Top
दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020

आप ने उतारे 36 दागी उम्मीदवार तो भाजपा—कांग्रेस ने दिए 160 करोड़पतियों को टिकट

Nirmal kant
2 Feb 2020 4:15 PM GMT
आप ने उतारे 36 दागी उम्मीदवार तो भाजपा—कांग्रेस ने दिए 160 करोड़पतियों को टिकट

करोड़पति उम्मीदवारों की लगातार बढ़ रही संख्या, साल 2015 के दिल्ली विधानसभा चुनाव में 230 करोड़पति उम्मीदवार थे जबकि इस बार के चुनाव में 243 करोड़पति उम्मीदवार हैं..

जनज्वार। दिल्ली विधानसभा चुनाव 2020 से पहले एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की ओर से आंकड़ों की एक विस्तृत रिपोर्ट जारी की गई है। इस रिपोर्ट में विभिन्न राजनीतिक दलों के दागी उम्मीदवारों की सूची, करोड़पति उम्मीदवारों की जानकारी, उम्मीदवारों की शिक्षा आदि की जानकारी साझा की गई है।

दिल्ली इलेक्शन वॉच और एसोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स (ADR) ने शपथ पत्रों का विश्लेषण किया है। दिल्ली विधानसभा की 70 सीटों के लिए 672 उम्मीदवार मैदान में हैं। इन 672 में से 210 राष्ट्रीय दलों के हैं। 90 उम्मीदवार राज्य स्तरीय दलों, 224 पंजीकृत और गैर मान्यता प्राप्त पार्टियों के हैं। जबकि 148 उम्मीदवार निर्दलीय चुनाव लड़ रहे हैं। इस बार के विधानसभा चुनाव में 95 राजनीतिक दल चुनाव लड़ रहे हैं। जबकि 2015 में दिल्ली विधानसभा चुनावों में 71 राजनीतिक दलों ने चुनाव लड़ा था।

संबंधित खबर : दिल्ली चुनाव में था हार का डर, इसलिए भाजपा ने लिया अकालियों का समर्थन ?

एडीआर की रिपोर्ट के अनुसार 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में कुल 673 उम्मीदवारों में से 114 (17 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले थे। रिपोर्ट के अनुसार, बड़ी पार्टियों में आप के 70 उम्मीदवारों में से 42 (60 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले हैं, भाजपा के 67 उम्मीदवारों में से 26 (39 प्रतिशत) और कांग्रेस के 66 उम्मीदवारों में से 18 (27 प्रतिशत) के खिलाफ आपराधिक मामले दर्ज हैं।

डीआर के मुताबिक बहुजन समाज पार्टी के 66 उम्मीदवारों में से कुल 12 (18 प्रतिशत) और राकांपा के पांच में से तीन (60 प्रतिशत) ने अपने खिलाफ आपराधिक मामलों का अपने शपथपत्र में उल्लेख किया है। अगर गंभीर आपराधिक मामलों की बात करें तो आप इस सूची में सबसे उपर है। इसके 70 उम्मीवारों में से 36 पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

सूची में भाजपा दूसरे स्थान पर है, जिसके 67 उम्मीदवारों में से 17 (25 प्रतिशत) पर गंभीर आपराधिक मामले हैं। कांग्रेस के 66 उम्मीदवारों में से 13 (20 प्रतिशत) पर गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं। वहीं बसपा के 66 उम्मीदवारों में से 13 (20 प्रतिशत) के खिलाफ गंभीर आपराधिक मामले दर्ज हैं।

सोसिएशन फॉर डेमोक्रेटिक रिफॉर्म्स की रिपोर्ट के मुताबिक साल 2008 के विधानसभा चुनाव में 23 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति थे। साल 2013 के विधानसभा चुनाव 33 प्रतिशत करोड़पति उम्मीदवार मैदान में उतरे थे। साल 2015 के विधानसभा चुनाव में 34 प्रतिशत करोड़पति उम्मीदवार चुनाव लड़े थे।

संबंधित खबर : भाजपा के स्टार प्रचारकों की बस एक ही तमन्ना, किसी तरह सांप्रदायिक बन जाए दिल्ली चुनाव

डीआर की रिपोर्ट के मुताबिक सभी मुख्य पार्टियों में कांग्रेस 66 उम्मीदवारों में से 55, आम आदमी पार्टी के 70 में से 51 प्रतिशत, भाजपा के 67 उम्मीदवारों में से 47, बसपा के 66 में से 3 और राकांपा के पांच उम्मीदवारों के पास एक करोड़ से ज्यादा की संपत्ति है। दिल्ली विधानसभा चुनावों में प्रति उम्मीदवार की औसत संपत्ति 4.34 करोड़ रुपये है। 2015 के चुनाव में यह 3.32 करोड़ थी।

उम्मीदवारों की संख्या लगातार बढ़ रही है। साल 2015 के चुनाव में 230 करोड़पति उम्मीदवार थे जबकि इस बार के चुनाव में 243 करोड़पति उम्मीदवार हैं। 2020 के चुनाव में भाजपा के 70 प्रतिशत, आप के 73 प्रतिशत, कांग्रेस के 83 प्रतिशत उम्मीदवार करोड़पति हैं। जबकि 2015 के चुनाव में भाजपा के 72 प्रतिशत, आप के 63 प्रतिशत और कांग्रेस के 84 प्रतिशत करोड़पति उम्मीदवार थे।

Next Story

विविध

Share it