Top
शिक्षा

युवा नेता अनुपम ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी और दिया देश में बेरोजगारी दूर करने का रोडमैप

Janjwar Desk
25 Feb 2021 10:05 AM GMT
युवा नेता अनुपम ने लिखी PM मोदी को चिट्ठी और दिया देश में बेरोजगारी दूर करने का रोडमैप
x
युवा नेता अनुपम ने लिखा है रोज़गार के सवाल पर युवाओं में है व्याप्त गहरा असंतोष और आक्रोश, ऐसे होगा समाधान....

प्रधानमंत्री मोदी के नाम युवा नेता अनुपम का पत्र

माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी, भारत एक युवा देश है जहाँ की करीब 70% जनसंख्या 35 वर्ष से कम आयु की है। आप स्वयं इस 'डेमोग्राफिक डिविडेंड' का ज़िक्र करते हुए भारतीय युवाओं की क्षमता और असीमित संभावनाओं पर प्रकाश डालते रहे हैं। लेकिन ये आप भी जानते होंगे कि युवाओं को रोज़गार के पर्याप्त अवसर न मिलें तो भारत के डेमोग्राफिक डिविडेंड को डेमोग्राफिक डिज़ास्टर बनते देर नहीं लगेगी।

आज की रिकॉर्डतोड़ बेरोज़गारी हमारे देश के सामने एक बड़ी चुनौती है। सालाना दो करोड़ रोज़गार के वादे पर सत्ता में आयी आपकी सरकार के परफॉर्मेंस से हर कोई अवगत है। इसलिए मैं अभी इस पर बहुत बात करने की बजाए सुधार की दिशा में कुछ सकारात्मक प्रस्ताव आपके समक्ष रखना चाहता हूँ।

आपसे पत्राचार का मुख्य उद्देश्य सरकारी नौकरियों के लिए होने वाली भर्ती परीक्षाओं से जुड़ा है। आये दिन देश के किसी न किसी कोने में शिक्षित बेरोज़गार युवा अपने अधिकार के लिए सड़क पर होते हैं। कहानी किसी भी राज्य की हो लेकिन इन सभी प्रदर्शनों में मुख्यतः रोज़गार के पर्याप्त अवसर और समयबद्ध भर्ती प्रक्रिया की ही मांग होती है। एक आंकड़े के मुताबिक साल 2018 में ही देशभर में 24 लाख से ज़्यादा रिक्त सरकारी पद थे। बहुत संभव है कि आज ये आँकड़ा और भी बढ़ गया हो। इन खाली पदों के लिए भर्ती निकले भी तो अभ्यर्थी प्रक्रिया के जाल में ही सालों साल तक फंसे रह जाते हैं। अपनी पढ़ाई करने की बजाए देश के बेरोज़गार युवा कोर्ट कचहरी नेता पत्रकारों के चक्कर लगाने को मजबूर हैं।

आपसे विनम्र निवेदन है कि देशहित में निम्नलिखित सुझावों को मानकर युवाओं में व्याप्त आक्रोश, असंतोष, अंधकार और निराशा का निराकरण करें।

• सभी रिक्त सरकारी पदों के लिए तुरंत विज्ञापन निकालकर 9 महीने के अंदर नियुक्ति पत्र दें और आवश्यकता के अनुसार सभी विभागों में स्वीकृत पदों की संख्या बढ़ाएं। साथ ही अटकी पड़ी सभी भर्तियां के संबंधित आयोग उनका कैलेंडर जारी करके समयबद्ध ढंग से प्रक्रिया पूरी करे।

• रोज़गार का अधिकार दें ताकि असंगठित क्षेत्र में भी लोगों को काम मिलें जिससे अर्थव्यवस्था मजबूती से पटरी पर टिकी रहे, बेरोज़गारी नामक राष्ट्रीय आपदा से निपटा जा सके और भारत के डेमोग्राफिक डिविडेंड को डेमोग्राफिक डिज़ास्टर न बनने दिया जाए

• दशकों की मेहनत से खड़े किए गए उन सार्वजनिक उपक्रमों, बैंकों और राष्ट्रीय संपत्तियों को बेचना बंद करें जो देश के लिए आत्मनिर्भरता और युवाओं के लिए नौकरी का बड़ा स्रोत हैं

• भारत सरकार में संयुक्त सचिव और निदेशकों के पद पर की जा रही लेटरल एंट्री पर रोक लगाइए जिस कारण से हर साल सरकारी भर्तियों में कमी की जा रही है और आयोग द्वारा चयनित अधिकारियों के सेवा अवसर में भी कटौती होगी

मुझे पूर्ण विश्वास है कि यदि आपको भारत और इसके भविष्य की चिंता है तो युवाओं से जुड़े इन सवालों को पूरी गंभीरता से लेंगे। आपकी राजनीतिक समझ और सूझबूझ की तारीफ सिर्फ आप ही नहीं, कई लोग करते हैं। ऐसे में उम्मीद करना चाहिए कि आंदोलित भारतीय युवाओं के असंतोष और आक्रोश को आप समझेंगे और एक सकारात्मक दृष्टि से इन मांगों पर उचित कार्रवाई भी करेंगे।

Next Story

विविध

Share it