अंधविश्वास

घर में 82 साल से डरावनी काली छाया होने का खौफ दिखा गुजराती तांत्रिकों ने लूटे 35 लाख, अंधविश्वासी परिवार से ठगना चाहते थे 1 करोड़

Janjwar Desk
14 Dec 2022 11:27 AM GMT
घर में 82 साल से डरावनी काली छाया होने का खौफ दिखा गुजराती तांत्रिकों ने लूटे 35 लाख, अंधविश्वासी परिवार से ठगना चाहते थे 1 करोड़
x

तंत्र मंत्र का प्रतीकात्मक फोटो

तांत्रिकों के गिरोह ने परिवार को और ज्यादा डराते हुए दावा किया कि इसी काली छाया के कारण ही उन्हें वर्तमान में जो दुख और तकलीफ हो रही है, वह समय बीतने के साथ ज्यादा विकराल रूप धारण करेगी...

Blind faith : 27 साल के शासन के बाद फिर अगले 5 साल के लिए सत्ता में आई भारतीय जनता पार्टी के शासित गुजरात में शिक्षा का स्तर इतना भी नहीं पहुंच पाया कि लोग रोजमर्रा के अंधविश्वासों से मुक्त हो सकें। मोदी शाह की जोड़ी के इस गृह प्रदेश में लोगों के अंधविश्वास का लाभ उठाते हुए पांच तांत्रिकों ने मिलकर एक परिवार को 35 लाख रुपए से अधिक का चूना लगा दिया। बाद में दही के चक्कर में चूना चाटने वाले इस परिवार ने ठगी का एहसास होने पर तांत्रिकों के खिलाफ पुलिस में रिपोर्ट दर्ज कराई है, जिसके बाद से पुलिस इन तांत्रिकों को तलाश कर रही है।

गुजरात के बनासकांठा जिले के धानेरा तहसील के गेला गांव में 5 तांत्रिकों के गिरोह ने मिलकर एक परिवार को अपना निशाना बनाते हुए उन पर अपना जाल फेंका। तांत्रिकों को अपने मुखबिर के माध्यम से पता चला था कि परिवार काफी समय से किसी बात को लेकर परेशान चल रहा है। परेशान लोग ऐसे ठगों के सबसे आसान शिकार होते ही हैं। बस फिर क्या था, तांत्रिकों को उनकी आसानी का पता चल ही चुका था। जरूरत लच्छेदार बातों से उसे मुंडना ही तो शेष रह गया था।

तांत्रिकों की इस गैंग ने इस परिवार से अपनी पहलकदमी पर संपर्क करते हुए बताया कि उनके घर में पिछले 82 सालों से काली छाया छुपी हुई है। इसीलिए पिछली तीन पीढ़ियों से उनके परिवार पर कोई न कोई परेशानी आती ही रहती है। तांत्रिकों के गिरोह ने परिवार को और ज्यादा डराते हुए दावा किया कि इसी काली छाया के कारण ही उन्हें वर्तमान में जो दुख और तकलीफ हो रही है, वह समय बीतने के साथ ज्यादा विकराल रूप धारण करेगी।

अंधविश्वास पर भरोसा करने वाले इस परिवार को पर्याप्त डराने के बाद तांत्रिकों ने खुद को इन समस्याओं के समाधान का विशेषज्ञ बताते हुए कहा कि काली छाया से मुक्ति के लिए एक बड़ी और कई दिन तक चलने वाली तांत्रिक विद्या की क्रिया करनी पड़ेगी। इस तांत्रिक विद्या का कुल खर्चा इन ठगों ने इस परिवार को एक करोड़ रुपये बताते हुए कहा कि इस तांत्रिक पद्धति की क्रिया से इस घर की अगली 21 पीढ़ी तक काली छाया इधर का रुख नहीं कर पाएगी। अंधविश्वास की जकड़न में फंसे इस परिवार को लगा कि तांत्रिक के भेष में खुद प्रभु अवतार लेकर उनकी मुक्ति के लिए धरा पर अवतरित हुए हैं। परिवार ने तत्काल इन तांत्रिकों पर विश्वास करते हुए इन्हें पैसे देने की हामी भर ली।

खुद ही इन ठगों के हाथों खुशी खुशी लुटने को तैयार हुए इस परिवार का और ज्यादा भरोसा जीतने के लिए तांत्रिकों ने पहले नवरात्रि के दौरान कुछ तांत्रिक विधि की क्रिया की, जिसकी एवज में उन्होंने परिवार से पहले 20 लाख ऐंठे। फिर कुछ दिन बाद एक और विधि की क्रिया करते हुए इस बार 15 लाख रुपए पर हाथ साफ किया। इसके साथ ही ठगों ने परिवार से 1.7 लाख रुपये कीमत की चांदी भी झटक ली।

लेकिन तांत्रिकों के "पहली ही पूजा के बाद असर खुद अपनी आंखों से देखना" वाले दावे के अनुरूप जब परिवार को अपनी परेशानी कम होते नहीं दिखी तो समझ में आने लगा कि उनकी परेशानी दूर करने के नाम पर तात्रिकों का यह गिरोह अपनी ही आर्थिक परेशानी दूर करने में जुटा हुआ है। 35 लाख रुपए की बड़ी रकम गंवाने के बाद खुले ज्ञान चक्षु की बदौलत पीड़ित परिवार ने बिना कोई देर किए फौरन पांचों तांत्रिकों के खिलाफ धानेरा थाने में मामला दर्ज करवाया।

परिवार के लोगों ने पुलिस को तांत्रिक क्रिया विधि करने का एक वीडियो भी सौंपा। पुलिस को सौंपे गए इस 38 सेकेंड के वीडियो में तांत्रिक झाड़-फूंक का भरपूर नाटक करते दिख रहे हैं। फिलहाल पुलिस ने पांचों आरोपी तांत्रिकों के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। उनकी तलाश के लिए पुलिस की एक स्पेशल टीम भी गठित की गई है। अंधविश्वास के चक्कर में इतनी बड़ी रकम लुटवाकर अब यह परिवार इन तांत्रिकों की गिरफ्तारी की आस लगाए हुए है।

Next Story

विविध