Top
आर्थिक

इस सप्ताह होनेवाली हैं ऐसी घटनाएं, जो तय करेंगी बाजारों की दिशा

Janjwar Desk
3 Aug 2020 8:36 AM GMT
इस सप्ताह होनेवाली हैं ऐसी घटनाएं, जो तय करेंगी बाजारों की दिशा
x
इस सप्ताह में रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की तिमाही समीक्षा बैठक, वृहद आर्थिक आंकड़े तथा कंपनियों के तिमाही नतीजे आनेवाले हैं। देश की बाजारों की दशा और दिशा पर इनका गहरा असर हो सकता है।

जनज्वार। देश के घरेलू शेयर बाजारों की दिशा इस सप्ताह तय हो सकती है। इस सप्ताह में कई ऐसी बातें होनेवाली हैं, जिनसे बाजार की दिशा तय हो सकती है। इन बातों का बाजारों पर गहरा और दूरगामी असर पड़ सकता है।

इस सप्ताह रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक, वृहद आर्थिक आंकड़े तथा कंपनियों के तिमाही नतीजे आनेवाले हैं। इन सभी से बाजारों की दशा और दिशा तय होगी। बाजार के जानकारों का कहना है कि सप्ताह की शुरुआत में बाजार जुलाई माह के वाहन बिक्री आंकड़ों पर भी प्रतिक्रिया देगा।

SBI रिसर्च की इकोरैप ने पिछले सप्ताह अपने आकलन में संभावना जताई थी कि इस सप्ताह RBI की मौद्रिक नीति की समीक्षा बैठक में रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं होनेवाला। इसपर भी बाजार विशषज्ञों की नजर है। वहीं कंपनियों के तिमाही नतीजे भी बाजारों को काफी हद तक प्रभावित करेंगे।

गौरतलब है कि कोविड-19 महामारी के बीच जुलाई में वाहन बिक्री के आंकड़े थोड़े सुधरे हैं। देश के ज्यादातर हिस्से अब अनलॉक के चरण में हैं। ऐसे में वाहन उद्योग की बिक्री का आंकडा जून माह की तुलना में जुलाई में ठीकठाक रहा है। इसके अलावा अब उत्पादन के मामले में भी वाहन उद्योग की स्थिति सामान्य हो रही है।

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष-शोध अजित मिश्रा ने कहा, 'आगे चलकर बाजार वाहन बिक्री के आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देगा। इसके अलावा बाजार की निगाह मौद्रिक नीति समीक्षा बैठक पर भी रहेगी।'

उधर वृहद आंकड़ों के मोर्चे पर बाजार भागीदारों की निगाह पीएमआई विनिर्माण और सेवा क्षेत्र के आंकड़ों पर भी रहेगी। ये आंकड़े भी इसी सप्ताह आने हैं। सप्ताह के दौरान भारती एयरटेल, टाटा स्टील, ल्यूपिन, टाइटन, वोल्टास, अपोलो टायर्स, केनरा बैंक, अडाणी पावर और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी बड़ी कंप़नियों के तिमाही नतीजे आने वाले हैं।

इन सब बिंदुओं पर मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा, 'हमारा मानना है कि अभी बाजार में उतार-चढ़ाव और शेयर आधारित गतिविधियों का सिलसिला कायम रहेगा। तिमाही नतीजों के आधार पर कुछ कंपनियों के शेयरों में गतिविधियां देखने को मिलेंगी। इसके अलावा बाजार भागीदारों को अमेरिका के प्रोत्साहन पैकेज से जुड़े घटनाक्रमों का भी इंतजार रहेगा।'

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन की बैठक चार अगस्त को शुरू होगी। बैठक के नतीजों की घोषणा छह अगस्त को की जाएगी। कोविड-19 के मामलों के रुख तथा अमेरिका-चीन संबंधों से जुड़े घटनाक्रमों से सप्ताह के दौरान वैश्विक बाजारों की दिशा तय होगी।

Next Story

विविध

Share it