दुनिया

कौन हैं मुल्ला हसन अखुंड, तालिबान के अंतरिम प्रधानमंत्री की नियुक्ति का अफगानिस्तान के लिए क्या मतलब है?

Janjwar Desk
8 Sep 2021 2:32 PM GMT
कौन हैं मुल्ला हसन अखुंड, तालिबान के अंतरिम प्रधानमंत्री की नियुक्ति का अफगानिस्तान के लिए क्या मतलब है?
x
मुल्ला अखुंड तालिबान में एक आकर्षक लेकिन अपेक्षाकृत गूढ़ व्यक्ति हैं। 1990 के दशक में मिलिटेंट ग्रुप की स्थापना के बाद से वह अफगानिस्तान में एक प्रभावशाली व्यक्ति रहे हैं....

जनज्वार। तालिबान ने 7 सितंबर को घोषणा की कि मुल्ला हसन अखुंड को अफगानिस्तान का अंतरिम प्रधानमंत्री नियुक्त किया गया है। यह फैसला राजधानी काबुल पर इस्लामिक मिलिटेंट ग्रुप तालिबान के कब्जे के दो सप्ताह बाद सामने आया है। द कन्वर्सेशन ने पेन स्टेट यूनिवर्सिटी में मध्यपूर्व और इस्लाम के इतिहासकार अली ए ओलोमी से पूछा कि मुल्लाह अखुंड कौन हैं और युद्ध से तबाह राष्ट्र में मानवाधिकारों की चिंता के बीच उसकी नियुक्ति अफगानिस्तान के लिए क्या संकेत दे सकती है।

कौन हैं मुल्ला हसन अखुंड?

मुल्ला अखुंड तालिबान में एक आकर्षक लेकिन अपेक्षाकृत गूढ़ व्यक्ति हैं। 1990 के दशक में मिलिटेंट ग्रुप की स्थापना के बाद से वह अफगानिस्तान में एक प्रभावशाली व्यक्ति रहे हैं। लेकिन उस अवधि के अन्य तालिबानी नेताओं के विपरीत, वह 1980 के दशक के सोवियत-अफगान युद्ध में शामिल नहीं थे। जबकि तालिबान के संस्थापक मुल्ला मोहम्मद उमर और उनके प्रतिनिधि मुजाहिदीन (सोवियत-विरोधी अफगान लड़ाकों का एक नेटवर्क) से नहीं लड़े थे।

इसके बजाय, उन्हें तालिबान में एक धार्मिक प्रभाव के रूप में अधिक देखा जाता है। उन्होंने तालिबान की शूरा परिषदों (धार्मिक विद्वानों और मुल्लाओं की एक बॉडी) में सेवा की। अखुंड बामियान प्रांत की विशाल चट्टानों पर बनी बुद्ध के मूर्ति के विनाश के वास्तुकारों में से एक के रूप में जाने जाते हैं जिसे साल 2001 में तालिबान द्वारा नष्ट कर दिया गया था।

शुरुआत में, उमर का मूर्तियों को नष्ट करने का कोई इरादा नहीं था। लेकिन तालिबान के संस्थापक अफगानिस्तान के लिए संयुक्त राष्ट्र से मानवीय सहायता प्राप्त करने में विफल रहने के दौरान यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थल के लिए संरक्षण राशि उपलब्ध कराए जाने से नाराज थे। उमर ने अपने शूरा की सलाह मांगी थी। अखुंड उस शूरा परिषद का हिस्सा था जिसने छठी शताब्दी की मूर्तियों को नष्ट करने का आदेश दिया था।

अखुंड ने 1990 के दशक की तालिबान सरकार में विदेश मंत्री के रूप में कार्य करते हुए एक राजनीतिक भूमिका निभाई; हालांकि उनकी धार्मिक विकास में अधिक पहचान है। वह मुल्ला उमर की तरह सख्त इस्लामी विचारधारा जिसे देवबंदवाद के नाम से जाना जाता है, के छात्र थे।

2001 में तालिबान के अफगानिस्तान से बेदखल होने के बाद भी अखुंड की एक प्रभावशाली उपस्थिति बनी रही। वह ज्यादातर समय पाकिस्तान से ऑपरेट करते थे। वहां से वह 2000 और 2010 के दशक में तालिबान को आध्यात्मिक और धार्मिक मार्गदर्शन देते रहे। इस भूमिका में उन्होंने संयुक्त राज्य अमेरिका और अमेरिका समर्थित अफगान सरकार के खिलाफ चल रहे विद्रोह के लिए आइडियोलोजिकल जस्टिफिकेशन प्रदान किया।

