स्वास्थ्य

यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद की रिसर्च टीम ने मलेरिया के संभावित इलाज का खोजा मार्ग

Janjwar Desk
28 March 2021 2:30 AM GMT
यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद की रिसर्च टीम ने मलेरिया के संभावित इलाज का खोजा मार्ग
x
मॉलिक्यूलर माइक्रोबायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि कैसे परजीवी बुखार की प्रतिक्रिया में संक्रमित लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर मलेरिया प्रोटीन के एक्सप्रेशन में कुशलापूर्वक प्रयोग होते हैं, जो रोग की सबसे आम अभिव्यक्ति है।

हैदराबाद। यूनिवर्सिटी ऑफ हैदराबाद (यूओएच) में शोधकर्ताओं के एक दल ने एक बड़ी खोज की है, जो मलेरिया के संभावित इलाज का वादा करती है। प्रो. मृणाल भट्टाचार्य के नेतृत्व में उनके छात्र वाहिदा तबस्सुम और शालू वरुणान के शोध दल ने बुखार के बीच एक पारस्परिक संबंध (को-रिलेशन) की पहचान की है, जो मलेरिया और मलेरिया परजीवी के एंटीजेनिक रूपांतर से प्रेरित है। टीम ने प्लास्मोडियम फाल्सीपेरम एरिथ्रोसाइट-मेम्ब्रेन-प्रोटीन1 (पीएफईएमपी1), मलेरिया परजीवी से प्रोटीन का अध्ययन किया, जो इस परजीवी में एंटीजेनिक भिन्नता का सबसे प्रमुख आणविक निर्धारक है।

इस प्रोटीन के 90 वेरिएंट हो सकते हैं और एक निश्चित समय में केवल एक प्रोटीन व्यक्त किया जाता है, और यह अभिव्यक्ति पूरी तरह से या²च्छिक (रेंडम) है। ये प्रोटीन कई पीढ़ियों के माध्यम से जीवित नहीं रहते हैं, क्योंकि मलेरिया परजीवी एक प्रोटीन रूप से दूसरे में बदलते रहते हैं, इसलिए ह्यूमन होस्ट इन भिन्न प्रोटीनों के खिलाफ एक मजबूत एंटीबॉडी प्रतिक्रिया को माउंट करने में विफल रहता है।

इसका प्रत्यक्ष प्रभाव मानव प्रतिरक्षा प्रणाली की विफलता के लिए प्रत्येक प्रकार के नए प्रतिजन के खिलाफ पर्याप्त एंटीबॉडी का उत्पादन करना होगा।

मॉलिक्यूलर माइक्रोबायोलॉजी जर्नल में प्रकाशित अध्ययन में बताया गया है कि कैसे परजीवी बुखार की प्रतिक्रिया में संक्रमित लाल रक्त कोशिकाओं की सतह पर मलेरिया प्रोटीन के एक्सप्रेशन में कुशलापूर्वक प्रयोग होते हैं, जो रोग की सबसे आम अभिव्यक्ति है। अध्ययन में पाया कि फेब्राइल तापमान के संपर्क में वायरलेंस जीन की अभिव्यक्ति को नियंत्रित करता है, जो मलेरिया संक्रमण की चपेट में आ सकता है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि प्लास्मोडियम में मास्टर एपिजेनेटिक रेगुलेटर, जिसका नाम पीएफएसआईआर2 है, को स्वयं ट्रांसजेनिक रूप से एपिजेनेटिक मोडिफिकेशन द्वारा नियंत्रित किया जाता है। यह पता चला कि आणविक चैपरॉन एचएसपी90 इस परजीवी में पर्यावरणीय हीट स्ट्रेस और क्रोमैटिन मोडिफिकेशन के बीच महत्वपूर्ण कड़ी के रूप में कार्य करता है।


बुखार के कारण एचएसपी90 का अधिक उत्पादन, पीएफएसआईआर2 नियामक को कम करने का परिणाम है। यह कई विषाणुजनित जीनों की एक साथ अभिव्यक्ति की ओर जाता है, इसलिए यह परजीवियों में प्रतिजन भिन्नता को बढ़ावा देता है।

रिसर्च टीम को पीएफएचएसपी 90 और पीएफएसआईआर2 के बीच की यह महत्वपूर्ण कड़ी मिली है। पीएफएचएसपी 90 का विनियमन अंतत: पीएफएसआईआर 2 की अभिव्यक्ति को जन्म दे सकता है और इससे परजीवी में प्रतिजन भिन्नता कम हो सकती है, इसलिए परजीवियों द्वारा प्रतिरक्षा को रोक दिया जाता है। भविष्य में मलेरिया को सफलतापूर्वक रोकने के लिए एचएसपी90 को नियंत्रित करने के लिए एक दवा बनाना अगला कदम होगा।

प्रोफेसर भट्टाचार्य ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, "हमारी प्रयोगशाला में अन्य शोध कार्यों के दौरान हम कुछ छोटे रासायनिक अणुओं के पार गए, जो एचएसपी90 को बाधित या निष्क्रिय कर सकते हैं। वर्ष के अंत तक या 6 महीने के भीतर हमें उन रसायनों पर ध्यान केंद्रित करना होगा, जो एचएसपी 90 को बाधित कर सकते हैं।" मलेरिया एक जानलेवा रोग है, जो मादा एनोफिलीज मच्छरों के काटने से फैलता है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की 2019 की रिपोर्ट में वैश्विक स्तर पर 22.9 करोड़ मलेरिया मामलों के साथ ही इसकी वजह से 4,09,000 लोगों की मौत का अनुमान लगाया है। इससे 5 वर्ष से कम उम्र के बच्चे सबसे अधिक असुरक्षित होते हैं और दुनिया भर में मलेरिया से होने वाली मौतों में 67 प्रतिशत या 2,74,000 लोग मारे जाते हैं। यह बीमारी को रोकने में विफलता के कारण मानव जाति के लिए एक गंभीर खतरा बना हुआ है। इसलिए इस दिशा में कोई भी महत्वपूर्ण शोध या स्थायी दवा के अलावा वैक्सीन इससे निपटने में मददगार साबित हो सकता है।

Next Story
Share it