अंधविश्वास

Uttar Pradesh News : बटेश्वर में नंदी पी रहे है दूध, शिवालय में भक्तों की भारी भीड़ के बीच एडीजे भी पत्नी के साथ पहुंचे

Janjwar Desk
8 March 2022 6:22 AM GMT
Uttar Pradesh News : बटेश्वर में नंदी पी रहे है दूध, शिवालय में भक्तों की भारी भीड़ के बीच एडीजे भी पत्नी के साथ पहुंचे
x

बटेश्वर में नंदी पी रहे है दूध, शिवालय में भक्तों की भारी भीड़ के बीच एडीजे भी पत्नी के साथ पहुंचे

Uttar Pradesh News : बटेश्वर में नंदी को दूध पिलाने के लिए भक्तों की भारी भीड़ दिखी, एडीजे प्रदीप शर्मा भी इस अफवाह का शिकार हो गए...

Uttar Pradesh News : उत्तर प्रदेश के आगरा में नंदी की मूर्ति के दूध पीने की अफवाह फैलते ही बीते रविवार को लोग मंदिर दौड़ पड़े। बटेश्वर में नंदी को दूध पिलाने के लिए भक्तों की भारी भीड़ दिखी। बता दें कि एडीजे प्रदीप शर्मा भी इस अफवाह का शिकार हो गए। बटेश्वर में भोलेनाथ के दर्शन के लिए पहुंचे एडीजे शर्मा भी खुद अपनी पत्नी के साथ नंदी की मूर्ति को दूध पिलाने से रोक नहीं पाए।

भक्तों की लगी कतार

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार ब्रह्मलाल जी मंदिर के पुजारी ने बताया कि बीते शनिवार की रात नंदी के दूध पीने की चर्चा शुरू हुई थी। बटेश्वर के कुंदन रात में ही नंदी दूध पिलाने के लिए मंदिर पहुंचे। रविवार की सुबह से ही भक्तों का बटेश्वर में नंदी को दूध पिलाने के लिए भीड़ तांता लगा हुआ है। भारी संख्यां में श्रद्धालु लोटा, चम्मच से नंदी को दूध पिलाते हुए नजर आए।

यह आस्था है या अंधविश्वास

इस संबंध में ऑर्गेनाइजेशन फॉर साइंटिफिक इनोवेशन एंड रिसर्च के प्रबंध निदेशक डॉ मनीष भारद्वाज का कहना है कि नंदी की मूर्ति का दूध, पानी या कोई तरल पदार्थ पीना कोई चमत्कार नहीं है। यह पृष्ठ तनाव यानी सरफेस टेंशन और केशकीय बल यानी केपलरी फोर्स की वजह से होना आम बात है। पत्थर से बनी मूर्ति में छोटे छोटे कई छिद्र होते है और जब उनके संपर्क में कोई तरल पदार्थ आता है तो वो उन छिद्रों में जाता है और पत्थर से बनी मूर्ति उस तरल पदार्थ को शोख लेती है।

नीम के पेड़ से दूध की धार निकलने की भी अफवाह

ऐसा ही एक मामला थाना थाना पिढ़ौरा क्षेत्र में सामने आया। बता दें कि यहां अफवाह फैली कि गांव गोपालपुरा के समीप स्थित भूमिया बाबा के मंदिर के समीप लगे एक नीम के पेड़ से सफेद झाग जैसा निकल रहा है। जिसके बाद गांव के देवकांत त्यागी आदि ने बताया कि इस दूध की धार निकलना मानकर लोग पूजा करने लगे हैं।

Next Story

विविध