आंदोलन

Lucknow news : दबंगों ने तोड़ी सीतापुर के प्राइमरी स्कूल में लगी अम्बेडकर की प्रतिमा, माले ने लगाया योगी सरकार पर शरारती तत्वों का मनोबल बढ़ाने का आरोप

Janjwar Desk
19 Aug 2022 2:01 PM GMT
Lucknow news : दबंगों ने तोड़ी सीतापुर के प्राइमरी स्कूल में लगी अम्बेडकर की प्रतिमा, माले ने लगाया योगी सरकार पर शरारती तत्वों का मनोबल बढ़ाने का आरोप
x

Lucknow news : दबंगों ने तोड़ी सीतापुर के प्राइमरी स्कूल में लगी अम्बेडकर की प्रतिमा, माले ने लगाया योगी सरकार पर शरारती तत्वों का मनोबल बढ़ाने का आरोप

Lucknow news : रिक्खीपुरवा में डॉ. भीमराव आंबेडकर की मूर्ति लगी हुई थी, जिसे गुरुवार 18 अगस्त की रात को अराजक तत्वों ने तोड़ दिया। अंबेडकर की मूर्ति से उनका सर अलग कर किनारे डाल दिया गया था

Lucknow news : भाकपा (माले) की राज्य इकाई ने सीतापुर जिले के हरगांव में बीती रात 18 अगस्त को एक प्राइमरी पाठशाला के पार्क में डॉ. बीआर अम्बेडकर की लगी आदमकद प्रतिमा को शरारती तत्वों द्वारा तोड़ देने की कड़ी निंदा की है।

पार्टी के राज्य सचिव सुधाकर यादव ने कहा कि स्वतंत्रता दिवस की पूर्व संध्या यानी 14 अगस्त पर हरगांव थानाक्षेत्र में रिक्खीपुरवा गांव के दलितों पर पड़ोसी गांव के सवर्ण दबंगों द्वारा किये गए हमले की घटना में नामजद रिपोर्ट (एफआईआर सं0 462/22) दर्ज होने के बावजूद पुलिस ने एक भी हमलावर की गिरफ्तारी नहीं की।

जानकारी के मुताबिक ग्राम रिक्खीपुरवा में डॉ. भीमराव आंबेडकर की मूर्ति लगी हुई थी, जिसे गुरुवार 18 अगस्त की रात को अराजक तत्वों ने तोड़ दिया। अंबेडकर की मूर्ति से उनका सर अलग कर किनारे डाल दिया गया था। शुक्रवार 19 अगस्त की सुबह होने पर घटना की जानकारी ग्रामीणों को हुई तो गुस्सायी जनता ने पुलिस को इस बात की जानकारी दी।

धारदार हथियार से हुए हमले में दलित ग्राम प्रधान के भतीजे व प्रधान प्रतिनिधि सहित आधा दर्जन दलित घायल हैं। उल्टे पुलिस ने रिपोर्ट लिखाने गए माले नेता व जिला पंचायत सदस्य अर्जुनलाल सहित फरियादी दलितों को जेल भेज दिया और हमलावर अपराधियों को आजाद छोड़ दिया। इससे शरारती तत्वों का मनोबल बढ़ा और उन्होंने अम्बेडकर प्रतिमा तोड़कर सिर धड़ से अलग कर दिया।

कामरेड सुधाकर ने कहा कि योगी सरकार द्वारा सवर्ण दबंगों को संरक्षण देने की नीति पर अमल किया जा रहा है, जिसके चलते सीतापुर समेत प्रदेश में दलितों-गरीबों पर हमले की घटनाएं बढ़ रही हैं। थानों में दलितों की सुनवाई नहीं हो रही है और न्याय मिलना तो दूर की कौड़ी हो गई है। हरगांव पुलिस की उक्त अन्यायपूर्ण कार्रवाई के खिलाफ और निर्दोषों की रिहाई के लिए 14 अगस्त से सीतापुर जिला मुख्यालय पर माले कार्यकर्ता और पीड़ित परिवार के लोग दिन.रात लगातार धरने पर बैठे हैं, मगर प्रशासन जन आवाज को नजरअंदाज कर रहा है। यही नहीं, गैंगेस्टर लगाकर जेल में सड़ा देने की धमकी हरगांव के थानाध्यक्ष दलितों को दे रहे हैं।

माले नेता ने कहा कि रिक्खीपुरवा गांव में अंबेडकर की मूर्ति भंजन की घटना के बाद प्रशासन ने फटाफट डॉ अम्बेडकर की नई प्रतिमा आज भले ही स्थापित करा दी हो, मगर गुनहगार पुलिस की पकड़ से बाहर हैं। दलित ग्राम प्रधान विमला सिंह ने थानाध्यक्ष को लिखित तहरीर दी है, जिसमें शरारती तत्वों पर प्रतिमा तोड़कर दलितों की आस्था आहत करने का आरोप लगाया गया है।

तहरीर में ग्राम बक्सोहिया के सवर्ण दबंगों पर मूर्ति तोड़कर माहौल बिगाड़ देने की आशंका व्यक्त की गई है। ये वही दबंग हैं, जिन्होंने 14 अगस्त को दलितों पर हमला किया था। जानलेवा हमले का पहले ही सामना कर चुके पीड़ित दलित मूर्ति का सिर धड़ से अलग करने की कार्रवाई से दहशत में हैं। उन्हें आगे और बड़े हमले की आशंका है। ऐसे में जरुरी है कि उनके नेता सहित जेल भेजे गए साथियों को अविलंब बिना शर्त रिहा किया जाए, दलित ग्रामवासियों की सुरक्षा व्यवस्था की जाए और दबंग हमलावरों को जेल भेज कर उनके किये की सख्त सजा दी जाए।

माले राज्य सचिव ने कहा कि न्याय न हुआ तो आगामी 26 अगस्त को सीतापुर जिले में बड़ा आंदोलन होगा।

Next Story

विविध