उत्तर प्रदेश

Taj Mahal Controversy : जिस ताजमहल को लेकर मचा है बवाल, उससे होती है कई सौ करोड़ की कमाई

Janjwar Desk
13 May 2022 11:31 AM GMT
ताजमहल या तेजोमहालय : नगर निगम में आज पेश होगा प्रस्ताव, लेकिन - 2017 के बाद बजते गालों से इसकी छवि सबसे अधिक धूमिल हुई
x

ताजमहल या तेजोमहालय : नगर निगम में आज पेश होगा प्रस्ताव, लेकिन - 2017 के बाद बजते गालों से इसकी छवि सबसे अधिक धूमिल हुई

Taj Mahal Controversy : वित्तीय वर्ष 2021 में लगभग 1.3 मिलियन घरेलू पर्यटकों ने ऐतिहासिक शहर आगरा पहुंचकर ताजमहल का दीदार किया।

Taj Mahal Controversy : पिछले कुछ दिनों से मथुरा में श्रीकृष्ण जन्म स्थान और ज्ञानवापी मस्टिद की तरह ताज महल ( Taj mahal Controversy ) को लेकर भी सियासी और धार्मिक विवाद चरम पर है। इलाहाबाद हाईकोर्ट ( Allahabad High Court ) ने 12 मई को ताज महल के मामले में सख्त रुख अख्तियार करते हुए याचिकाकर्ता व भाजपा नेता रजनीश सिंह को बड़ा झटका दिया। साथ ही इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ताज महल में बंद 22 कमरों को खोलने और फैक्ट फाइंडिंग कमेटी की जांच की मांग वाली याचिका को खारिज कर दिया।

इतना ही नहीं, याची को फटकार लगाते हुए अदालत ने कहा कि Taj mahal के कमरों को खोलने के संबंध में याचिका दायर करने के लिए ऐतिहासिक शोध जरूरी है। इस मसले को इतिहासकारों पर छोड़ देना चाहिए।

दूसरी तरफ दुनिया के सात अजूबों में शुमार और पवित्र प्यार के प्रतीक ताजमहल ( Taj mahal Controversy ) का दीदार करना अन्य इमारतों के मुकाबले सबसे महंगा होने के बावजूद ताज देखने के लिए हर साल लगभग 60 लाख देसी-विदेशी पर्यटक आते हैं। बहुत कम लोगों को पता है कि ताज महल से सरकार कितना पैसा कमा रही है? यदि आप नहीं जानते हैं तो हम आपको बताने जा रहे हैं। सरकार इससे हर साल सैकड़ों करोड़ रुपए कमाती है, जबकि सरकार का इस पर खर्च बहुत कम है।

ताज महल से इतने करोड़ की होती है हर साल कमाई

वित्तीय वर्ष 2016-17 में 49 करोड़ 67 लाख 89 हज़ार 740 रुपए का राजस्व मिला था। 2017-18 में 56 करोड़ 83 लाख 6 हज़ार 551 रुपए की की आमदनी हुई थी। 2018-19 में 81 करोड़ 95 लाख 46 हज़ार 355 रुपए का राजस्व सरकार को प्राप्त हुआ। 2019-20 में 1 अरब 6 करोड़, 82 लाख 88 हज़ार 915 रुपए का राजस्व प्राप्त हुआ। 2020-21 कोरोना महामारी की वजह से कमाई बहुत कम हुई। 2021-22 में ताज महल से आय के संकेत फिर से पटरी पर लौटने के मिले हैं। साल 2021 में 1.3 मिलिया यानि 12 लाख घरेलू पर्यटकें का दीदार किया।

हर साल 60 लाख लोग करते हैं ताज का दीदार

ताज महल ( Taj mahal Controversy ) के अंदर प्रवेश करने के लिए भारतीय नागरिकों के लिए 50 रुपए और विदेशी पर्यटकों के लिए 1100 रुपए हैं। स्मारक मुख्य चबूतरे पर जाने के लिए सभी पर्यटकों को 200 रुपए का टिकट अलग से खरीदना होता है। यानि घरेलू पर्यटक 250 रुपए और विदेशी पर्यटक 1300 रुपए चुकाकर ताज महल का दीदार कर पाते हैं। इसके बावजूद ताज महल सबसे ज्यादा पर्यटकों द्वारा देखा जाता है। हर साल 8 से 9 लाख विदेशी और 40 से 45 लाख भारतीय पर्यटक ताजमहल पहुंचते हैं।

मंसूबों पर पानी फेरा

बता दें कि ताज महल ( Taj mahal Controversy ) दुनिया के सात अजूबों में शामिल है। फिर भी अलग-अलग वैचारिक समूहों द्वारा इसकी पहचान को बदलने का प्रयास जारी है। ये बात अलग है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ताज महल को लेकर दायर याचिका खारिज कर उनके मंसूबों पर पानी फेर दिया है जो इसे तेजो महल के रूप में देखना चाहते हैं। याचिकाकर्ता को फटकार लगाते हुए कहा कि पहले इस विषय पर पीएचडी कीजिए। फिर याचिका दायर कीजिए।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध