राष्ट्रीय

DHFL scam : मोदी राज में सबसे बड़े बैंक घोटाले का खुलासा, 34000 करोड़ की हेराफेरी में CBI की कई ठिकानों पर रेड, FIR

Janjwar Desk
23 Jun 2022 2:02 AM GMT
DHFL scam : देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले का खुलासा, 34000 करोड़ की हेराफेरी मामले में CBI की कई ठिकानों पर रेड, FIR
x

DHFL scam : देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले का खुलासा, 34000 करोड़ की हेराफेरी मामले में CBI की कई ठिकानों पर रेड, FIR

DHFL scam : यूनियन बैंक ऑफ इंडिया के डिप्टी जनरल मैनेजर विपिन कुमार शुक्ला ने इस घोटाले को लेकर सीबीआई को लिखित में शिकायत दी थी।

DHFL scam : अग्निपथ स्कीम का विरोध और महाराष्ट्र में सियासी उठापटक के बीच देश का सबसे बड़ा बैंक घोटाला ( Bank Scam ) सामने आया है। यह घोटाला 34 हजार करोड़ रुपए से अधिक का बताया जा रहा है। सीबीआई ( CBI ) ने इस मामले में दीवान हाउसिंग फाइनेंस लिमिटेड ( DHFL ) और उसके सहयोगियों के खिलाफ मुकदमा ( FIR ) दर्ज किया है। साथ ही देश भर में कई जगहों पर छापेमारी भी की है।

सीबीआई ने छापेमारी ( CBI raids) के दौरान कई अहम दस्तावेज और इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस बरामद हुए हैं। इससे पहले सबसे बड़े घोटाले ( Bank fraud ) के तौर पर 22 हजार करोड़ का बैंक घोटाला ( Banking Scam ) सामने आया था।

यूबीआई बैंकिंग समूह को लगाया 34,615 करोड़ का चूना

देश के सबसे बड़े बैंक घोटाले को लेकर सीबीआई प्रवक्ता आरसी जोशी ने बताया है कि यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ( UBI ) के डिप्टी जनरल मैनेजर विपिन कुमार शुक्ला ने लिखित शिकायत दी थी। यूबीआई की शिकायत में कहा गया था कि दीवान हाउसिंग फाइनेंस कार्पोरेशन लिमिटेड ( DHFL ) और उसकी सहयोगी कंपनियों और सहयोगियों ने 17 बैंकों के समूह का नेतृत्व कर रहे यूनियन बैंक ऑफ इंडिया को 34 हजार 615 करोड़ रुपए का चूना लगाया है। यह घटनाक्रम साल 2010 से साल 2019 के बीच का है।

इन बैंकों के हजारों करोड़ फंसे

ताजा अपडेट के मुताबिक DHFL कंपनी काफी पुराने समय से बैंकों से क्रेडिट सुविधाएं लेती रही है। यह कंपनी कई क्षेत्रों में काम करती है। इस कंपनी ने 17 बैंकों के समूह से जिसमें बैंक ऑफ बड़ौदा, सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, आईडीबीआई, यूको बैंक, इंडियन ओवरसीज बैंक, पंजाब एंड सिंध बैंक, स्टेट बैंक ऑफ इंडिया जैसे बैंकों से दिल्ली, मुंबई, अहमदाबाद, कोलकाता और कोचीन आदि जगहों पर क्रेडिट सुविधा ली। आरोप है कि इस कंपनी ने बैंकों से कुल 42 हजार करोड़ से ज्यादा का लोन लिया, लेकिन उसमें से 34,615 हजार करोड़ रुपए का लोन वापस नहीं किया। साथ ही उनका एक खाता 31 जुलाई, 2020 को एनपीए हो गया।

13 लोगों के खिलाफ केस दर्ज

अब केंद्रीय जांच ब्यूरो ( CBI ) ने इस मामले में दीवान हाउसिंग फाइनेंस कारपोरेशन लिमिटेड ( DHFL ) , उसके निदेशक कपिल वधावन, धीरज वधावन एक अन्य व्यक्ति सुधाकर शेट्टी अन्य कंपनियों गुलमर्ग रिलेटेर्स, स्काईलार्क बिल्डकॉन दर्शन डेवलपर्स, टाउनशिप डेवलपर्स समेत कुल 13 लोगों के खिलाफ विभिन्न आपराधिक धाराओं के तहत मुकदमा ( FIR ) दर्ज किया।

12 से ज्यादा ठिकानों पर तलाशी जारी

सीबीआई ( CBI ) ने बैंक फ्रॉड ( Bank Fraud ) मामले में मामला दर्ज करने के बाद 50 से अधिक अधिकारियों की एक टीम आरोपियों के मुबंई स्थित 12 ठिकानों की तलाशी ले रही है, जिसमें अमरेलिस रियल्टर्स के सुधाकर शेट्टी और आठ अन्य बिल्डर भी शामिल हैं। बैंक ने आरोप लगाया है कि कंपनी ने 2010 और 2018 के बीच कंसोर्टियम से 42,871 करोड़ रुपए की क्रेडिट फैसिलिटी का लाभ उठाया था, लेकिन मई 2019 से उन्होंने लोन पर डिफॉल्ट करना शुरू कर दिया।

Next Story

विविध