समाज

दहेज के पैसे नहीं थे तो बिहार से किडनी बेचने दिल्ली आ गई लड़की

Janjwar Team
17 Oct 2017 5:46 PM GMT
दहेज के पैसे नहीं थे तो बिहार से किडनी बेचने दिल्ली आ गई लड़की
x

डॉक्टर को लगा की पुष्पा किसी रैकेट के चंगुल में फंस गई है और बिहार से यंहा चली आई है, उसने तुरंत मदद के लिए दिल्ली महिला आयोग की महिला हेल्पलाइन 181 पर कॉल करके इसकी सूचना दी...

दिल्ली, जनज्वार। बिहार के लखीसराय जिले से 21 वर्षीय पुष्पा (बदला हुआ नाम) अपनी किडनी बेचने दिल्ली पहुंची। पुष्पा का कहना है कि उसके प्रेमी ने उससे शादी की एवज में पैसे की डिमांड की है, उसकी दहेज की मांग को पूरी करने के लिए वह अपनी किडनी बेचना चाहती है।

साथ ही वह कहती है कि दहेज मांगने वाले उसके प्रेमी से उसकी शादी नहीं हुई तो वह सुसाइड कर लेगी। दिल्ली महिला आयोग ने पुष्पा की काउंसलिंग के बाद उसे शेल्टर होम में रखवाया। इसके बाद आयोग की टीम ने पुलिस के माध्यम से पुष्पा के बारे में पता कर उसके माता—पिता को सूचना दी।

अब पुष्पा की मां उसे बिहार वापस ले जा चुकी है। पुष्पा जिस प्रेमी के लिए अपनी किडनी तक कुर्बान करने चली थी, उसने उसके खिलाफ केस दर्ज करवाने से मना कर दिया।

गौरतलब है कि पुष्पा पहले से ही शादीशुदा थी। दरअसल उसकी कम उम्र में शादी हो गई थी, बाद में कुछ वजहों से उसका तलाक हो गया। तलाक के बाद पुष्पा अपने मां-बाप के घर पर ही रहने लगी। इसी दौरान पड़ोस में रहने वाले एक लड़के से उसकी दोस्ती हो गई और दोनों ने शादी करने का निर्णय लिया।

उसका प्रेमी उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद जिले में काम करता था। पुष्पा अपने परिवार के साथ झगड़ा करके लड़के से शादी करने मुरादाबाद पहुंच गई। वहां उसके प्रेमी ने लड़की से शादी करने के लिए 1.80 हज़ार रुपए की डिमांड कर दी, तो वह पैसों का इंतजाम करने के लिए अपनी किडनी बेचने दिल्ली आ गई।

पुष्पा ने बताया कि लड़के ने कहा कि यदि उसे 1 लाख 80 हजार रुपए देगी तो वो उसके साथ शादी कर लेगा। पुष्पा के पास उसे देने के लिए इतने पैसे नहीं थे तो पुष्पा अपनी किडनी बेचकर पैसों का इंतजाम करने के लिए दिल्ली के लेडी हार्डिंग अस्पताल पहुंच गई।

अस्पताल में उसने एक डॉक्टर को अपनी एक किडनी बेचने के बारे में बताया। डॉक्टर को लगा की पुष्पा किसी रैकेट के चंगुल में फंस गई है और बिहार से यंहा चली आई है, उसने तुरंत मदद के लिए दिल्ली महिला आयोग की महिला हेल्पलाइन 181 पर कॉल करके इसकी सूचना दी। डॉक्टर ने पुलिस को भी इस बारे में सूचना दी।

आयोग की टीम ने अस्पताल में पहुंचकर पुष्पा से बात की तो पुष्पा ने पूरी कहानी बताई। काउंसलर ने पुष्पा की काउंलिंग की और पुलिस के माध्यम से पुष्पा के माता पिता से उसके बारे में सूचना दी। दो दिन बाद उसकी मां दिल्ली आ गई। पुष्पा और उसकी मां दोनों ने लड़के के खिलाफ केस करने से मना कर दिया और बिहार वापस चली गई।

इस संबंध में दिल्ली महिला आयोग की चेयरपर्सन स्वाति जयहिंद कहती हैं, लड़की की नियमित काउन्सलिंग के लिए बिहार महिला आयोग को पत्र लिखा गया है। उन्होंने उस डॉक्टर की भी तारीफ की जिसने पुष्पा के बारे में दिल्ली महिला आयोग को सूचित किया। साथ ही कहा कि लड़कियों को ऐसे मामलों में किसी के बहकावे में नहीं आना चाहिए। (फोटो प्रतीकात्मक)

Next Story

विविध