Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास: बकरी ने दिया बंदर जैसी शक्ल वाले बच्चे को जन्म, लोग बोले बजरंगबली ने ले लिया अवतार

Janjwar Desk
24 Nov 2020 9:58 AM GMT
अंधविश्वास: बकरी ने दिया बंदर जैसी शक्ल वाले बच्चे को जन्म, लोग बोले बजरंगबली ने ले लिया अवतार
x
यह खबर सुनते ही जहाँगीराबाद समेत पास पड़ोस में रहने वाले ग्रामीणों की भीड़ जुटनी शुरू हो गयी, देखते ही देखते जयकारे लगाये जाने लगे, भगवान की महिमा को मानने वाले लोगों का हुजूम लगना शुरू हो गया.....

जनज्वार। इसे आस्था कहें या अंधविश्वास बात की बात है, फिलहाल घटनास्थल में लोगों की भीड़ जुटनी शुरू हो चुकी है। तमाम धर्मांध लोगों ने पूजा अर्चना, अगरबत्ती के साथ चढ़ावा चढ़ाना भी शुरू कर दिया है। मामला कानपुर के घाटमपुर का है जहां एक बकरी ने बंदर की शक्ल के जीव को जन्म दिया है। लोग बजरंगबली का अवतार बता रहे हैं। जिसके बाद इसे देखने और पूजने वालों का हुजूम लग गया है।

घाटमपुर तहसील क्षेत्र के जहाँगीराबाद गाँव मे मंगलवार की सुबह एक अजीबो गरीब नजारा देखने को मिला। यहां बकरी के मृत मेमने को बजरंगबली का अवतार मानते हुए लोग पूजा अर्चना के साथ ही चढ़ावा चढ़ाने में लगे हुए थे। दरअसल बकरी के मृत मेमने का चेहरा बिल्कुल बंदर के आकार का है।


खबर सुनते ही जहाँगीराबाद समेत पास पड़ोस में रहने वाले ग्रामीणों की भीड़ जुटनी शुरू हो गयी। देखते ही देखते जयकारे लगाये जाने लगे। भगवान की महिमा को मानने वाले लोगों का हुजूम लगना शुरू हो गया। जिसको देखते हुए धरती पर बजरंगबली के जन्म लिए जाने की बातें होने लगीं। घंटो तक इसी तरह का माहौल और हालात बने रहे।

इस संबंध में बकरी मालिक सीता राम कठेरिया कहते हैं कि उनके यहां पली बकरी ने सुबह पांच बजे बच्चों को जन्म दिया। जिसमें एक बच्चे के मुख और शरीर का आकार अन्य बच्चों से बिल्कुल अलग था। भोर का उजाला हुआ तो पाया गया कि विचित्र प्रकार के जन्मे बच्चे ने दम तोड़ दिया है। लेकिन सीता राम के अनुसार गौर फरमाने पर उसके घर बजरंगबली ने जन्म लिया है। जो अब ग्रामीणों के लिए आस्था का प्रतीक बना हुआ है।

मेडिकल साइंस के मुताबिक माने तो गर्भ में जिन बच्चों के शरीर का आकार पूरी तरह पनप नहीं पाता उनका जन्म कुछ कमी लिए हुए होता है। इस सिलसिले में डॉ अमित कुमार गुप्ता कहते हैं, इस तरह की घटनाएं आम होती हैं। कभी कभार ऐसी परिघटनाएं सामने आती हैं जब कोई जीव जन्म के बाद शारीरिक तौर पर अधूरा अथवा अविकसित रह जाता है जिसके बाद यह देखने मे आता है, और जन्म लेते ही या जन्मते ही वह मृत हो जाते हैं।'

फिलहाल इस गांव में आस्था का सैलाब उमड़ पड़ा है। लोगों का तांता लगा हुआ है। बजरंगबली के जयघोष और ईश्वरी कृपा के नारे लग रहे हैं। लोग किसान सीता राम को सौभाग्यशाली मान रहे हैं जिनके घर बजरंगबली जन्म लेते-लेते रह गए।

Next Story

विविध

Share it