रुपये तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल

Janjwar Desk
17 Sep 2021 3:26 PM GMT
Petrol-Diesel Price Today Petrol Ka Dam
x
Petrol Ka Dam: पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार 12वें दिन कोई बदलाव नहीं, घटते दामों को लेकर संशय बरकरार, वित्त मंत्री के अगुवाई में देर शाम तक चली बेठक, जीएसटी के दायरे में आने से 30 रुपये तक सस्ता हो सकता है पेट्रोल...

Petrol Ka Dam18-09-2021: दिल्ली| शुक्रवार को जीएसटी काउंसिल के बैठक के बीच पेट्रोल-डीजल के दामों में लगातार 12वें दिन भी कोई गिरावट नहीं हुई। पेट्रोल-डीजल के दामों में आखिरी बार 5 सितबंर को बदलाव हुआ था जब किमतों में 15 पैस की गिरावट दर्ज की गई थी।

शुक्रवार को प्रमुख शहरों में पेट्रोल 100 के पार बिका। दिल्ली में पेट्रोल 101.19 रुपये प्रति लीटर बिका, जबकि डीजल अधिकतम 88.62 रुपये प्रति लीटर रहा। मुंबई में पेट्रोल की किमत 107.26 रुपये प्रति लीटर और डीजल 96.19 रुपये प्रति लीटर बिका।

लखनऊ में हुए जीएसटी काउंसिल की बैठक में टिकी निगाह

शुक्रवार को देर शाम तक जीएसटी काउंसिल की बैठक चलती रहै। यह बैठक वित्त मंत्री मिर्मला सीतारमन को अगुवाई में हुई। बैठक में लिए फैसले पर सबकी निगाह टिकी है, क्योंकि इस बैठक में पेट्रोल-डीजल को लेकर बड़ फैसला हो सकता है जिसका सीधा असर इलके किमतों पर पड़ेगा। हर बार की तरह पेट्रोल-डीजल को जीएसी के दायरो में लाने को लेकर आम जनता में संशय वरकारार है। अगर पेट्रोल-डीजल जीएसटी के दायरे में आता है तो इसके दामों में 20-30 रुपये तक की गिरावट हो सकती है। GST के दायरे में आने से एक तरफ आम जनता को जहां पेट्रोल के आसमान छूते किमतों से निजात मिलेगा, वहीं राज्य सरकार के रेवेन्यू पर इसका सीधा असर पड़ेगा। आपको बता दें कि राज्य सरकारों के कमाई का बड़ा हिस्सा पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स से आता है।

कैसे जीएसटी में आने से घटेंगे पेट्रोल के दाम

आपको बता दे कि पेट्रोल-डीजल के दामों का करीब 60 फीसदी हिस्सा टैक्स होता है, केन्द्र और राज्य सरकार दोनों के खजाने में जाता है। मौजूदा समय की बात करें तो पेट्रोल के 101रुपये प्रति लीटर में से मात्र 41.10 रुपये पेट्रोल का खर्च होता है जबकि 56.25 रुपये टैक्य और 3.84 रुपये कमीशन का होता है।

अगर पेट्रोल-डीजल जीएसटी के दायरे में आता है तो इस पर लगने वाला मनमाना टैक्स कम हो कर सीमित हो जाएगा। जीएसटी के तहत अधिकतम टैक्स 28 फीसदी है तो पेट्रोल-डीजल पर लगने वाला टैक्स भी कम होगा। वर्तमान में पेट्रोल पर लगने वाला टैक्स 56.25 रुपये से घटकर 25-27 रुपये हो जाएगा वहीं, डीजल पर लगने वाला टैक्स 43.86रुपये से घटकर 22-24 रुपये प्रति लीटर हो जाएगा। यानि अगर पेट्रोल-डीजल GST के दायरे में आते हैं तो दिल्ली में पेट्रोल की किमत करीब 72 रुपये प्रति लीटर और डीजल की किमत 70 रुपये प्रति लीटर हो जाएगा।

GST लागू होने से राज्यों को हो सकता है नुकसान

अगर जीएसटी काउंसिल की हो रही बैठक में पेट्रोल-डीजल को जीएसटी केदायरे में लाने को लेकर सहमति बनती है तो इसका नुकसान राज्यों को उठाना पड़ सकता है। राज्यों की अधिकतर आय पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स से होती है। यही कारण है कि लंबे वक्त से विचार के बावजूद पेट्रोल-डीजल को जीएसटी में नहीं लाया गया है। पेट्रोल-डीजल पर लगने वाला टैक्स केन्द्र सरकार के रेवेन्यू का प्रमुख जरिया है। इसके जीएसटी में आने से केंद्र सरकार को करीब एक लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा।

Next Story

विविध

Share it