जनज्वार विशेष

अगले 8 सालों में चीन को पछाड़ भारत बन जायेगा दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश

Prema Negi
3 July 2019 5:37 AM GMT
अगले 8 सालों में चीन को पछाड़ भारत बन जायेगा दुनिया का सबसे ज्यादा आबादी वाला देश
x

फिलहाल चीन दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश है, पर वर्ष 2027 के बाद चीन का नाम वहां से हट जाएगा और भारत सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा...

महेंद्र पाण्डेय की रिपोर्ट

पूरी दुनिया में अराजकता, गृहयुद्ध और युद्ध का संकट बढ़ रहा है, तापमान वृद्धि के कारण प्राकृतिक आपदाएं भी बढ़ रहीं हैं, भूख बढ़ रही है, पानी का संकट गहरा रहा है – फिर भी दुनिया की आबादी निर्बाध गति से बढ़ रही है और आबादी में सबसे अधिक बढ़ोत्तरी उन क्षेत्रों में हो रही है जो सबसे गरीब हैं। इस बीच वर्ष 2027 तक दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश भारत हो जाएगा।

संयुक्त राष्ट्र हरेक दो वर्ष के अंतराल पर वर्ल्ड पापुलेशन प्रोस्पेक्टस नामक रिपोर्ट प्रकाशित करता है। वर्ष 2019 की रिपोर्ट के अनुसार वर्तमान में दुनिया की आबादी 7.7 अरब है, और वर्ष 2030 तक यह आबादी 8.5 अरब तक पहुँच जायेगी। वर्ष 2050 और 2100 में आबादी क्रमशः 9.7 अरब और 10.9 अरब हो जायेगी।

हले के अनुमानों के अनुसार आबादी की वृद्धि दर में कुछ कमी आयी है, पर यह बढ़ रही है। सबसे तेजी से आबादी अधिकतर उन देशों में बढ़ रही है जो दुनिया के सबसे गरीब देशों में शुमार हैं और इनमें से अधिकतर गृहयुद्ध की आग में झुलस रहे हैं। ये देश हैं, भारत, नाइजीरिया, पाकिस्तान, डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ़ कांगो, इथियोपिया, तंज़ानिया, इंडोनेशिया, ईजिप्त और अमेरिका।

र्तमान में चीन की आबादी 1.43 अरब है, जबकि भारत की आबादी 1.37 अरब है और इन दोनों देशों में दुनिया की 38 प्रतिशत आबादी निवास करती है। बचपन से हम पढ़ते आये हैं कि चीन दुनिया में सबसे अधिक आबादी वाला देश है, पर वर्ष 2027 के बाद चीन का नाम वहां से हट जाएगा और भारत सबसे अधिक आबादी वाला देश बन जाएगा।

चीन में वर्तमान में जन्म की तुलना में मृत्यु दर तेजी से बढ़ रही है। इसके कारण वर्ष 2019 से 2050 के बीच चीन की आबादी में लगभग 3.14 करोड़ की कमी आयेगी। दुनिया के सबसे गरीबी और सामाजिक तौर पर अस्थिर देश अफ्रीका में सहारा रेगिस्तान के आसपास स्थित हैं, इन देशों की आबादी भी वर्ष 2050 तक दुगुनी हो चुकी होगी।

यह भी पढ़ें : जल संकट से सर्वाधिक ​तबाह गांव-देहात, इसलिए नहीं बन पा रहा राष्ट्रीय मुद्दा

संयुक्त राष्ट्र में आर्थिक और सामाजिक मामलों की सर्वेसर्वा लिऊ ज्हेम्मिन के अनुसार गरीब देश लगातार संसाधनों की कमी से जूझ रहे हैं, पानी की मार झेल रहे हैं, सूखा और बाढ़ की आपदा भी झेल रहे हैं और ऐसे में जनसंख्या वृद्धि उनके सामने एक नयी चुनौती पेश कर रहा है।

र्तमान में आबादी के आंकड़ों के अनुसार सबसे अधिक आबादी वाले देश क्रम से चीन, भारत, अमेरिका, नाइजीरिया और पाकिस्तान हैं। अगले 30 वर्षों में यह क्रम बदल कर भारत, चीन, नाइजीरिया, अमेरिका और पाकिस्तान हो जाएगा।

तना तो स्पष्ट है कि आने वाले वर्षों में प्राकृतिक संसाधनों पर बोझ बढ़ता जाएगा, पर बढ़ती आबादी के लिए हमारे पास कोई योजना नहीं है। हरेक संकट के समय हम आबादी को दोष देते हैं और फिर भूल जाते हैं।

र्तमान में देश में चल रहे जल संकट के दौरान भी बढ़ती आबादी पर चर्चा की गयी, पर बारिश आते ही सबकुछ सामान्य हो जाएगा। बढ़ती आबादी के बीच में कुछ नेताओं के वक्तव्यों को याद करना भी जरूरी है जो देश के सबसे बड़े तबके को 11-11 बच्चे पैदा करने की सलाह देते हैं।

Next Story

विविध

Share it