Top
अंधविश्वास

अंधविश्वास : संतान की चाहत में मासूम की दी बलि, तांत्रिक के कहने पर दंपती ने बच्ची का दिल निकाल खाया

Janjwar Desk
17 Nov 2020 6:04 AM GMT
अंधविश्वास : संतान की चाहत में मासूम की दी बलि, तांत्रिक के कहने पर दंपती ने बच्ची का दिल निकाल खाया
x

संतान की चाहत में मासूम का कलेजा खाने वाला दंपती सुनैना व परशुराम।

कानपुर में अंधविश्वास की एक बेहद हैरतअंगेज घटना घटी है, जिसमें दंपती ने संतान की चाहत में एक मासूम बच्ची की हत्या के बाद उसका कलेजा खाया...

जनज्वार। उत्तर प्रदेश के कानपुर स्थित घाटमपुर में 6 वर्षीय बच्ची की तंत्र-मंत्र में हुई हत्या मामले में पुलिस ने 5 नामजद व कुछ अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। अब तक तंत्र मंत्र की बात पर पर्दा डालती पुलिस भी सवालों के घेरे में आ गयी है। हालांकि कल जब घटना का खुलासा किया तो तंत्र मंत्र को ही आधार बनाया।

रविवार तक तंत्र-मंत्र की घटना से इनकार करती पुलिस ने सोमवार 16 नवंबर को इसी आधार पर घटना का उद्भेदन किया। सुनैना व उसके पति परशुराम को आरोपी बनाते हुए पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस की कार्रवाई में झोल कहां रहा इसका जवाब अभी पुलिस के ही पास है। दूसरी तरफ बच्ची के शरीर से निकाले गए एक भी अंग बरामद नहीं हुआ है, जिस पर पुलिस का दावा है कि बाहर निकले अंग कुत्ते खा गए।

आरोपियों के कबूलनामे से हैरान हो गए अफसर

घटनाक्रम के आरोपी रहे अंकुल और वीरन ने जब वारदात की थी उस समय वह दोनों नशे में धुत थे। उन्होंने गांजा, भांग सहित शराब भी पी रखी थी। घटना के 24 घंटे बाद दोनों ने मुंह खोला। एसपी ने कहा कि दोनों एक दिन तक बात करने की स्थिति में नहीं थे। नशा टूटने पर उन दोनों ने जब वारदात कबूली तो उनकी जुबानी सुनकर अफसर भी हैरान रह गए।

संबंधित खबर : कानपुर में तंत्र-मंत्र के चक्कर में 6 वर्षीय मासूम की दी बलि, शरीर से कई अंग गायब, पुलिस बोली सुबह देखेंगे

बच्ची का दिल खा गया दंपती

एसपी ग्रामीण ने बताया कि घटना को अंजाम देने के बाद दोनों आरोपी अंकुल व वीरन बच्ची के अंग एक पॉलीथिन में लेकर परशुराम के घर पहुंचे। जहां परशुराम व उसकी पत्नी सुनैना दिल को कच्चा ही खा गए थे। इसके बाद बाकी के अंग गांव के बाहर फेंक दिए गए। जिसकी बरामदगी नहीं हो सकी है। आरोपियों की निशानदेही पर परशुराम के घर से आलाकत्ल के रूप में चाकू बरामद हुआ है। अंकुल और वीरन को जेल भेज दिया गया है।


संतान पाने की चाहत में उजाड़ दी एक गोद

इस विभत्स घटनाक्रम के पीछे संतान पाने की चाहत बताई जा रही है। अंधविश्वास में डूबे दंपती ने एक मां की गोद उजाड़ कर अपनी गोद भरने के फेर में बच्ची का कत्ल कर दिया। बच्ची का शव देखकर वहां मौजूद हर एक व्यक्ति की रूह कांप गई। बताया जा रहा है की फ़िल्म देखकर दंपती दीवाली की रात को तंत्र-मंत्र की घटना के लिए चुना था। घटना से स्तब्ध परिजन कुछ भी बोलने की स्थिति में नहीं है।

कुरकुरे का लालच देकर हाथ पैरों में रंग लगाकर मार दिया

परिजनों के मुताबिक दीवाली की रात बच्ची बहुत खुश थी। एसपी ग्रामीण के मुताबिक देर शाम लगभग साढ़े सात बजे अंकुल और वीरन उसके घर पहुंचे और कुरकुरे दिलाने के बहाने उसे ले गए। गांव के बाहर भद्रकाली मंदिर के पास नीम के पेड़ के नीचे मासूम का शव बिना कपड़ों के मिला। बच्ची के हाथ और पैरों में लाल रंग लगा था। पास ही एक चुनरी सहित एक कुरकुरे का पैकेट भी मिला जिसे पुलिस ने बरामद कर सील कर दिया है।

तांत्रिक ने खाने को दिया था मासूम का दिल

दिल को झकझोर देने वाले इस हत्याकांड में आरोपी तांत्रिक अंकुल और वीरन के खुलासे के बाद पुलिस ने आरोपियों की चाची को भी हिरासत में लिया है। पुलिस सूत्रों के मुताबिक घटना वाली रात दंपती को अंकुल ने कुछ खाने को दिया था। उसने बच्ची का कलेजा दंपती को देते हुए कहा था कि इसे खाने से संतान की प्राप्ति अवश्य होगी।

इनके खिलाफ दर्ज हुआ मुकदमा

भदरस गांव में रविवार रात 7 बजे हुए इस हत्याकांड के बाद पुलिस ने अंकुल, वंशलाल, कमलराज, बाबूराम, सुरेश सहित अन्य अज्ञात के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। इन सभी पर भारतीय दंड संहिता की धारा 302, 201, 148, 149 की धाराएं दर्ज की गई हैं। पुलिस के मुताबिक सभी आरोपी हिरासत में हैं। दो को जेल भेजने सहित बाकी से पूछताछ चल रही है। कुछ और लोगों को हिरासत में लिया जा सकता है।

Next Story

विविध

Share it