Top
राजनीति

मध्यप्रदेश में BJP की सरकार आते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ बंद हुआ फर्जीवाड़ा केस

Janjwar Team
24 March 2020 12:38 PM GMT
मध्यप्रदेश में BJP की सरकार आते ही ज्योतिरादित्य सिंधिया के खिलाफ बंद हुआ फर्जीवाड़ा केस
x

मध्यप्रदेश में जब कांग्रेस की सत्ता थी तो 12 मार्च को आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने 2009 में ग्वालियर में एक जमीन बेचने के मामले में सिंधिया और उनके परिवार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने का फैसला किया था...

जनज्वार। मध्यप्रदेश की आर्थिक अपराध शाखा ने मंगलवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनके परिवार के सदस्यों के खिलाफ दर्ज उस मामले को बंद कर दिया है जिसमें उनके खिलाफ दस्तावेजों में फर्जीवाड़ा कर जमीन बेचने का आरोप लगया गया था।

सिंधिया ने 10 मार्च को कांग्रेस छोड़ दी थी और उसके बाद भाजपा में शामिल हो गए। कांग्रेस से उनके इस्तीफे के बाद पार्टी की मध्यप्रदेश ईकाई में विद्रोह शुरु हो गया था, इसके बाद जो 22 विधायक उनके खेमे से थे उन्होंने भी इस्तीफा दे दिया। इसके चलते पिछले सप्ताह कमलनाथ की सरकार गिर गई।

संबंधित खबर : ज्योतिरादित्य सिंधिया की बढ़ी मुश्किलें, दस्तावेजों में हेरफेर कर जमीन बेचने का मामला

ब राज्य में कांग्रेस की सत्ता थी तो 12 मार्च को आर्थिक अपराध शाखा (ईओडब्ल्यू) ने 2009 में ग्वालियर में एक जमीन बेचने के मामले में सिंधिया और उनके परिवार के खिलाफ शिकायत दर्ज करने का फैसला किया था।

अपराध शाखा के एक शीर्ष अधिकारी ने 'पीटीआई' के हवाले से कहा, शिकायतकर्ता सुरेंद्र श्रीवास्तव ने 12 मार्च को दूसरी बार हमसे संपर्क किया और सिंधिया के खिलाफ उनकी शिकायत पर फिर से विचार करने की मांग की। हमने शिकायत को अपने ग्वालियर कार्यालय को भेज दिया, जिसने दोबारा जांच के बाद इसे बंद कर दिया।

र्थिक अपराध शाखा के सूत्रों के मुताबिक, इसने (आर्थिक अपराध शाखा के ग्वालियर कार्यालय) शुक्रवार को सिंधिया और उनके परिवार के खिलाफ मामला बंद कर दिया। संयोग से, कमलनाथ ने मुख्यमंत्री के रूप में शुक्रवार को पद छोड़ दिया क्योंकि उनकी सरकार अल्पमत में थी।

'द टेलीग्राफ' के मुताबिक ईओडब्ल्यू के अधिकारी ने कहा कि 12 मार्च को श्रीवास्तव ने सिंधिया और उनके परिवार के खिलाफ एक ताजा शिकायत दर्ज की, जिसमें आरोप लगाया गया कि उन्होंने रजिस्ट्री दस्तावेज में फर्जीवाड़ा करके उन्हें महलगांव में जमीन का एक टुकड़ा बेच दिया, जो 6,000 वर्गफुट से छोटा था।

संबंधित खबर : जिस सिंधिया को पहले बताया गद्दार, अब BJP पलकें बिछाकर उनका ही कर रही है स्वागत

धिकारी ने कहा, उन्होंने शुरुआत में 26 मार्च 2014 को सिंधिया के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई, जो उस समय कांग्रेस के नेता थे और उनका परिवार कांग्रेस में था। लेकिन इसकी जांच की गई और मई 2018 (जब राज्य में भाजपा सत्ता में थी) को बंद कर दिया गया।

महीने की शुरुआत में, सिंधिया के प्रति निष्ठावान 22 विधायकों ने कांग्रेस से इस्तीफा दे दिया, जिससे राज्य में फिर से भाजपा की सरकार आ गई। भाजपा के वरिष्ठ नेता शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार रात राज्य के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

Next Story

विविध

Share it