शिक्षा

Aligarh Muslim University में पढ़ाया जाएगा सनातन धर्म, इस्लामिक स्टडीज डिपार्टमेंट में तैयारी शुरू

Janjwar Desk
3 Aug 2022 12:17 PM GMT
Aligarh Muslim University में पढ़ाया जाएगा सनातन धर्म, इस्लामिक स्टडीज डिपार्टमेंट में तैयारी शुरू
x

Aligarh Muslim University में पढ़ाया जाएगा सनातन धर्म, इस्लामिक स्टडीज डिपार्टमेंट में तैयारी शुरू

Aligarh Muslim University : अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में अब कम्प्रेटिव रिलीजन नाम से शुरू होने वाले कोर्स के जरिए विद्यार्थियों को सनातन धर्म की पढ़ायी करायी जाएगी, साथ ही उनको अन्य विभिन्न धर्मों के बारे में विस्तार से बताया जाएगा...

Aligarh Muslim University : अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी (एएमयू) में अब सनातन धर्म की भी पढ़ाई होगी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तारीफ से गदगद एएमयू के इस्लामिक स्टडीज डिपार्टमेंट ने इसकी तैयारी शुरू कर दी है। विभाग की ओर से यह कोर्स यूजी और पीजी में शुरू किया जा रहा है। कोर्स का उद्देश्य विद्यार्थियों को सभी मजहबों की बारीकियां सिखाना है।

PM मोदी ने की इस्लामिक स्टडी डिपार्टमेंट की तारीफ

बता दें कि एएमयू के शताब्दी वर्ष समारोह के अंतर्गत आयोजित हुए वर्चुअल समारोह में बतौर मुख्य अतिथि शामिल हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एएमयू के इस्लामिक स्टडी डिपार्टमेंट की तारीफ की थी। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा था कि विदेशी छात्रों को भारत की संस्कृति से भी रूबरू कराया जाए। पीएम नरेंद्र मोदी की तारीफ के बाद डिपार्टमेंट के शिक्षक व छात्र काफी गदगद हुए थे। विभागीय शिक्षकों ने उस समय कहा था कि एएमयू ऐसा काम पहले से कर रहा है और आगे भी करता रहेगा। इसी कड़ी में विभाग की ओर से अब नए नया कोर्स शुरू करने का निर्णय लिया गया है।

एएमयू में मिलेगी सनातन धर्म की शिक्षा

कम्प्रेटिव रिलीजन नाम से शुरू होने वाले कोर्स के जरिए विद्यार्थियों को सनातन धर्म की पढ़ायी करायी जाएगी। साथ ही उनको अन्य विभिन्न धर्मों के बारे में विस्तार से बताया जाएगा।अधिकारियों का कहना है कि कोर्स अगले शैक्षिक सत्र से विभाग में शुरू कर दिया जाएगा। बोर्ड ऑफ स्टडीज और एकेडमिक कौंसिल में चर्चा पहले ही हो चुकी है। अब मुहर लगना बाकी है।

एएमयू ने किया बहरत संबंधों को शसक्त बनाने का काम

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एएमयू समारोह को संबोधित करते हुए कहा था कि बीते 100 सालों में एएमयू ने दुनिया के कई देशों से भारत संबंधों को शसक्त बनाने का काम किया है। उर्दू, अरबी और फारसी भाषा पर जो रिसर्च होती है। इस्लामिक साहित्य पर रिसर्च होती है। समूचे इस्लामिक देशों के साथ भारत के सांस्कृतिक रिश्तों को नई ऊर्जा देती है। यहां लगभग एक हजार विदेशी छात्र पढ़ रहे हैं। ऐसे में एएमयू की ये भी जिम्मेदारी बनती है कि हमारे देश में जो अच्छा है।

इस्लामिक स्टडी डिपार्टमेंट में विदेश के छात्र भी करते हैं पढ़ाई

इस्लामिक स्टडी डिपार्टमेंट में देश ही विदेशों के छात्र भी पढ़ते हैं। वर्तमान में थाईलैंड, ईरान, बांग्लादेश व सेंट्रल एशिया के 10 से अधिक छात्र पढ़ रहे हैं। डिपार्टमेंट की लाइब्रेरी में 70 हजार के करीब किताबें हैं।

सनातन धर्म के साथ अन्य धर्मों का भी मिलेगा ज्ञान

एएमयू में इस्लामिक स्टडीज डिपार्टमेंट के चेयरमैन प्रोफेसर मोहम्मद इस्माइल का कहना है कि विभाग में अब कम्प्रेटिव रिलीजन कोर्स शुरू किया जा रहा है। इस कोर्स के जरिए ग्रेजुएशन व पोस्ट ग्रेजुएशन के विद्यार्थियों को सनातन धर्म की पढ़ायी करायी जाएगी। साथ ही अन्य विभिन्न धर्मों का ज्ञान भी दिया जाएगा।

Next Story

विविध