दिल्ली

Qutub Minar or Vishnu Pillar : संस्कृति मंत्रालय के आदेश पर कुतुब मिनार का होगा Iconography, इस राज से उठेगा पर्दा

Janjwar Desk
22 May 2022 8:14 AM GMT
Qutub Minar Controversy : कुतुब मामले में आया नया मोड़, शाही परिवार के 1 शख्स ने साकेत कोर्ट में मालिकाना हक का दावा ठोका
x
Qutub Minar or Vishnu Pillar : केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने कुतुब मीनार में मूर्तियों की Iconography कराने का निर्देश दिया।

Qutub Minar or Vishnu Pillar : उत्तर प्रदेश के ज्ञानवापी मस्जिद, श्रीकृष्ण जन्मभूमि मथुरा, ताजमहल विवाद के बीच संस्कृति मंत्रालय ( Cultural Ministry ) ने बड़ा फैसला लिया है। इस फैसले के तहत मंत्रालय ने भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ( ASI ) विभाग को देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) स्थित कुतुब मीनार (Qutub Minar) परिसर की खुदाई (Excavation) शुरू करने का निर्देश दिया है। संस्कृति मंत्रालय ने निर्देश दिया है कि कुतुब मीनार में मूर्तियों की Iconography कराई जाए।

संस्कृति मंत्रालय ( Cultural Ministry ) के इस फैसले के बाद अब कुतुब मीनार परिसर में एक रिपोर्ट के आधार पर Excavation शुरू होगा। ASI कुतुब मीनार की खुदाई कर संस्कृति मंत्रालय को रिपोर्ट देगा। केंद्रीय संस्कृति सचिव ने शनिवार को अधिकारियों के साथ साइट विजिट में ये फैसले लिए हैं। जानकारी के मुताबिक मीनार के दक्षिण में मस्जिद से 15 मीटर की दूरी पर खुदाई शुरू की जा सकती है।

क्या होता है Iconograph?

आइकॉनोग्राफी कला इतिहास की एक शाखा है जो छवियों की सामग्री की पहचान, विवरण और व्याख्या का अध्ययन करती है। अध्ययन के आधार पर परातत्व से संबंधित विषयों पर फैसला लिया जाता है।

साकेत कोर्ट में कल होगी सुनवाई

हाल ही में कुतुब मीनार परिसर में मौजूद कुव्वुतुल इस्लाम मस्जिद में हिंदू देवताओं की पुनर्स्थापना और पूजा-अर्चना का अधिकार मांगने को लेकर साकेत कोर्ट में एक याचिका दायर की गई थी। हिंदू संगठनों की याचिका पर सोमवार यानि 24 मई को सुनवाई की जाएगी। याचिका में दावा किया गया है कि मुहम्मद गोरी के सिपाहसलार (जनरल) कुतुबुद्दीन एबक ने 27 मंदिरों को आंशिक रूप से तोड़ दिया था और इस सामग्री से परिसर में कुव्वत-उल-इस्लाम मस्जिद बनाई थी।

ताजा रिपोर्ट के मुताबिक कुतुबमीनार के पास स्थित मस्जिद से 15 मीटर की दूरी पर खुदाई की जा सकती है। मंत्रालय के सचिव गोविंद मोहन ने शनिवार को इसके लिए हाईलेवल मीटिंग भी की। कुतुबमीनार में 1991 में अंतिम बार खुदाई का काम हुआ था।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story