Top
कोविड -19

14 महीनों की कोरोना महामारी में 1 लाख 19 हजार भारतीय बच्चे हुए अनाथ : रिपोर्ट में हुआ खुलासा

Janjwar Desk
22 July 2021 3:39 AM GMT
14 महीनों की कोरोना महामारी में 1 लाख 19 हजार भारतीय बच्चे हुए अनाथ : रिपोर्ट में हुआ खुलासा
x

मोदी सरकार ने कोरोना महामारी को दूसरी लहर के दौरान नरसंहार में तब्दील कर दिया

दुनियाभर में हर दो कोविड-19 मौतों के साथ माता-पिता या देखभाल करने वाले की मृत्यु के चलते एक बच्चा अनाथ हो जाता है....

दिनकर कुमार की टिप्पणी

जनज्वार ब्यूरो। यह एक भयावह त्रासदी है कि चौदह महीने में भारत में कोरोना महामारी की चपेट में आकर एक लाख उन्नीस हजार बच्चे अनाथ हो गए हैं। स्वास्थ्य प्रणाली को सुधारने की जगह अपने विरोधियों की जासूसी करने और अरबों रुपए सिर्फ अपने प्रचार पर खर्च करने वाली मोदी सरकार ने एक महामारी को दूसरी लहर के दौरान नरसंहार में तब्दील कर दिया। उसकी नाकामी पर पूरी दुनिया हंसती रही, लेकिन वह 'धन्यवाद मोदीजी' का पोस्टर और विज्ञापन प्रचारित कर अपनी ही पीठ थपथपाती रही।

कोविड-19 महामारी के परिणामस्वरूप दुनियाभर में अनुमानित 15 लाख बच्चों के सिर से माता-पिता या देखभाल करने वाले दादा-दादी या अन्य पुराने रिश्तेदार का साया उठ चुका है। इनमें दस लाख ऐसे बच्चे शामिल हैं जिन्होंने माता-पिता में से एक या दोनों को खो दिया है। बुधवार 21 जुलाई को द लैंसेट में प्रकाशित होने वाले एक वैश्विक अध्ययन रिपोर्ट में यह आंकड़ा पेश किया गया है।

भारत में अनुमानित 1.19 लाख बच्चों के सिर से माता-पिता या देखभाल करने वाले दादा-दादी या अन्य पुराने रिश्तेदार का साया उठ चुका है। इनमें 1.16 लाख ऐसे बच्चे शामिल हैं जिन्होंने माता-पिता में से एक या दोनों को खो दिया है। अपनी मां को खोने की तुलना में पांच गुना अधिक बच्चों ने अपने पिता को खो दिया।

यूएस सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) कोविड-19 रिस्पांस टीम की डॉ सुसान के मुताबिक, 'दुनियाभर में हर दो कोविड-19 मौतों के साथ माता-पिता या देखभाल करने वाले की मृत्यु के चलते एक बच्चा अनाथ हो जाता है। 30 अप्रैल, 2021 तक ये 1.5 मिलियन बच्चे दुनिया भर में 3 मिलियन कोविड -19 मौतों का दुखद अनदेखे परिणाम बन गए थे।'

भारत के अनुमान मार्च (5,091) की तुलना में अप्रैल 2021 (43,139) में अनाथ बच्चों की संख्या में 8.5 गुना वृद्धि का संकेत देते हैं। मेक्सिको (1.41 लाख) और ब्राजील (1.30 लाख) में सबसे अधिक बच्चे हैं जिन्होंने प्राथमिक देखभाल करने वाले को खो दिया है, इसके बाद भारत का स्थान है। अमेरिका एक और देश है जहां एक लाख से अधिक बच्चों ने प्राथमिक देखभाल करने वाले को खो दिया है।

अध्ययन सीडीसी कोविड -19 रिस्पांस टीम, इंपीरियल कॉलेज लंदन, ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय, विश्व स्वास्थ्य संगठन और अन्य के शोधकर्ताओं द्वारा किया गया। इसमें 21 देशों को शामिल किया गया, जो 30 अप्रैल, 2021 तक वैश्विक कोविड -19 मौतों का लगभग 77% हिस्सा था। शोधकर्ताओं ने मार्च 2020 से अप्रैल 2021 तक कोविड -19 मृत्यु दर के आंकड़ों और राष्ट्रीय प्रजनन आंकड़ों के आधार पर आंकड़ों का अनुमान लगाया। उन्होंने वैश्विक अनुमानों को प्रस्तुत करने के लिए अपने निष्कर्षों का विस्तार किया। माता-पिता दोनों की हानि का लेखा-जोखा रखा गया, ताकि बच्चों की दो बार गिनती न हो।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय की प्रोफेसर लूसी क्लुवर की मानें तो 'हमें बच्चों की देखभाल करने वालों का टीकाकरण करने की आवश्यकता है। और हमें तेजी से प्रतिक्रिया करने की आवश्यकता है क्योंकि हर 12 सेकंड में एक बच्चा कोविड -19 के लिए अपनी देखभाल करने वाला खो देता है।'

प्रमुख शोधकर्ताओं में से एक, इंपीरियल कॉलेज के डॉ सेठ फ्लैक्समैन ने कहा, 'अनाथत्व की छिपी हुई महामारी एक वैश्विक आपातकाल है, और हम कार्रवाई करने के लिए कल तक इंतजार करने का जोखिम नहीं उठा सकते। हमें इन नंबरों के पीछे के बच्चों की पहचान करने और निगरानी प्रणाली को मजबूत करने की तत्काल आवश्यकता है, ताकि प्रत्येक बच्चे को वह सहायता दी जा सके जो उनके भविष्य के लिए आवश्यक है।'

मुंबई में टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेज के वरिष्ठ संकाय ब्रिनेल डिसूजा, जो अध्ययन का हिस्सा नहीं थे, ने इन बच्चों की मौजूदा स्थिति सहित विभिन्न आयामों पर गौर करने के लिए राज्य और जिला स्तर पर विशेष कार्य बल गठित करने की तत्काल आवश्यकता पर बल दिया।

Next Story

विविध

Share it