राष्ट्रीय

UP Election 2022: IPS असीम अरुण के बाद ED के ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश्वर सिंह ने लिया VRS, भाजपा ने दिया ऑफर

Janjwar Desk
8 Jan 2022 7:01 PM GMT
UP  Election 2022: IPS असीम अरुण के बाद ED के ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश्वर सिंह ने लिया VRS, भाजपा ने दिया ऑफर
x

IPS असीम अरुण और ED के ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश्वर सिंह ने लिया VRS


UP Election 2022: चुनाव से पहले जहां नेताओं के दल बदल की परंपरा हैं, तो वहीं प्रदेश में गंगा उल्टी बहने लगी है। चुनावी तारीख के ऐलान होते ही कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरुणऔर ईडी के डायरेक्टर राजेश्वर सिंह ने वीआरएस के लिए आवेदन दे दिया है...

Uttar Pradesh Election 2022: चुनाव आयोग द्वारा विधानसभा चुनाव (Uttar Pradesh Election) के तारीखों का ऐलान होते ही यूपी में अलग ही माहौल हो गया है। चुनाव से पहले जहां नेताओं के एक पार्टी से दूसरे पार्टी में जाने की परंपरा हैं, तो वहीं प्रदेश में गंगा उल्टी बहने लगी है। यूपी में नेताओं की जगह बड़े बड़े पोस्ट पर तैनात अफसरों के चुनाव में उतरने की अटकलें तेज हो गईं है। दरअसल, चुनावी तारीख के ऐलान होते ही कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरुण (Police Commissioner Aseem Arun) और ईडी के डायरेक्टर राजेश्वर सिंह ने वीआरएस के लिए आवेदन दे दिया है। दोनों ऑफिसर के वीआरएस लेने की वजह चुनावी बताई जा रही है।

आईपीएस और कानपुर के पुलिस कमिश्नर असीम अरुण ने फेसबुक पर पोस्ट लिख कर वीआरएस की घोषणा की है। आईपीएस असीम अरुण के कन्नौज सदर सीट से चुनाव लड़ने की चर्चा है। चुनाव से पहले असीम अरुण के साथ ED के ज्वाइंट डायरेक्टर राजेश्वर सिंह (ED Joint Director Rajeshwar Singh) ने भी VRS ले लिया है। हालांकि, उन्होंने अब तक इसको लेकर कोई औपचारिक ऐलान नहीं किया है। माना जा रहा है कि राजेश्वर सिंह को गाजियाबाद के साहिबाबाद से भाजपा मैदान में उतार सकती है।

कौन हैं आईपीएस असीम अरुण

बता दें की कानपुर में कमिश्नरी लागू होने के बाद असीम अरुण पहले आईपीएस थे जो शहर के पहले सीपी बने थे। उनका पैतृक गांव कन्नौज है। इसके अलावा सबसे पहले स्वॉट गठित करने का श्रेय भी असीम अरूण को जाता है। एडीसी ऑफिसर रैंक के असीम अरुण 1994 बैच के IPS अधिकारी हैं। तीन अक्टूबर 1970 को इनका जन्म बदायूं में हुआ था। इनके पिता श्री राम अरुण भी प्रदेश के तेजतर्रार आइपीएस थे। वह प्रदेश के DGP का पद भी संभाल चुके हैं। असीम अरुण (Aseem Arun) की मां शशि अरुण जानी-मानी लेखिका हैं। अपने पिता की तरह ही आईपीएस असीम अरुण (IPS Aseem Arun) ने भी सिविल सर्विसेज में हाथ आजमाया और सफलता प्राप्त की। बताया जा रहा है कि शनिवार 08 जनवरी की असीम अरुण ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मुलाकात की थी, जिसके बाद उन्होंने वीआरएस के लिए आवेदन दे दिया।

कौन हैं ईडी डायरेक्टर राजेश्वर सिंह

वहीं, ईडी के लखनऊ ज़ोन के डायरेक्टर राजेश्वर सिंह (ED Director Rajeshwar Singh) 1996 बैच के पीपीएस अधिकारी हैं। लखनऊ में डिप्टी एसपी के रूप में तैनाती के दौरान उन्हें इनकाउन्टर स्पेशलिस्ट माना जाता था। वर्ष 2009 में राजेश्वर सिंह प्रतिनियुक्ति पर ईडी में चले गए थे। वहां भी उन्होंने कई महत्वपूर्ण केस साल्व किये।

राजेश्वर सिंह (Rajeshwar Singh) ऐसे परिवार से आते हैं जिसमें सभी ने खूब पढ़ाई की और अच्छे पदों पर तैनात हैं। इनके एक भाई और एक बहन इनकम टैक्स कमिश्नर हैं। बहनोई राजीव कृष्ण आईपीएस हैं और आगरा ज़ोन के एडीजी हैं। इनके दूसरे बहनोई वाई पी सिंह भी आईपीएस थे और उन्होंने भी वीआरएस ले लिया था। राजेश्वर सिंह के पिता भी पुलिस विभाग में थे और डीआईजी के पद से रिटायर हुए थे। राजेश्वर सिंह की पत्नी लक्ष्मी सिंह भी आईपीएस अधिकारी हैं और इस समय लखनऊ रेंज की आईजी हैं। राजेश्वर सिंह माइनिंग इंजीनियरिंग में बीटेक हैं लेकिन इंजीनियरिंग की पढ़ाई के बाद वे पुलिस सेवा में आ गए। राजेश्वर सिंह के वीआरएस लेने की अटकलों के बीच चर्चा है कि भाजपा उन्हें गाजियाबाद की साहिबाबाद विधानसभा सीट से टिकट दे सकती है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रु-ब-रु कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा। इसलिए आगे आएं और अपना सहयोग दें। सहयोग राशि : 100 रुपये । 500 रुपये। 1000 रुपये। )

Next Story