राष्ट्रीय

26/11 MumbaiTerrorAttack : खौफ के वो दिन याद कर आज भी सिहर जाते हैं लोग

Janjwar Desk
26 Nov 2021 7:26 AM GMT
26/11 MumbaiTerrorAttack : खौफ के वो दिन याद कर आज भी सिहर जाते हैं लोग
x
26/11 MumbaiTerrorAttack : अंधेरे की आड़ में शहर में प्रवेश करने के बाद आतंकवादियों ने मुंबई के प्रमुख स्थलों को निशाना बनाया। इसमें पहला हमला भीड़भाड़ वाले छत्रपति शिवाजी टर्मिनल रेलवे स्टेशन पर हुआ था।

26/11 MumbaiTerrorAttack : मुंबई पर हुए 26/11 आतंकी हमले की आज 13वीं बरसी ( 13th anniversary ) है। 26 नवंबर, 2008 को हुआ यह भीषण हमला चार दिनों तक चला, जिसमें 166 लोग मारे गए और 300 से अधिक घायल हुए। पाकिस्ताप प्रायोजित इस हमले की दुनियाभर में घोर निंदा हुई। आतंकी हमले में विदेशी नागरिक भी मारे गए थे। इस हमले में घायल व्यक्ति और उनके परिजन उस दिन को याद कर आज भी सिहर उठते हैं।

13 सालों से बिस्तर पर हैं

मुंबई के विले पार्ले की झुग्गियों में रहने वाले श्याम सुंदर चौधरी रोज की तरह टैक्सी चला रहे थे। वह और उसके परिवार का जीवन उस समय बदल गया जब आतंकवादियों द्वारा चलाई गई एक गोली उसे लगी। वह बच गया लेकिन इस घटना के बाद वो हमेशा के लिए लकवाग्रस्त और अपाहिज हो गया। मीडिया एजेंसी एएनआई से बातचीत में श्याम सुंदर चौधरी की पत्नी बेबी चौधरी ने कहा कि तेरह साल बीत चुके हैं। मेरे पति ड्यूटी के लिए जा रहे थे। जैसे ही उन्होंने हाईवे पार किया, एक कार सिग्नल को तोड़ते हुए दौड़ी। उन्होंने मेरे पति पर गोलियां चलाईं। गोलियां उनके सिर और कंधे में लगीं। इस घटना के बाद, मेरे पति की याददाश्त खोने लगी और वह पूरी तरह से बिस्तर पर आ गए। वह चल, बोल और खा भी नहीं सकते। वह केवल देख और सुन सकते हैं। पिछले 13 वर्षों से, वह बिस्तर पर हैं।

टाटा ट्रस्ट् को धन्यवाद

सरकार द्वारा केवल 1.5 लाख रुपए प्रदान किए गए। फिर वह परिवार चलाने के लिए एक सुरक्षा गार्ड के रूप में काम करने लगी। उन्होंने कहा कि मुझे नौकरी के लिए दर-दर भटकना पड़ा, लेकिन किसी ने कुछ नहीं दिया। फिर मैंने सुरक्षा गार्ड के रूप में निजी कंपनियों में काम करना शुरू कर दिया। टाटा ट्रस्ट को धन्यवाद, जिन्होंने मेरे बच्चों की पढ़ाई की जिम्मेदारी ली। बेबी ने कहा कि 2020 में उन्हें सुरक्षा गार्ड की नौकरी छोड़नी पड़ी क्योंकि उनकी सास का निधन हो गया था।

अगर मैं नौकरी पर जाऊंगी तो मेरे पति की देखभाल कौन करेगा क्योंकि वह चल नहीं सकता। मुझे उसे खाना खिलाना है, उसे दवाएं देना है। मेरे पति की दवा, डायपर की व्यवस्था करना मुश्किल हो रहा है। मैंने अपने बच्चों को अपनी मां के पास भेज दिया है। अब घर चलाना और मुश्किल हो गया है। कोई मदद के लिए नहीं आता है। श्याम सुंदर चौधरी का बेटा टाटा ट्रस्ट की मदद से होटल मैनेजमेंट की पढ़ाई कर रहा है जबकि बेटी बारहवीं में पढ़ रही है। बेबी को उम्मीद है कि उनके बच्चों के बसने के बाद मुश्किलों के बादल छंट जाएंगे।

