राष्ट्रीय

यास तूफान के कारण अब तक 3 की हुई मौत, उड़ीसा व बंगाल को भारी नुकसान

Janjwar Desk
27 May 2021 3:09 AM GMT
यास तूफान के कारण अब तक 3 की हुई मौत, उड़ीसा व बंगाल को भारी नुकसान
x

तूफान प्रभावित बंगाल के मेदिनीपुर का एक दृश्य

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अनुसार तूफ़ान के कारण 3 लाख घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। जिसके चलते एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं।

जनज्वार ब्यूरो, दिल्ली। यास तूफान ने उड़ीसा व बंगाल में भारी तबाही मचाई है। अब तक मिली जानकारी के अनुसार तूफ़ान के कारण 3 लोगों की मौत हो गई है। उड़ीसा में 2 लोगों की मृत्यु तथा पश्चिम बंगाल में 1 मछुआरे की मृत्यु की खबर है।

ओडिशा और पश्चिम बंगाल में 130 से 140 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाओं के साथ समुद्री तटों से टकराने के बाद बुधवार की दोपहर के बाद भीषण चक्रवाती तूफान यास कमजोर पड़ गया है।आज यह तूफ़ान झारखण्ड में है। जिसका असर बिहार, उत्तर प्रदेश में भी दिखाई देगा।

उड़ीसा में कितना हुआ नुकसान-

उड़ीसा में चक्रवात के कारण हुए भूस्खलन में बालासोर जिले के तीन समुद्र तटीय गांव बनजोका, चरिगोछिया और नौपलागडी जल मग्न हो गये हैं। इस कारण क्षेत्र के 5000 लोग प्रभावित हुए हैं। इसी तरह भद्रक जिले के बासुदेवपुर ब्लॉक में भी अचानक आई बाढ़ से 10 गांव प्रभावित हुए हैं।

उड़ीसा में 2 प्रारंभिक रिपोर्टों के अनुसार तूफान के कारण 2 लोगों की मृत्यु हुई है। एक मृतक बालासोर जिले से है जबकि दूसरा क्योंझर जिले से है। दोनों की मृत्यु हवाओं के कारण उखड़े पेड़ों के नीचे दब जाने से हुई है।

उड़ीसा में संवेदनशील क्षेत्रों से 5.80 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है।

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने कल शाम बुधवार को चक्रवात के बाद की स्थिति की समीक्षा की और चक्रवात प्रभावित जिलों के 128 गांवों के परिवारों को 7 दिनों के राशन और अन्य आपूर्ति की घोषणा की है। मुख्यमंत्री के द्वारा दी गयी जानकारी केअ नुसार तूफान के कारण क्षतिग्रस्त सड़कों की मरम्मत का काम शुरू हो गया और अगले 24 घंटे में 80% बिजली आपूर्ति बहाल होने की उम्मीद है।

पश्चिम बंगाल में कितना हुआ नुकसान-

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के अनुसार तूफ़ान के कारण 3 लाख घर क्षतिग्रस्त हुए हैं। जिसके चलते एक करोड़ लोग प्रभावित हुए हैं।राज्य में 15 लाख लोगों को समुद्र तटीय क्षेत्रों से शरण स्थलों में पहुंचाया गया है। मछलियां पकड़ने वाले एक व्यक्ति की मृत्यु हुई है। उन्होंने दावा किया कि बंगाल चक्रवात से सबसे अधिक प्रभावित हुआ है। बनर्जी ने कहा है कि नुकसान संबंधी सटीक जानकारी मिलने में कम से कम 72 घंटे लगेंगे।

बंगाल के हल्दिया में सेना, एनडीआरएफ और तटरक्षक दल के लोग बचाव अभियान में लगे हुए हैं। प्रभावित हुए लोगों के लिए नौसेना का जहाज आईएनएस चिल्का में राहत सामग्री लेकर खुर्दा पहुंचा है। चांदीपुरा अब्दुल कलाम आईलैंड पर मिसाइल लॉन्चिंग साइट को भी नुकसान पहुंचा है।

बालासोर जिले के साथ सीमा साझा करने वाले पूर्वी मिदनापुर का दीघा पूरी तरह से जलमग्न हो गया है। राहत एवं बचाव कार्य के लिए सेना को बुलाया गया है।

अब झारखंड और बिहार में तूफान का असर-

यास तूफान झारखंड पहुंच चुका है। झारखंड में 60 से 70 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चल रही है। राहत एवं बचाव कार्य किए जा रहे हैं। यास तूफान का प्रभाव बिहार व पूर्वी उत्तर प्रदेश में भी दिखेगा। बिहार के कई जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है।

Next Story

विविध

Share it