Top
स्वास्थ्य

कोविड-19 से बचाव में एंटिबायोटिक असरदार नहीं, ये बैक्टीरिया पर कारगर हैं वायरस पर नहीं

Janjwar Desk
19 July 2020 5:21 AM GMT
कोविड-19 से बचाव में एंटिबायोटिक असरदार नहीं, ये बैक्टीरिया पर कारगर हैं वायरस पर नहीं

File photo

कोविड-19 को लेकर सोशल मीडिया पर लगातार अफवाहें फैल रहीं हैं। WHO और PIB ने इन अफवाहों से बचने की हिदायत दी है।

जनज्वार। कोविड-19 का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। ऐसे में कोरोना वायरस को लेकर लोगों के बीच कई भ्रांतियां फैली हुई हैं। कोरोना वायरस को लेकर फैली दहशत में इन अफवाहों का भी बहुत बड़ा हाथ है।

सोशल मीडिया पर कई तरह के अफवाहों और तरह-तरह के इलाज के दावों ने लोगों को और डरा दिया है। कई जगह अफवाह है कि एंटिबायोटिक से कोरोना का इलाज संभव है। WHO और PIB ने फैक्ट चेक कर हिदायत दी है। दोनों संगठनों ने कहा है कि किसी भी प्रकार का एंटीबायोटिक कोरोना के लिए असरदार नहीं है।

एंटीबायोटिक केवल बेक्टेरिया के खिलाफ काम करता है, जबकि कोविड-19 एक वायरस है, इसलिए कोई भी एंटीबायोटिक कोरोना वायरस पर प्रभावी नहीं है, जबकि सोशल मीडिया के साथ-साथ लोगों के बीच भी ऐसी भ्रांति फैली हुई है।

PIB द्वारा बताया गया है कि कोरोना वायरस भले ही घातक है, मगर इसके बचाव और सावधानियां बरतने से इसके संक्रमण से बचा जा सकता है।

पीआईबी ने फैक्ट चेक कर किया खंडन

सोशल मीडिया पर कई ऐसे पोस्ट सामने आए हैं, जिनमें दावा किया गया है कि एंटीबायोटिक कोरोना वायरस से बचाव में कारगर साबित हो सकता है। मगर पीआईबी ने अपने फैक्ट चेक में पाया है कि एंटीबायोटिक से कोरोना वायरस बचाव नहीं हो सकता है। PIB ने कहा है कि कोरोना वायरस से लड़ने में एंटीबायोटिक सक्षम नहीं होते, चूंकि ये बैक्टीरिया पर कारगर होते हैं, वायरस पर नहीं, जबकि कोविड-19 एक वायरस है।

पीआईबी ने कोरोना वायरस पर कुछ सही जानकारी साझा किया है, जिसे सबको समझने की जरूरत है, ताकि कोरोना वायरस पर पैनिक होने की बजाय इसके सही बचाव पर ध्यान देकर इससे संक्रमित होने से बचा जाय।

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने भी किया फैक्ट चेक

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने भी यह दावा किया है कि एंटीबायोटिक्स केवल बैक्टीरिया के खिलाफ काम करते हैं, वायरस के नहीं। कोविड-19 वायरस के कारण होता है, इसलिए एंटीबायोटिक्स का उपयोग रोकथाम या उपचार के लिए नहीं किया जाना चाहिए। हालांकि, अगर किसी को कोविड-19 के लिए अस्पताल में भर्ती कराया जाता है, तो उसे एंटीबायोटिक्स मिल सकती हैं क्योंकि बैक्टीरिया का सह-संक्रमण संभव है।

प्रमाणिक सूचनाओं वाले माध्यमों को ही चुनें

प्रमाणिकता वाली सूचना देने वाले अधिकृत माध्यमों को चुने जाने के लिए भी केंद्र व राज्य सरकारों की ओर से अपील की गयी है। इनमें विश्व स्वास्थ्य संगठन, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय, सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रीवेंशन आदि शामिल हैं। इन सबके द्वारा सही सूचनाएं पहुंचाने के लिए कोरोनावायरस संक्रमण को लेकर जानकारी देने व जागरूकता लाने का काम किया जा रहा है।

घर से निकलते समय मास्क जरूर पहनें

कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर प्रशासन ने मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। ऐसे में घर से निकलते समय मास्क पहनकर ही निकलें। मास्क नहीं पहनने वालों के खिलाफ प्रशासन अभियान चला रही है। प्रशासन की ओर से मास्क नहीं पहनने वालों से जुर्माने की वसूली की जा रही है। मास्क के उपयोग से कोविड-19 के संक्रमण से बचाव किया जा सकता है। इसलिए मास्क का उपयोग बेहद जरूरी है।

इन बातों का रखें खास ध्यान

छींकते या खांसते समय रूमाल या टिश्यू पेपर का इस्तेमाल करें। बहुत अधिक इस्तेमाल होने वाले सतहों जैसे दरवाजे का हैंडल या ऐसी अन्य जगहों की नियमित सफाई जरूरी है। खुले में या सार्वजनिक जगहों पर जहां तहां नहीं थूंके. ऐसा करना दंडनीय अपराध भी है। बिना किसी उद्देश्य या औचित्य के यात्रा करने से बचें। बहुत जरूरी हो तभी यात्रा करें। कोविड 19 संक्रमित या उसके परिवार वालों के साथ भेदभाव न कर सहाभूति से पेश आयें।

Next Story

विविध

Share it