जान तो बच गई, उस दिन को यादकर डर जाता हूं

इसी तरह रेलवे सुरक्षा बल ( आरपीएफ ) के जवान जिलो यादव की छत्रपति शिवाजी महाराज टर्मिनल ( सीएसटी ) में ड्यूटी थी। अजमल कसाब यादव पर उस समय गोली चलाई जब उसके साथी आतंकवादी सीएसटी पर लोगों पर फायरिंग कर रहे थे। उस दिन को याद करते हुए जिलो यादव ने कहा कि मेरी नाइट ड्यूटी थी। रात करीब साढ़े नौ बजे सीएसटी में मेन लाइन सेक्शन में फायरिंग हुई। लोग भागने लगे तो किसी ने मुझे बताया कि दो आतंकी लोगों पर फायरिंग कर रहे हैं। आतंकवादी लोकल लाइन सेक्शन में पहुंच गए। मैंने देखा कि वे अपनी बंदूकें फिर से लोड कर रहे हैं। मैंने वहां पुलिस कर्मियों की सर्विस राइफल ली और उन पर फायरिंग की।

हालांकि, गोली उन्हें नहीं लगी। फिर उन्होंने मुझ पर फायरिंग शुरू कर दी और मैं दीवार के पीछे कवर ले लिया। सर्विस राइफल जो मैंने मारा था। वे मेरे पीछे भागे और फायरिंग जारी रखी। किसी तरह मैं खंभे और दीवारों के बीच कवर करने में कामयाब रहा मुझे एक कुर्सी मिली और उसे एक आतंकवादी पर फेंक दिया। फिर वे स्टेशन के बाहर चले गए। मैं, भाग्यशाली था कि मैं बच गया। आज भी जब मुझे वह घटना याद आती है, तो मैं सदमे से भर जाता हूं। उन्होंने जोर देकर कहा कि सुरक्षा कर्मियों को उपलब्ध कराए गए हथियारों को अपग्रेड करने की जरूरत है।

26/11 MumbaiTerrorAttack : अंधेरे की आड़ में शहर की ओर जाने के बाद आतंकवादियों ने मुंबई के प्रमुख स्थलों को निशाना बनाया। इसमें पहला हमला भीड़भाड़ वाले छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (सीएसटी) रेलवे स्टेशन पर हुआ। अजमल कसाब और इस्माइल खान ने इस स्टेशन पर हमला किया, जिसमें 58 लोग मारे गए और 100 से अधिक घायल हो गए। बाद में कसाब और खान ने कामा अस्पताल पर हमला करने के लिए प्रवेश किया, लेकिन अस्पताल के कर्मचारियों की सतर्कता से इसे विफल कर दिया गया। हालांकि, उन्होंने अस्पताल से निकलने के बाद शहर के आतंकवाद निरोधी दस्ते हेमंत करकरे सहित 6 पुलिस अधिकारियों को घात लगाकर मार गिराया।

बेबी मोशे : ऐसे बना आतंकवाद के शिकार मासूमों का चेहरा

आतंकी हमले का दूसरा स्थान नरीमन हाउस व्यवसाय और आवासीय परिसर था जहां एक रब्बी, उसकी पत्नी और पांच इजरायली नागरिकों सहित छह अन्य को आतंकवादियों ने मार डाला। मारने से पहले आतंकियों ने उन्हें बंधक बनाया था। हमले में रब्बी दंपति का दो साल का बच्चा मोशे बच गया। फिर 'बेबी मोशे' बेरहम आतंकवाद का शिकार हुए मासूमों का चेहरा बन गया।

ताज होटल में की 31 की हत्या

26/11 के हमले ( 26/11 MumbaiTerrorAttack ) में आने वाली तीसरी साइट लियोपोल्ड कैफे थी जिसके बाद ताज महल होटल और टॉवर था। चार आतंकवादियों ने प्रतिष्ठित ताज होटल में प्रवेश करने से पहले प्रसिद्ध कैफे पर हमला किया, जहां उन्होंने होटल में तीन दिन की घेराबंदी करने के बाद 31 लोगों को मार डाला। ओबेरॉय-ट्राइडेंट होटल में भी आतंकियों ने घटना को अंजाम दिया।

इस हमले को अंजाम देने 10 लश्कर-ए-तैयबा के आतंकवादी पाकिस्तान से समुद्री मार्ग से मुंबई आए और 26 नवंबर, 2011 को शहर भर में गोलीबारी और बमबारी हमलों की एक श्रृंखला को अंजाम दिया। अंधेरे की आड़ में शहर की ओर जाने के बाद आतंकवादियों ने मुंबई के प्रमुख स्थलों को निशाना बनाया जिसमें पहला हमला भीड़भाड़ वाले छत्रपति शिवाजी टर्मिनस ( सीएसटी ) रेलवे स्टेशन पर हुआ।

Next Story

विविध

Share it