समाज

Jaipur : मौत का स्टेटस लगा 3 बहनों ने सबको कह दिया अलविदा, 7 की मौत, 2 ऐसी जिदंगी भी जिसे इस दुनिया में आने का था इंतजार

Janjwar Desk
29 May 2022 2:36 AM GMT
Jaipur : मौत का स्टेटस लगा 3 बहनों ने सबको कह दिया अलविदा, 7 की मौत, 2 ऐसी जिदंगी भी जिसे इस दुनिया में आने का था इंतजार
x

Jaipur : मौत का स्टेटस लगा 3 बहनों ने सबको कह दिया अलविदा, 7 की मौत, 2 ऐसी जिदंगी भी जिसे इस दुनिया में आने का था इंतजार

Jaipur : तीनों बहनों की शादी एक ही परिवार में 2005 में हुई थी। उनके पति खेतों में काम करते थे। आरोप है कि उनके ससुराल वाले उन्हें दहेज को लेकर परेशान कर रहे थे।

Jaipur : राजस्थान की राजधानी जयपुर ( jaipur ) से एक दिल दहला देने वाली घटना सामने आई है। यह मामला जयपुर के दूदू इलाके से जुड़ा है। मानवीयता को शर्मसार करने वाली इस घटना में एक ही परिवार के पांच लोगों की लाश कुएं में मिली है। इसके अलावा दो लाश ऐसी थी जिसे इस दुनिया में अभी आने का इंतजार था। कहने का मतलब यह है कि मरने वालों में एक ही परिवार की तीन बहनें शामिल थीं। इनमें से दो गर्भवती थी। फिलहाल, जयपुर पुलिस ( jaipur Police ) इस सनसनीखेज वारदात को आत्महत्या ( Jaipur Mass Suicide Case ) मान रही है।

जयपुर पुलिस ( Jaipur Police ) के मुताबिक मृतकों में तीन बहनें शामिल हैं। तीनों की शादी एक ही परिवार में बहुत कम उम्र में हो गई थी। उनके दो बच्चे थे। इसमें दो महिलाएं गर्भवती भी थीं। 25 मई को तीनों बहनें बच्चों के संग बाजार जाने के बहाने निकली थीं लेकिन जब वो वापस घर नहीं आईं तो उनके परिवार के सदस्यों ने अलग-अलग जगहों पर गुमशुदगी के पोस्टर लगा दिए और शिकायत दर्ज कराई।

तीनों बहनों की शादी 2005 में हुई थी

तीनों बहनों की शादी एक ही परिवार में 2005 में हुई थी। उनके पति खेतों में काम करते थे। तीनों शराब पीने के आदी थे। आरोप है कि तीनों बहनों को उनके ससुराल वाले मायके से दहेज लाने के लिए परेशान कर रहे थे। तीनों बहनें के एक चचेरे भाई हेमराज मीणा ने आरोप लगाया कि मेरी एक बहन को उसके ससुराल वालों ने बुरी तरह पीटा था। हमारी बहनों की हत्या की गई है। जयपुर पुलिस ( jaipur Police ) को शव खोजने में काफी वक्त लगा।

3 बहनों में ममता और कमलेश गर्भवती थी




इस मामले में जयपुर पुलिस ने ससुराल वालों के परिवार के कुछ सदस्यों को हिरासत में लिया है। मृतकों की पहचान काली देवी (27), ममता मीणा (23) और कमलेश मीणा (20) के रूप में हुई है। मरने वालों में हर्षित (4) और 20 दिन का एक बच्चा भी शामिल है। मृतकों में दो ऐसा बच्चा भी शामिल है जो मां के गर्भ में था और बहुत जल्द इस दुनिया में दस्तक देने वाला था। तीन बहनों में ममता और कमलेश गर्भवती थीं।

5 की नहीं 7 की गई जान, महिलाओं की पीड़ा समझ से परे

Rajasthan Crime News : पीपुल्स यूनियन फॉर सिविल लिबर्टीज की कार्यकर्ता कविता श्रीवास्तव का कहना है कि दर्दनाक हादसे में 5 नहीं 7 लोगों की जान चली गई। दो महिलाएं गर्भवती थीं। दोनों अपने अजन्मे बच्चे के साथ मर गईं। यह एक अत्यंत जघन्य अपराध है। महिलाओं की पीड़ा समझ से परे है। इस मामले की जांच स्थानीय पुलिस के बजाय एक उच्च पदस्थ अधिकारी द्वारा निष्पक्ष और गहन जांच होनी चाहिए।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story