Top
कोविड -19

फेसबुक पर लगा दी रेमडेसिविर इंजेक्शन की सेल, डील हुई तो 265 इंजेक्शन के साथ 3 धरे गए

Janjwar Desk
18 April 2021 2:54 AM GMT
फेसबुक पर लगा दी रेमडेसिविर इंजेक्शन की सेल, डील हुई तो 265 इंजेक्शन के साथ 3 धरे गए
x
रेमडेसिविर इंजेक्शन की तस्करी कानपुर के अलावा अन्य शहरों में भी की जा रही है, पुलिस के मुताबिक यह तस्करी पश्चिम बंगाल से चल रही है, अब एसटीएफ पश्चिम बंगाल के दवा कारोबारी शोभित मुखर्जी सहित उसके बेटे अपूर्व मुखर्जी की डिटेल खंगाल रही है....

जनज्वार, कानपुर। यूपी के कानपुर स्थित किदवई नगर में तस्करी करके लाई गई रेमडेसिविर इंजेक्शन की एक युवक ने अपने फेसबुक से सेल लगाई थी। मोहन सोनी के नाम से बने युवक के फेसबुक अकाउण्ट पर सेल की डील भी पक्की हो गई। हरियाणा के यमुना नगर में रहने वाले सचिन कुमार नाम के युवक ने मोहन से डील भी पक्की कर ली। डील के समय ही दोनो इन इंजेक्शन के साथ धर लिए गए।

गुरूवार 15 अप्रैल को मिलिट्री इंटेलिजेंस से मिले इनपुट के आधार पर नौबस्ता पशुपती नगर निवासी प्रशांत शुक्ला, नौबस्ता खाड़ेपुर बस्ती का रहने वाला मोहन सोनी सहित हरियाणा निवासी सचिन कुमार को 265 रेमडेसिविर इंजेक्शन के साथ हिरासत में लिया गया है। पूछताछ के दौरान सचिन ने बताया कि वह एक दवा कंपनी में काम करता था। उसके संपर्क में कुछ ऐसे लोग थे जिन्होने इस दवा के बदले मुंह मांगी कीमत चुकाने की बात कही थी।

इसी दौरान सचिन ने फेसबुक पर कानपुर के मोहन सोनी की पोस्ट पढ़ी। जिसके बाद उसने डील पक्की की। रोडवेज की बस के जरिए वाराणसी से इंजेक्शन आने पर तीनो मोटरसाइकिल से किदवई नगर होते हुए जा रहे थे तभी पुलिस ने तीनो को धर दबोचा। पकड़े गए प्रशांत ने बताया कि वह बेगुनाह है और सिर्फ बाईक चला रहा था। उसने कहा कि उसे तस्करी के बारे में कुछ नहीं पता। पुलिस ने तीनो को जेल भेज दिया है।

रेमडेसिविर इंजेक्शन की तस्करी कानपुर के अलावा अन्य शहरों में भी की जा रही है। पुलिस के मुताबिक यह तस्करी पश्चिम बंगाल से चल रही है। अब एसटीएफ पश्चिम बंगाल के दवा कारोबारी शोभित मुखर्जी सहित उसके बेटे अपूर्व मुखर्जी की डिटेल खंगाल रही है। एसटीएफ के मुताबिक शोभित का पश्चिम बंगाम में दवा का बड़ा कारोबार है। चुनाव के चलते वहां कि पुलिस इस तरफ ध्यान नहीं दे सकी, जिसके चलते बंगाल सहित दूसरे प्रदेशों में भी तस्करी शुरू कर दी गई।

पुलिस ने बताया कि मोहन सोनी ने पश्चिम बंगाल से चार हजार रूपये प्रति इंजेक्शन मंगवाया था। 265 इंजेक्शनो की कीमत 10 लाख 60 हजार रूपये थी। सचिन से हुई डील में वह मोहन को 13 लाख रूपये देने वाला था। इंजेक्शन जैसे बिकते थे सचिन मोहन को रूपया देता था।

Next Story

विविध

Share it