आज, तालिबान में मोटे तौर पर दो गुट हैं - एक सैन्य विंग जो दिन-प्रतिदिन के अभियान चलाती है, और एक रूढ़िवादी धार्मिक अभिजात वर्ग जो कि देवबंदवाद पर आधारित है जो इसके राजनीतिक विंग के रूप में कार्य करता है। मुल्ला अखुंड का तालिबान के धार्मिक गुट के साथ काफी हद तक मेल खाता है।

उनकी नियुक्ति हमें तालिबान के बारे में क्या बताती है? अखुंड की नियुक्ति के पीछे सत्ता संघर्ष प्रतीत होता है। मुल्ला अब्दुल गनी बरादर, जिन्होंने उमर की मृत्यु के बाद वास्तविक नेता का पद संभालने से पहले तालिबान के प्रारंभिक वर्षों के दौरान उमर के डिप्टी के रूप में कार्य किया, अफगानिस्तान के कई विशेषज्ञों ने इसे संभावित राष्ट्राध्यक्ष के रूप में देखा था।

लेकिन बरादर और शक्तिशाली हक्कानी नेटवर्क के बीच राजनीतिक तनाव है। हक्कानी समूह हाल के वर्षों में तालिबान की वास्तविक राजनयिक शाखा बन गई है और अन्य ग्रुप्स के बीच अपने लिए समर्थन हासिल करने में सफल रही है। हक्कानी तालिबान के सबसे उग्रवादी गुटों में से है। महिलाओं के अधिकारों, अंतरराष्ट्रीय समुदाय के साथ काम करने और पूर्व सरकार के सदस्यों के लिए माफी जैसे मुद्दों पर बरादर की हालिया सुलह की भाषा हक्कानी नेटवर्क की विचारधारा के विपरीत है।

अखुंड, बरादर और हक्कानी नेटवर्क के समर्थकों के बीच एक समझौता उम्मीदवार प्रतीत होते हैं। उनकी नियुक्ति में देरी तालिबान में आंतरिक विभाजन का एक संकेत हो सकता था। जब घोषणा हुई, तो उसके साथ खबर आई कि बरादर उनका डिप्टी होगा, जबकि हक्कानी नेटवर्क के दो सदस्य भी अफगान सरकार में काम करेंगे। यह व्यवस्था स्थायी है या अस्थायी, यह देखना बाकी है।

अफगानिस्तान के लिए अखुंड की नियुक्ति का क्या मतलब है?

अखुंड एक रूढ़िवादी, धार्मिक विद्वान हैं, जिनकी मान्यताओं में महिलाओं पर प्रतिबंध और नैतिक और धार्मिक अल्पसंख्यकों को नागरिक अधिकारों से वंचित करना शामिल है। 1990 के दशक में तालिबान द्वारा अपनाए गए उनके आदेशों में महिलाओं की शिक्षा पर प्रतिबंध लगाना, लैंगिक अलगाव को लागू करना और सख्त धार्मिक परिधान को अपनाना शामिल था। यह सब आने वाले समय का संकेत हो सकता है। तालिबान की मिलनसार भाषा के बावजूद यह संभावना है कि हम उन कुछ नियमों फिर से लौटता हुआ देख सकते हैं जो तालिबान के पहले कार्यकाल के समय थे। जैसे महिलाओं की शिक्षा पर प्रतिबंध।

हम पहले ही 5 सितंबर को देख चुके हैं कि तालिबान ने विश्वविद्यालय की छात्राओं को अबाया पहनने का आदेश दिया है। अबाया बुर्का के जैसे है लेकिन इसका बाहरी कवर का रंग हमेशा काला रहता है। अबाया अफगानिस्तान की ड्रेस नहीं है लेकिन यह सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और कतर जैसे खाड़ी देशों में अधिक आम पोशाक है। तालिबान अफगानिस्तान को एक व्यापक इस्लामी आंदोलन के भीतर रखने के अपने इरादे का संकेत दे रहा है। 1990 के दशक में तालिबान अपने इस्लामी शासन के ब्रांड को अफगानिस्तान में लाने के उद्देश्य से राष्ट्रवादी समूह था।

Next Story

विविध

Share it